BackBack
-11%

Ek Shunya Bajirao

Rs. 150 Rs. 134

कवि, कहानीकार तथा प्रगल्भ उपन्यासकार खानोलकर के नाटकों में दु:ख के कई रूप उभरकर आते हैं। नियति और मानव का रिश्ता क्या है? पाप–पुण्य आदि संकल्पनाओं के बारे में वे क्या सोचते हैं? यह हमें उनके नाटकों से पता चलता है। खानोलकर की कविता उनकी जीवनसखी थी। उनके सहे दु:खों... Read More

BlackBlack
Sold By: Rajkamal Categories: Rajkamal Prakashan Books Tags: Drama
Description

कवि, कहानीकार तथा प्रगल्भ उपन्यासकार खानोलकर के नाटकों में दु:ख के कई रूप उभरकर आते हैं। नियति और मानव का रिश्ता क्या है? पाप–पुण्य आदि संकल्पनाओं के बारे में वे क्या सोचते हैं? यह हमें उनके नाटकों से पता चलता है। खानोलकर की कविता उनकी जीवनसखी थी। उनके सहे दु:खों का अन्धकार उनकी कविताओं में अभिव्यक्त होता है। दु:ख के स्वीकार की अनिवार्यता से ही दु:ख की ओर एक तटस्थता से, एक तत्त्वज्ञ की भाँति देखने की शक्ति शायद उन्हें मिली थी।
कवि, कहानीकार तथा उपन्यासकार के रूप में ख्याति अर्जित कर चुके खानोलकर ने नाटक लेखन बड़ी देर बाद शुरू किया। सन् 1966 में उनका बहुचर्चित नाटक ‘एक शून्य बाजीराव’ मंच पर आया और पुस्तक रूप में भी छपा। अनेकों रंग–शैलियों को अपने में समा लेनेवाला बाजीराव अपने आपको कई माध्यमों में प्रकट करता है। कभी वह विदूषक के अन्दाज़ में खड़ा हो जाता है, तो कभी भागवतकार, कथाकार या कीर्तनकार की शैली में कोई आख्यान लगा देता है। कभी सर्कस के मसखरे–सी हरकतें करता, कलाबाज़ियाँ करता, अपने अंग–प्रत्यंग की अभिव्यक्ति से आशय को समृद्ध करता है, तो कभी एकल नाटक–सा आत्मगत शुरू कर देता है। कभी उसकी भाषा में संस्कृत वाणी की काव्यात्मकता होती है, तो कभी महानुभाव पन्थी रचनाकारों की रहस्यमयी लाडली मिठास–भरी गेयता, कभी लोक नाटकों का चटखारे–भरा मुँहफट व्यंग्य, तो कभी किसी विवेकी विद्वान की गरिमा–भरी गम्भीरता। इन सभी आविष्कारों में अपना दु:ख, वेदना और विकार प्रकट करते बाजीराव का चरित्र आकार लेता है। इसी कारण न केवल मराठी रंगमंच का बल्कि आधुनिक भारतीय रंगमंच का बाजीराव एक मुखर ‘अभिनय उद्गार’ है। रंगकर्मियों के लिए एक बहुत बड़ा आह्वान। Kavi, kahanikar tatha prgalbh upanyaskar khanolkar ke natkon mein du:kha ke kai rup ubharkar aate hain. Niyati aur manav ka rishta kya hai? pap–punya aadi sankalpnaon ke bare mein ve kya sochte hain? ye hamein unke natkon se pata chalta hai. Khanolkar ki kavita unki jivanaskhi thi. Unke sahe du:khon ka andhkar unki kavitaon mein abhivyakt hota hai. Du:kha ke svikar ki anivaryta se hi du:kha ki or ek tatasthta se, ek tattvagya ki bhanti dekhne ki shakti shayad unhen mili thi. Kavi, kahanikar tatha upanyaskar ke rup mein khyati arjit kar chuke khanolkar ne natak lekhan badi der baad shuru kiya. San 1966 mein unka bahucharchit natak ‘ek shunya bajirav’ manch par aaya aur pustak rup mein bhi chhapa. Anekon rang–shailiyon ko apne mein sama lenevala bajirav apne aapko kai madhymon mein prkat karta hai. Kabhi vah vidushak ke andaz mein khada ho jata hai, to kabhi bhagavatkar, kathakar ya kirtankar ki shaili mein koi aakhyan laga deta hai. Kabhi sarkas ke masakhre–si harakten karta, kalabaziyan karta, apne ang–pratyang ki abhivyakti se aashay ko samriddh karta hai, to kabhi ekal natak–sa aatmgat shuru kar deta hai. Kabhi uski bhasha mein sanskrit vani ki kavyatmakta hoti hai, to kabhi mahanubhav panthi rachnakaron ki rahasyamyi ladli mithas–bhari geyta, kabhi lok natkon ka chatkhare–bhara munhaphat vyangya, to kabhi kisi viveki vidvan ki garima–bhari gambhirta. In sabhi aavishkaron mein apna du:kha, vedna aur vikar prkat karte bajirav ka charitr aakar leta hai. Isi karan na keval marathi rangmanch ka balki aadhunik bhartiy rangmanch ka bajirav ek mukhar ‘abhinay udgar’ hai. Rangkarmiyon ke liye ek bahut bada aahvan.

Additional Information
Color

Black

Publisher
Language
ISBN
Pages
Publishing Year