Look Inside
Dhruv Tara Jal Mein
Dhruv Tara Jal Mein
Dhruv Tara Jal Mein
Dhruv Tara Jal Mein
Dhruv Tara Jal Mein
Dhruv Tara Jal Mein

Dhruv Tara Jal Mein

Regular price Rs. 233
Sale price Rs. 233 Regular price Rs. 250
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Pay On Delivery Available

Rekhta Certified

7 Day Easy Return Policy

Dhruv Tara Jal Mein

Dhruv Tara Jal Mein

Cash-On-Delivery

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7-Days-Replacement

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

आज की हिन्दी कविता को जिन लोगों ने सम्भव किया है, उनमें विवेक निराला सर्वाधिक महत्त्व के अधिकारी हैं। सर्वथा नई काव्यभूमि का अर्जन और भाषा की अनूठी भंगिमाओं का सृजन विवेक की कविताओं को एक पृथक् पहचान देते हैं। विवेक अपने काव्य-सन्धान में सुदूर ‘महाभारत’ तक जाते हैं और साथ ही साथ बिलकुल सामने की गली में चल रहे जीवन-व्यापार को भी उसी तन्मयता और कलागत सौष्ठव से चित्त में उतार लेते हैं। इसी प्रशस्त जीवन-चाप के प्रत्यक्ष उदाहरण हैं 'जूठा-झूठा' जैसे मार्मिक चित्र। बहुत कम कवियों के पास ऐसा विराट कथ्य-वृत्त मिलता है।
विवेक ने बड़े अपनापे के साथ साधारण लोगों का चित्रण किया है। गहरी करुणा और प्रेम से उनके संघर्षों, जिजीविषा और जीवट को उद्घाटित किया है। विवेक की बहुत बड़ी ख़ूबी है उनके स्वर का सन्तुलन। अत्यन्त भावाविष्ट क्षणों में भी उनका स्वर संयत और उद्वेगहीन रहता है यानी तरंगें ताल में नहीं बल्कि पाठक के अन्तस में उठती हैं। ऐसा आत्म-नियंत्रण, वस्तुनिष्ठता और आसक्ति से भरी अनासक्ति दुर्लभ है।
विवेक गहरे और वास्तविक अर्थों में राजनीतिक कवि हैं। कई बार उनकी कविताएँ सपाट और मुँहफट भी लग सकती हैं लेकिन यह भी कवि की रणनीति ही है। वह जो कुछ करते हैं, वह सोची-समझी कला-नीति का परिणाम होता है। 'दिल्ली में एक दिन की राष्ट्रीय समस्या' एक अद्भुत राजनीतिक कविता है। इसका शिल्प भी बेजोड़ है। लेकिन शिल्प की दृष्टि से जो कविता स्वयं विवेक की पिछली सारी कविताओं को पीछे छोड़ देती है वह है ‘नई वर्णमाला’। सम्भवत: ऐसी कविता आज तक लिखी ही नहीं गई। इसी से लगता है कि विवेक कविता की नई वर्णमाला रच रहे हैं और कवि को सभी काव्य-रूपों पर अधिकार प्राप्त है। चाहे वह गद्य कविता हो या छन्दोबद्ध, चाहे लघुकाय हो अथवा लम्बी। ‘स्वर्णयुगों पर शोकगीत’ और ‘विरासत का सवाल’ काफ़ी लम्बी कविताएँ हैं और यहाँ भी कवि ने उसी नियंत्रण और शैल्पिक तथा वास्तु-प्रवीणता का परिचय दिया है।
ऐसा संग्रह कभी-कभी ही बन जाता है। आशा है कि हिन्दी के चारु, सहृदय पाठक इसको अंगीकार करेंगे।
—अरुण कमल Aaj ki hindi kavita ko jin logon ne sambhav kiya hai, unmen vivek nirala sarvadhik mahattv ke adhikari hain. Sarvtha nai kavybhumi ka arjan aur bhasha ki anuthi bhangimaon ka srijan vivek ki kavitaon ko ek prithak pahchan dete hain. Vivek apne kavya-sandhan mein sudur ‘mahabharat’ tak jate hain aur saath hi saath bilkul samne ki gali mein chal rahe jivan-vyapar ko bhi usi tanmayta aur kalagat saushthav se chitt mein utar lete hain. Isi prshast jivan-chap ke pratyaksh udahran hain jutha-jhutha jaise marmik chitr. Bahut kam kaviyon ke paas aisa virat kathya-vritt milta hai. Vivek ne bade apnape ke saath sadharan logon ka chitran kiya hai. Gahri karuna aur prem se unke sangharshon, jijivisha aur jivat ko udghatit kiya hai. Vivek ki bahut badi khubi hai unke svar ka santulan. Atyant bhavavisht kshnon mein bhi unka svar sanyat aur udveghin rahta hai yani tarangen taal mein nahin balki pathak ke antas mein uthti hain. Aisa aatm-niyantran, vastunishthta aur aasakti se bhari anasakti durlabh hai.
Vivek gahre aur vastvik arthon mein rajnitik kavi hain. Kai baar unki kavitayen sapat aur munhaphat bhi lag sakti hain lekin ye bhi kavi ki ranniti hi hai. Vah jo kuchh karte hain, vah sochi-samjhi kala-niti ka parinam hota hai. Dilli mein ek din ki rashtriy samasya ek adbhut rajnitik kavita hai. Iska shilp bhi bejod hai. Lekin shilp ki drishti se jo kavita svayan vivek ki pichhli sari kavitaon ko pichhe chhod deti hai vah hai ‘nai varnmala’. Sambhvat: aisi kavita aaj tak likhi hi nahin gai. Isi se lagta hai ki vivek kavita ki nai varnmala rach rahe hain aur kavi ko sabhi kavya-rupon par adhikar prapt hai. Chahe vah gadya kavita ho ya chhandobaddh, chahe laghukay ho athva lambi. ‘svarnayugon par shokgit’ aur ‘virasat ka saval’ kafi lambi kavitayen hain aur yahan bhi kavi ne usi niyantran aur shailpik tatha vastu-prvinta ka parichay diya hai.
Aisa sangrah kabhi-kabhi hi ban jata hai. Aasha hai ki hindi ke charu, sahriday pathak isko angikar karenge.
—arun kamal

Shipping & Return

Contact our customer service in case of return or replacement. Enjoy our hassle-free 7-day replacement policy.

Offers & Coupons

Use code FIRSTORDER to get 10% off your first order.


Use code REKHTA10 to get a discount of 10% on your next Order.


You can also Earn up to 20% Cashback with POP Coins and redeem it in your future orders.

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products