BackBack
-11%

Dhoop Ki Munder

Rs. 395 Rs. 352

एक बदले ज़माने और बदले परिवेश में कुछ ऐसा भी होता है जो उसे पूरी तरह अजनबी नहीं होने देता, बल्कि पूर्व से वर्तमान को किसी पुल की तरह जोड़ता प्रतीत होता है। ऐसा जिन युवा रचनाकारों को पढक़र, उनसे बात करते या उनका कहा सुनते मुझे लगा है उनमें... Read More

BlackBlack
Description

एक बदले ज़माने और बदले परिवेश में कुछ ऐसा भी होता है जो उसे पूरी तरह अजनबी नहीं होने देता, बल्कि पूर्व से वर्तमान को किसी पुल की तरह जोड़ता प्रतीत होता है। ऐसा जिन युवा रचनाकारों को पढक़र, उनसे बात करते या उनका कहा सुनते मुझे लगा है उनमें अनघ महत्त्वपूर्ण हैं। ऐसा इस कारण नहीं कि वे बीते ज़माने (एक प्रकार से मेरा ज़माना) से सम्बद्ध विषयों या एक प्रकार का नॉस्टेल्जियाग्रस्त लेखन करते हों। वह उस जीवन और उन समस्याओं को ही विषय बनाते हैं जो उन्हें ख़ुद दरपेश हैं, और ख़ुद मेरे लिए अपने लेखन में जिनकी कल्पना सम्भव नहीं। ऐसा शायद इस कारण है कि उनके लेखन का मुख्य स्वर समानुभूति (एम्पथी) का स्वर होता है जिसे अभिव्यक्त करने की उनके पास सही-सही भाषिक कुशलता है। आश्चर्य होता था (जो अब किसी हद तक होना बन्द हो गया है) कि यह योग्यता अधिकांश ऐसे लोगों में होती है जो साहित्य को शिक्षा का एक विषय मानकर नहीं पढ़ते, न उसमें डिग्रीयाफ्ता होते हैं। शायद इस कारण वे अपने विषय और भाषा में अपनाइयत को ज़्यादा सहज रूप से पाठक के सामने रख सकते हैं। अनघ को पढ़ते हुए यह अनुभव होता है कि लेखन के विषय को पूरी स्वतंत्रता से लिखा गया है, जीवन के उस पक्ष को प्रस्तुत करने के लिए जो उनके लेखक-अवतार ने मानो उसे जीते हुए ग्रहण किया है।
अनघ एक भागदौड़-भरा व्यस्त जीवन जीते हुए अपना लेखन करते हैं, जिसमें असंख्य सम्भावनाएँ हैं। उनकी भाषा विशेषकर आकर्षित करती है जिसमें संवाद और विवरण के बीच वह एक प्रकार का विशेष सन्तुलन बनाकर चलते हैं। यह तो आरम्भ है, यात्रा के लिए उन्हें बहुत बधाई।
—मंजूर एहतेशाम Ek badle zamane aur badle parivesh mein kuchh aisa bhi hota hai jo use puri tarah ajanbi nahin hone deta, balki purv se vartman ko kisi pul ki tarah jodta prtit hota hai. Aisa jin yuva rachnakaron ko padhqar, unse baat karte ya unka kaha sunte mujhe laga hai unmen anagh mahattvpurn hain. Aisa is karan nahin ki ve bite zamane (ek prkar se mera zamana) se sambaddh vishyon ya ek prkar ka nausteljiyagrast lekhan karte hon. Vah us jivan aur un samasyaon ko hi vishay banate hain jo unhen khud darpesh hain, aur khud mere liye apne lekhan mein jinki kalpna sambhav nahin. Aisa shayad is karan hai ki unke lekhan ka mukhya svar samanubhuti (empthi) ka svar hota hai jise abhivyakt karne ki unke paas sahi-sahi bhashik kushalta hai. Aashcharya hota tha (jo ab kisi had tak hona band ho gaya hai) ki ye yogyta adhikansh aise logon mein hoti hai jo sahitya ko shiksha ka ek vishay mankar nahin padhte, na usmen digriyaphta hote hain. Shayad is karan ve apne vishay aur bhasha mein apnaiyat ko zyada sahaj rup se pathak ke samne rakh sakte hain. Anagh ko padhte hue ye anubhav hota hai ki lekhan ke vishay ko puri svtantrta se likha gaya hai, jivan ke us paksh ko prastut karne ke liye jo unke lekhak-avtar ne mano use jite hue grhan kiya hai. Anagh ek bhagdaud-bhara vyast jivan jite hue apna lekhan karte hain, jismen asankhya sambhavnayen hain. Unki bhasha visheshkar aakarshit karti hai jismen sanvad aur vivran ke bich vah ek prkar ka vishesh santulan banakar chalte hain. Ye to aarambh hai, yatra ke liye unhen bahut badhai.
—manjur ehtesham