Look Inside
Ek Bataa Do
Ek Bataa Do
Ek Bataa Do
Ek Bataa Do
Ek Bataa Do
Ek Bataa Do

Ek Bataa Do

Regular price Rs. 185
Sale price Rs. 185 Regular price Rs. 199
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Pay On Delivery Available

Rekhta Certified

7 Day Easy Return Policy

Ek Bataa Do

Ek Bataa Do

Cash-On-Delivery

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7-Days-Replacement

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

पद्मिनी नायिकाओं-सी अगाधमना लड़कियाँ जब महानगर के गली-कूचों में जन्मे और अपने मायकों की खटर-पटर से निजात पाने के लिए उस पहले रोमियो को ही ‘हाँ’ कर दें जिसने उन्हें देखकर पहली ‘आह’ भरी तो जीवन मिनी-त्रासदियों का मेगा-सिलसिला बन ही जाता है और उससे निबटने के दो ही तरीक़े बच जाते हैं—पहला, ख़ुद को दो हिस्सों में फाड़ना। जैसे सलवार-कुरते का कपड़ा अलग किया जाता है, वैसे शरीर से मन अलग करना। मन को बौद्ध भिक्षुणियों या भक्त कवयित्रियों की राह भेजकर शरीरेण घर-बाहर के सब दायित्व निभाए चले जाना! दूसरे उपाय में भी बाक़ी दोनों घटक यही रहते हैं पर भक्ति का स्थानापन्न प्रेम हो जाता है—प्रकृति से, जीव-मात्र से, संसार के सब परितप्त जनों से और एक हमदर्द पुरुष से भी जो उन्हें ‘आत्मा का सहचर’ होने का आभास देता है।
स्वयं से बाहर निकलकर ख़ुद को द्रष्टा-भाव में देखना और फिर अपने से या अपनों से मीठी चुटकियाँ लिए चलना भी स्त्री-लेखन की वह बड़ी विशेषता है जिसकी कई बानगियाँ गुच्छा-गुच्छा फूली हुई आपको हर क़दम पर इस उपन्यास में दिखाई देंगी! हर कवि के गद्य में एक विशेष चित्रात्मकता, एक विशेष यति-गति होती है, पर यह उपन्यास प्रमाण है इस बात का कि स्त्री-कवि के गद्य में रुक-रुककर मुहल्ले की हर टहनी के फूल लोढ़ते चली जानेवाली क़स्बाई औरतों की चाल का एक विशेष छंद होता है। अब हिन्दी में स्त्री उपन्यासकारों की एक लम्बी और पुष्ट परम्परा बन गई है। सुजाता का यह उपन्यास उसे एक सुखद समृद्धि देता है और ज़रूरी विस्तार भी।
—अनामिका Padmini nayikaon-si agadhamna ladakiyan jab mahangar ke gali-kuchon mein janme aur apne maykon ki khatar-patar se nijat pane ke liye us pahle romiyo ko hi ‘han’ kar den jisne unhen dekhkar pahli ‘ah’ bhari to jivan mini-trasadiyon ka mega-silasila ban hi jata hai aur usse nibatne ke do hi tariqe bach jate hain—pahla, khud ko do hisson mein phadna. Jaise salvar-kurte ka kapda alag kiya jata hai, vaise sharir se man alag karna. Man ko bauddh bhikshuniyon ya bhakt kavyitriyon ki raah bhejkar shariren ghar-bahar ke sab dayitv nibhaye chale jana! dusre upay mein bhi baqi donon ghatak yahi rahte hain par bhakti ka sthanapann prem ho jata hai—prkriti se, jiv-matr se, sansar ke sab paritapt janon se aur ek hamdard purush se bhi jo unhen ‘atma ka sahchar’ hone ka aabhas deta hai. Svayan se bahar nikalkar khud ko drashta-bhav mein dekhna aur phir apne se ya apnon se mithi chutakiyan liye chalna bhi stri-lekhan ki vah badi visheshta hai jiski kai banagiyan guchchha-guchchha phuli hui aapko har qadam par is upanyas mein dikhai dengi! har kavi ke gadya mein ek vishesh chitratmakta, ek vishesh yati-gati hoti hai, par ye upanyas prman hai is baat ka ki stri-kavi ke gadya mein ruk-rukkar muhalle ki har tahni ke phul lodhte chali janevali qasbai aurton ki chal ka ek vishesh chhand hota hai. Ab hindi mein stri upanyaskaron ki ek lambi aur pusht parampra ban gai hai. Sujata ka ye upanyas use ek sukhad samriddhi deta hai aur zaruri vistar bhi.
—anamika

Shipping & Return

Contact our customer service in case of return or replacement. Enjoy our hassle-free 7-day replacement policy.

Offers & Coupons

Use code FIRSTORDER to get 10% off your first order.


Use code REKHTA10 to get a discount of 10% on your next Order.


You can also Earn up to 20% Cashback with POP Coins and redeem it in your future orders.

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products