BackBack
-11%

Dukh Ki Bandishen

Rs. 250 Rs. 223

सर्वेन्द्र विक्रम का यह कविता-संग्रह ‘दु:ख की बन्दिशें' स्मृति और विस्मृति के बीच काँपते कुहासे की थाह लगाता है। समय और समाज की विडम्बनाएँ इस संग्रह की कविताओं का प्रस्थान हैं। सर्वेन्द्र व्यापक मनुष्यता के वृत्त में इन विडम्बनाओं का परीक्षण करते हैं। समूचे सामाजिक परिदृश्य में अदृश्य जैसा जीवन... Read More

BlackBlack
Description

सर्वेन्द्र विक्रम का यह कविता-संग्रह ‘दु:ख की बन्दिशें' स्मृति और विस्मृति के बीच काँपते कुहासे की थाह लगाता है। समय और समाज की विडम्बनाएँ इस संग्रह की कविताओं का प्रस्थान हैं। सर्वेन्द्र व्यापक मनुष्यता के वृत्त में इन विडम्बनाओं का परीक्षण करते हैं। समूचे सामाजिक परिदृश्य में अदृश्य जैसा जीवन जी रहे असंख्य व्यक्तियों की 'मानवीय उपस्थिति' दर्ज करने की उत्कंठा इन रचनाओं में है।
कवि एक अघोषित विस्थापन अथवा निर्वासन की प्रक्रिया पर दृष्टि रख सका है। इसीलिए स्त्रियों का अस्मिता-विमर्श इन कविताओं में एक नई तर्कपूर्ण मार्मिकता प्राप्त करता है। इनमें ‘हल्की-सी नमी और असली कहानी जैसी दीप्ति’ का अनुभव किया जा सकता है। स्त्रियों के अपदस्थ आत्मविश्वास और आत्मसंघर्ष पर ऐसी कविताएँ विरल हैं। दुखहरन, वजीर और बरकत अली जैसे लोग लोकतंत्र में कहाँ हैं, ऐसे अनेक प्रश्न उठाती सर्वेन्द्र की कविताएँ निश्चित रूप से महत्त्वपूर्ण हैं। पूँजी, बाज़ार, सत्ता, भूमंडलीकरण और साम्प्रदायिकता के सन्दर्भ में अन्तर्ध्वनियों की तरह निहित हैं। ‘धुनिएँ’ कविता कहती है, ‘धुनिएँ दिल्ली जाते हैं या नहीं/पता नहीं/जहाँ बहुत कुछ है धुनने के लिए/रूई के अलावा भी।’
सर्वेन्द्र विक्रम उन तत्त्वों की पहचान भी करते हैं जिनकी समग्र संरचना में नए समाज का मानचित्र मौजूद है। उन्हें भली-भाँति ज्ञात है कि स्थानीयता की शक्ति और वैश्विकता का विवेक ही इस मानचित्र को सजीव कर सकता है। उल्लेखनीय है कि वे राजनीति पर इस तरह मौन हैं कि अभिव्यंजनाएँ सब प्रकट कर देती हैं। सभ्यता और संस्कृति के विकास का इतिहास आलोचनात्मक आशयों के साथ यहाँ व्यक्त हुआ है। एक सघन सतर्क संवेदनात्मक सन्तुलन इन कविताओं की अर्थ-सम्भावनाओं का परिविस्तार करता है। किसी बौद्धिक या शीर्षक की भाँति प्रयोग किए जानेवाले तात्कालिक पद प्रयोगों की अनुपस्थिति रचनाकार के उत्तरदायी कवि-कर्म का प्रमाण है। वस्तुत: सर्वेन्द्र सहभोक्ता की तरह इन कविताओं की रचना कर रहे हैं।
रस्मअदायगी में व्यस्त बहुतेरी समकालीन कविताओं की भीड़ में सर्वेन्द्र विक्रम का स्वर विश्वास का पुनर्वास है। मितकथन और सम्यक् कथन की सिद्धि संग्रह की उपलब्धि है। Sarvendr vikram ka ye kavita-sangrah ‘du:kha ki bandishen smriti aur vismriti ke bich kanpate kuhase ki thah lagata hai. Samay aur samaj ki vidambnayen is sangrah ki kavitaon ka prasthan hain. Sarvendr vyapak manushyta ke vritt mein in vidambnaon ka parikshan karte hain. Samuche samajik paridrishya mein adrishya jaisa jivan ji rahe asankhya vyaktiyon ki manviy upasthiti darj karne ki utkantha in rachnaon mein hai. Kavi ek aghoshit visthapan athva nirvasan ki prakriya par drishti rakh saka hai. Isiliye striyon ka asmita-vimarsh in kavitaon mein ek nai tarkpurn marmikta prapt karta hai. Inmen ‘halki-si nami aur asli kahani jaisi dipti’ ka anubhav kiya ja sakta hai. Striyon ke apdasth aatmvishvas aur aatmsangharsh par aisi kavitayen viral hain. Dukhahran, vajir aur barkat ali jaise log loktantr mein kahan hain, aise anek prashn uthati sarvendr ki kavitayen nishchit rup se mahattvpurn hain. Punji, bazar, satta, bhumandlikran aur samprdayikta ke sandarbh mein antardhvaniyon ki tarah nihit hain. ‘dhuniyen’ kavita kahti hai, ‘dhuniyen dilli jate hain ya nahin/pata nahin/jahan bahut kuchh hai dhunne ke liye/rui ke alava bhi. ’
Sarvendr vikram un tattvon ki pahchan bhi karte hain jinki samagr sanrachna mein ne samaj ka manchitr maujud hai. Unhen bhali-bhanti gyat hai ki sthaniyta ki shakti aur vaishvikta ka vivek hi is manchitr ko sajiv kar sakta hai. Ullekhniy hai ki ve rajniti par is tarah maun hain ki abhivyanjnayen sab prkat kar deti hain. Sabhyta aur sanskriti ke vikas ka itihas aalochnatmak aashyon ke saath yahan vyakt hua hai. Ek saghan satark sanvednatmak santulan in kavitaon ki arth-sambhavnaon ka parivistar karta hai. Kisi bauddhik ya shirshak ki bhanti pryog kiye janevale tatkalik pad pryogon ki anupasthiti rachnakar ke uttardayi kavi-karm ka prman hai. Vastut: sarvendr sahbhokta ki tarah in kavitaon ki rachna kar rahe hain.
Rasmadaygi mein vyast bahuteri samkalin kavitaon ki bhid mein sarvendr vikram ka svar vishvas ka punarvas hai. Mitakthan aur samyak kathan ki siddhi sangrah ki uplabdhi hai.

Additional Information
Color

Black

Publisher
Language
ISBN
Pages
Publishing Year