Look Inside
Ghungroo
Ghungroo
Ghungroo
Ghungroo

Ghungroo

Regular price ₹ 207
Sale price ₹ 207 Regular price ₹ 223
Unit price
Save 6%
6% off
Tax included.

Size guide

Pay On Delivery Available

Rekhta Certified

7 Day Easy Return Policy

Ghungroo

Ghungroo

Cash-On-Delivery

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7-Days-Replacement

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

श्रीमती शान्ति कुमारी बाजपेयी का उपन्यास ‘घुँघरू’ अर्द्धनारीश्वर की वाङ्मयी साधना में अर्पित एक पुष्प है। प्रकृति ने मानव को स्त्री और पुरुष—दो रूपों में अभिव्यक्ति दी है। इन दोनों स्वरूपों की क्षमताएँ, कार्यपद्धति और उपलब्धियाँ भिन्न-भिन्न हैं। परन्तु वे एक साथ मिलकर ही परिपूर्ण हो पाती हैं और सृष्टि में अपनी सार्थकता प्रकट करती हैं। पुरुष अपने पौरुष से सर्वस्व प्राप्त कर सकता है तो नारी अपने प्रेम से सर्वस्व त्याग कर सकती है। पुरुष का धर्म—साहस, सिद्धि और शक्ति है तो नारी का धर्म—ममता, विश्वास और सेवा है। पुरुष की सार्थकता अर्जन में और नारी की सार्थकता समर्पण में दिखाई पड़ती है। ये दोनों विभूतियाँ जब एक साथ मिलकर अपनी भूमिकाओं को चरितार्थ करती हैं तो विधाता की कल्याणी सृष्टि विकसित होकर मंगल के महासमुद्र में पर्यवसित होती है। दोनों के सम्मिलन में ही परिपूर्णता है—अर्द्धनारीश्वर स्वरूप का रहस्य यही है और प्रस्तुत उपन्यास में इसी की प्रतिष्ठा है।
भारतीय संस्कृति में जिन उदात्त मानवीय विभूतियों और मूल्यों की प्रतिष्ठा है, उनकी सार्थकता भी प्रस्तुत उपन्यास में दिखाई गई है। शिव बिना शक्ति के शव है और शक्ति जब उसके साथ मिलती है तो शिवत्व आश्चर्यजनक ढंग से संसार में अभिव्यक्त हो सकता है—भारतीय जीवन में पुरुष और नारी इसी भूमिका में प्रतिष्ठित किए गए हैं। प्रस्तुत उपन्यास के पात्र इसी रूप में जीकर लोक-कल्याण की साधना में निरत हैं। प्रेम का अत्यन्त उदात्त, संयत और धर्म से ध्रुव निश्चित स्वरूप यहाँ विद्यमान है जो आँसुओं से चरितार्थ होकर कल्याण के महासमुद्र में मिलता है। उपन्यास की भाषा-शैली और वर्णन सौष्ठव की अपनी गरिमा है जो अपने मन्तव्य को पूर्णरूपेण अभिव्यक्त करने में सफल है।
प्रस्तुत उपन्यास के द्वारा हिन्दी साहित्य की श्रीवृद्धि तो होती ही है, साथ ही भारतीय सांस्कृतिक मूल्यों की अमर प्रतिष्ठा का भी यह अन्यतम साधन है। भारतीय मनीषा को इससे परितोष मिल सकेगा। Shrimti shanti kumari bajpeyi ka upanyas ‘ghungharu’ arddhnarishvar ki vanmyi sadhna mein arpit ek pushp hai. Prkriti ne manav ko stri aur purush—do rupon mein abhivyakti di hai. In donon svrupon ki kshamtayen, karypaddhati aur uplabdhiyan bhinn-bhinn hain. Parantu ve ek saath milkar hi paripurn ho pati hain aur srishti mein apni sarthakta prkat karti hain. Purush apne paurush se sarvasv prapt kar sakta hai to nari apne prem se sarvasv tyag kar sakti hai. Purush ka dharm—sahas, siddhi aur shakti hai to nari ka dharm—mamta, vishvas aur seva hai. Purush ki sarthakta arjan mein aur nari ki sarthakta samarpan mein dikhai padti hai. Ye donon vibhutiyan jab ek saath milkar apni bhumikaon ko charitarth karti hain to vidhata ki kalyani srishti viksit hokar mangal ke mahasmudr mein paryavsit hoti hai. Donon ke sammilan mein hi paripurnta hai—arddhnarishvar svrup ka rahasya yahi hai aur prastut upanyas mein isi ki pratishta hai. Bhartiy sanskriti mein jin udatt manviy vibhutiyon aur mulyon ki pratishta hai, unki sarthakta bhi prastut upanyas mein dikhai gai hai. Shiv bina shakti ke shav hai aur shakti jab uske saath milti hai to shivatv aashcharyajnak dhang se sansar mein abhivyakt ho sakta hai—bhartiy jivan mein purush aur nari isi bhumika mein prtishthit kiye ge hain. Prastut upanyas ke patr isi rup mein jikar lok-kalyan ki sadhna mein nirat hain. Prem ka atyant udatt, sanyat aur dharm se dhruv nishchit svrup yahan vidyman hai jo aansuon se charitarth hokar kalyan ke mahasmudr mein milta hai. Upanyas ki bhasha-shaili aur varnan saushthav ki apni garima hai jo apne mantavya ko purnrupen abhivyakt karne mein saphal hai.
Prastut upanyas ke dvara hindi sahitya ki shrivriddhi to hoti hi hai, saath hi bhartiy sanskritik mulyon ki amar pratishta ka bhi ye anytam sadhan hai. Bhartiy manisha ko isse paritosh mil sakega.

Shipping & Return
  • Over 27,000 Pin Codes Served: Nationwide Delivery Across India!

  • Upon confirmation of your order, items are dispatched within 24-48 hours on business days.

  • Certain books may be delayed due to alternative publishers handling shipping.

  • Typically, orders are delivered within 5-7 days.

  • Delivery partner will contact before delivery. Ensure reachable number; not answering may lead to return.

  • Study the book description and any available samples before finalizing your order.

  • To request a replacement, reach out to customer service via phone or chat.

  • Replacement will only be provided in cases where the wrong books were sent. No replacements will be offered if you dislike the book or its language.

Note: Saturday, Sunday and Public Holidays may result in a delay in dispatching your order by 1-2 days.

Offers & Coupons

Use code FIRSTORDER to get 10% off your first order.


Use code REKHTA10 to get a discount of 10% on your next Order.


You can also Earn up to 20% Cashback with POP Coins and redeem it in your future orders.

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products