BackBack
-11%

Gadha Ka Gond Rajya

Rs. 350 Rs. 312

यह पुस्तक भारत के मध्य भाग के इतिहास के एक विस्मृत अध्याय को और गोंडों के गौरवशाली अतीत को उजागर करनेवाला एक दस्तावेज़ है। गढ़ा का गोंड राज्य बहुधा मुग़ल सम्राट अकबर की सेना से लोहा लेनेवाली वीरांगना रानी दुर्गावती के सन्दर्भ में ही याद किया जाता है और शेष... Read More

BlackBlack
Description

यह पुस्तक भारत के मध्य भाग के इतिहास के एक विस्मृत अध्याय को और गोंडों के गौरवशाली अतीत को उजागर करनेवाला एक दस्तावेज़ है। गढ़ा का गोंड राज्य बहुधा मुग़ल सम्राट अकबर की सेना से लोहा लेनेवाली वीरांगना रानी दुर्गावती के सन्दर्भ में ही याद किया जाता है और शेष इतिहास एक धुँधले आवरण से आवृत रहा है। यह आश्चर्य की बात है कि केवल दो सौ साल पहले समाप्त होनेवाले इस विशाल देशी राज्य के बारे में अभी तक बहुत कम जानकारी रही है।
इस कृति में लेखक ने फ़ारसी, संस्कृत, मराठी, हिन्दी और अंग्रेज़ी स्रोतों के आधार पर गढ़ा राज्य का प्रामाणिक एवं क्रमबद्ध इतिहास प्रस्तुत किया है। वे सभी कड़ियाँ जोड़ दी गई हैं, जो अभी तक अज्ञात थीं। पुस्तक बताती है कि पन्द्रहवीं सदी के प्रारम्भ में विंध्य और सतपुड़ा और विन्ध्याचल के अंचल में गोंड राजाओं ने जिस राज्य की स्थापना की वह क्रमशः गढ़ा, गढ़ा-कटंगा और गढ़ा-मंडला के नाम से विख्यात हुआ। गढ़ा का गोंड राज्य यद्यपि सोलहवीं सदी में मुग़लों के अधीन हो गया, तथापि न्यूनाधिक विस्तार के साथ यह अठारहवीं सदी तक मौजूद रहा। सोलहवीं सदी में अपने चरमोत्कर्ष काल में यह राज्य उत्तर में पन्ना से दक्षिण में भंडारा तक और पश्चिम में भोपाल से लेकर पूर्व में अमरकंटक के आगे लाफागढ़ तक फैला हुआ था और 1784 में मराठों के हाथों समाप्त होने के समय भी यह वर्तमान मंडला, डिंडोरी, जबलपुर, कटनी और नरसिंहपुर ज़िलों और कुछ अन्य क्षेत्रों में फैला था। यह विस्तृत राज्य पौने तीन सौ वर्षों तक लगातार अस्तित्व में रहा, यह स्वयं में एक उल्लेखनीय बात है।
राजनीतिक विवरण के साथ ही यह कृति उस काल की सांस्कृतिक गतिविधियों का परिचय देते हुए बताती है कि आम धारणा के विपरीत गोंड शासक साहित्य, कला और लोक कल्याण के प्रति भी जागरूक थे। Ye pustak bharat ke madhya bhag ke itihas ke ek vismrit adhyay ko aur gondon ke gauravshali atit ko ujagar karnevala ek dastavez hai. Gadha ka gond rajya bahudha mugal samrat akbar ki sena se loha lenevali virangna rani durgavti ke sandarbh mein hi yaad kiya jata hai aur shesh itihas ek dhundhale aavran se aavrit raha hai. Ye aashcharya ki baat hai ki keval do sau saal pahle samapt honevale is vishal deshi rajya ke bare mein abhi tak bahut kam jankari rahi hai. Is kriti mein lekhak ne farsi, sanskrit, marathi, hindi aur angrezi sroton ke aadhar par gadha rajya ka pramanik evan krambaddh itihas prastut kiya hai. Ve sabhi kadiyan jod di gai hain, jo abhi tak agyat thin. Pustak batati hai ki pandrahvin sadi ke prarambh mein vindhya aur satapuda aur vindhyachal ke anchal mein gond rajaon ne jis rajya ki sthapna ki vah krmashः gadha, gadha-katanga aur gadha-mandla ke naam se vikhyat hua. Gadha ka gond rajya yadyapi solahvin sadi mein muglon ke adhin ho gaya, tathapi nyunadhik vistar ke saath ye atharahvin sadi tak maujud raha. Solahvin sadi mein apne charmotkarsh kaal mein ye rajya uttar mein panna se dakshin mein bhandara tak aur pashchim mein bhopal se lekar purv mein amarkantak ke aage laphagadh tak phaila hua tha aur 1784 mein marathon ke hathon samapt hone ke samay bhi ye vartman mandla, dindori, jabalpur, katni aur narsinhpur zilon aur kuchh anya kshetron mein phaila tha. Ye vistrit rajya paune tin sau varshon tak lagatar astitv mein raha, ye svayan mein ek ullekhniy baat hai.
Rajnitik vivran ke saath hi ye kriti us kaal ki sanskritik gatividhiyon ka parichay dete hue batati hai ki aam dharna ke viprit gond shasak sahitya, kala aur lok kalyan ke prati bhi jagruk the.