BackBack

Hari Ghaas Ki Chhappar Wali Jhopadi Aur Bauna Pahad

Rs. 395

विनोद कुमार शुक्ल ने उपन्यास के क्षेत्र में एक नए मुहावरे का आविष्कार किया है। वे उपन्यास के फ़ार्म की जड़ता को जड़ से उखाड़कर, सजगतापूर्वक नए फ़ार्म और शिल्प का लहलहाता हुआ नया संसार रचते हैं। ‘हरी घास की छप्पर वाली झोपड़ी और बौना पहाड़’ उनका चर्चित उपन्यास है।... Read More

Description

विनोद कुमार शुक्ल ने उपन्यास के क्षेत्र में एक नए मुहावरे का आविष्कार किया है। वे उपन्यास के फ़ार्म की जड़ता को जड़ से उखाड़कर, सजगतापूर्वक नए फ़ार्म और शिल्प का लहलहाता हुआ नया संसार रचते हैं।
‘हरी घास की छप्पर वाली झोपड़ी और बौना पहाड़’ उनका चर्चित उपन्यास है। इसे विनोद जी ने किशोर, बड़ों और बच्चों का उपन्यास माना है। इस उपन्यास में बच्चों की मित्रता के साथ ही अमलताश वाला पेड़ है, हरेवा नाम का पक्षी है, बुलबुल, कोतवाल, शौबीजी, किलकिला, दैयार, दर्जी, मधुमक्खी का छत्ता और छोटा पहाड़ है। इसे फ़ैंटेसी कहें या जादुई यथार्थवाद या फिर हो सकता है कि आलोचकों को विनोद जी की इस भाषा, शैली और कल्पनाशीलता के लिए कोई नया ही नाम गढ़ना पड़े।
फ़ंतासी की इस बुनावट में एक ताज़गी और नयापन है। गल्प व कल्प की जुगलबन्दी में गद्य और पद्य की सीमा रेखा मिटती जाती है। सच तो यह है कि विनोद कुमार शुक्ल के कल्पना-जगत में भी वास्तविक संसार ऐसा है जो जीवन्त और रचनात्मकता के आनन्द से भरा-पूरा है।
उपन्यास में बच्चों की सपनीली दुनिया जैसी सुन्दर बातें हैं। भाषा की चमक के साथ भाषा का संगीत भी कथा को मोहक बनाता है। भाषा का आन्तरिक गठन कथ्य के साथ ही वर्तमान के बोध को भी जीवन्त बनाता है।
हमारी और बच्चों की भागती-दौड़ती ज़िन्दगी में मीडिया की मायावी संस्कृति, सबको बाज़ार या ग्लोबल मंडी में जकड़ लेना चाहती है, इन्टरनेट, चिटचेट के साथ उत्तेजनामूलक समाचारों के बीच परम्परा और संस्कृति में मिली दादी-नानी की कहानियों से बच्चे दूर होते जा रहे हैं। ऐसे जटिल समय में भी प्रकृति और परम्परा से सम्पृक्त ‘हरी घास की छप्पर वाली झोपड़ी’ उपन्यास की यह नई संरचना अनूठी है। Vinod kumar shukl ne upanyas ke kshetr mein ek ne muhavre ka aavishkar kiya hai. Ve upanyas ke farm ki jadta ko jad se ukhadkar, sajagtapurvak ne farm aur shilp ka lahalhata hua naya sansar rachte hain. ‘hari ghas ki chhappar vali jhopdi aur bauna pahad’ unka charchit upanyas hai. Ise vinod ji ne kishor, badon aur bachchon ka upanyas mana hai. Is upanyas mein bachchon ki mitrta ke saath hi amaltash vala ped hai, hareva naam ka pakshi hai, bulbul, kotval, shaubiji, kilakila, daiyar, darji, madhumakkhi ka chhatta aur chhota pahad hai. Ise faintesi kahen ya jadui yatharthvad ya phir ho sakta hai ki aalochkon ko vinod ji ki is bhasha, shaili aur kalpnashilta ke liye koi naya hi naam gadhna pade.
Fantasi ki is bunavat mein ek tazgi aur nayapan hai. Galp va kalp ki jugalbandi mein gadya aur padya ki sima rekha mitti jati hai. Sach to ye hai ki vinod kumar shukl ke kalpna-jagat mein bhi vastvik sansar aisa hai jo jivant aur rachnatmakta ke aanand se bhara-pura hai.
Upanyas mein bachchon ki sapnili duniya jaisi sundar baten hain. Bhasha ki chamak ke saath bhasha ka sangit bhi katha ko mohak banata hai. Bhasha ka aantrik gathan kathya ke saath hi vartman ke bodh ko bhi jivant banata hai.
Hamari aur bachchon ki bhagti-daudti zindagi mein midiya ki mayavi sanskriti, sabko bazar ya global mandi mein jakad lena chahti hai, intarnet, chitchet ke saath uttejnamulak samacharon ke bich parampra aur sanskriti mein mili dadi-nani ki kahaniyon se bachche dur hote ja rahe hain. Aise jatil samay mein bhi prkriti aur parampra se samprikt ‘hari ghas ki chhappar vali jhopdi’ upanyas ki ye nai sanrachna anuthi hai.