BackBack
-11%

Gandhi Aur Samaj

Rs. 595 Rs. 530

गांधी के जीवन और विरोधाभासों को देखें तो कहा जा सकता है कि उनका व्यक्तित्व और दर्शन एक सतत बनती हुई इकाई था। एक निर्माणाधीन इमारत जिसमें हर क्षण काम चलता था। उनका जीवन भी प्रयोगशाला था, मन भी। एक अवधारणा के रूप में गांधी उसी तरह एक सूत्र के... Read More

Description

गांधी के जीवन और विरोधाभासों को देखें तो कहा जा सकता है कि उनका व्यक्तित्व और दर्शन एक सतत बनती हुई इकाई था। एक निर्माणाधीन इमारत जिसमें हर क्षण काम चलता था। उनका जीवन भी प्रयोगशाला था, मन भी। एक अवधारणा के रूप में गांधी उसी तरह एक सूत्र के रूप में हमें मिलते हैं जिस तरह मार्क्स; यह हमारे ऊपर है कि हम अपने वर्तमान और भविष्य को उस सूत्र से कैसे समझें।
यही वजह है कि गोली से मार दिए जाने, बीच-बीच में उन्हें अप्रासंगिक सिद्ध करने और जाने कितनी ऐतिहासिक ग़लतियों का ज़‍िम्मेदार ठहराए जाने के बावजूद वे बचे रहते हैं; और रहेंगे। उनकी हत्या करनेवाली ताक़तों के वर्चस्व के बाद भी वे होंगे। वे कोई पूरी लिखी जा चुकी धर्म-पुस्तिका नहीं हैं, वे जीने की एक पद्धति हैं जिसका अन्वेषण हमेशा जारी रखे जाने की माँग करता है।
‘पहला गिरमिटिया’ लिखकर गांधी-चिन्तक के रूप में प्रतिष्ठित हुए, वरिष्ठ हिन्दी कथाकार गिरिराज किशोर ने अपने इन आलेखों, वक्तव्यों और व्याख्यानों में उन्हें अलग-अलग कोणों से समझने और समझाने की कोशिश की है। ये सभी आलेख पिछले कुछ वर्षों में अलग-अलग मौक़ों पर लिखे गए हैं; इसलिए इनके सन्दर्भ नितान्त समकालीन हैं; और आज की निगाह से गांधी को देखते हैं। इन आलेखों में ‘व्यक्ति गांधी’ और ‘विचार गांधी’ के विरुद्ध इधर ज़ोर पकड़ रहे संगठित दुष्प्रचार को भी रेखांकित किया गया है; और उनके हत्यारे को पूजनेवाली मानसिकता की हिंस्र संरचना को भी चिन्ता व चिन्तन का विषय बनाया गया है। Gandhi ke jivan aur virodhabhason ko dekhen to kaha ja sakta hai ki unka vyaktitv aur darshan ek satat banti hui ikai tha. Ek nirmanadhin imarat jismen har kshan kaam chalta tha. Unka jivan bhi pryogshala tha, man bhi. Ek avdharna ke rup mein gandhi usi tarah ek sutr ke rup mein hamein milte hain jis tarah marks; ye hamare uupar hai ki hum apne vartman aur bhavishya ko us sutr se kaise samjhen. Yahi vajah hai ki goli se maar diye jane, bich-bich mein unhen aprasangik siddh karne aur jane kitni aitihasik galatiyon ka za‍immedar thahraye jane ke bavjud ve bache rahte hain; aur rahenge. Unki hatya karnevali taqton ke varchasv ke baad bhi ve honge. Ve koi puri likhi ja chuki dharm-pustika nahin hain, ve jine ki ek paddhati hain jiska anveshan hamesha jari rakhe jane ki mang karta hai.
‘pahla giramitiya’ likhkar gandhi-chintak ke rup mein prtishthit hue, varishth hindi kathakar giriraj kishor ne apne in aalekhon, vaktavyon aur vyakhyanon mein unhen alag-alag konon se samajhne aur samjhane ki koshish ki hai. Ye sabhi aalekh pichhle kuchh varshon mein alag-alag mauqon par likhe ge hain; isaliye inke sandarbh nitant samkalin hain; aur aaj ki nigah se gandhi ko dekhte hain. In aalekhon mein ‘vyakti gandhi’ aur ‘vichar gandhi’ ke viruddh idhar zor pakad rahe sangthit dushprchar ko bhi rekhankit kiya gaya hai; aur unke hatyare ko pujnevali manasikta ki hinsr sanrachna ko bhi chinta va chintan ka vishay banaya gaya hai.