Look Inside
Dhoondha Aur Paya
Dhoondha Aur Paya
Dhoondha Aur Paya
Dhoondha Aur Paya

Dhoondha Aur Paya

Regular price Rs. 326
Sale price Rs. 326 Regular price Rs. 350
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Pay On Delivery Available

Rekhta Certified

7 Day Easy Return Policy

Dhoondha Aur Paya

Dhoondha Aur Paya

Cash-On-Delivery

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7-Days-Replacement

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

‘ढूँढ़ा और पाया’ कवि विपिन कुमार अग्रवाल का ख़ास ढंग से विशिष्ट काव्य-संग्रह है। इसमें की कुछ कविताएँ विपिन के एकदम पहले, या कि पहले आधे संग्रह ‘धुएँ की लकीरें’ (1956) से ली गई हैं—इस संग्रह के दूसरे कवि लक्ष्मीकान्त वर्मा हैं। यह संयोग से कुछ अधिक है कि नई कविता के ये दोनों असाधारण कवि अपना पहला संग्रह संयुक्त रूप से प्रकाशित करते हैं। फिर प्रस्तुत संग्रह में कुछ अब तक की असंकलित कविताएँ सम्मिलित की गई हैं। और विशिष्टता तब पूरी हो जाती है जब हम पाते हैं कि कवि की पाँच अन्तिम अप्रकाशित कविताएँ यहाँ पढ़ने को पहली बार सुलभ हो रही हैं।
यों, यह संग्रह विपिन के काव्य-समग्र का बड़ी कुशलता के साथ प्रतिनिधित्व करता है। इसका संकलन-सम्पादन डॉ. शीला अग्रवाल द्वारा किया गया है। विपिन की इन कविताओं को इस रूप में पढ़ते समय एक विषादपूर्ण सन्तोष का अनुभव होता है। कविताएँ हमारे सामने हैं, कवि अनुपस्थित। पर क्या इन कविताओं में ही हम कवि को उपस्थित नहीं पाते? निराला का स्मरण अनायास हो आता है—मैं अलक्षित हूँ, यही कवि कह गया है।
—रामस्वरूप चतुर्वेदी ‘dhundha aur paya’ kavi vipin kumar agrval ka khas dhang se vishisht kavya-sangrah hai. Ismen ki kuchh kavitayen vipin ke ekdam pahle, ya ki pahle aadhe sangrah ‘dhuen ki lakiren’ (1956) se li gai hain—is sangrah ke dusre kavi lakshmikant varma hain. Ye sanyog se kuchh adhik hai ki nai kavita ke ye donon asadharan kavi apna pahla sangrah sanyukt rup se prkashit karte hain. Phir prastut sangrah mein kuchh ab tak ki asanklit kavitayen sammilit ki gai hain. Aur vishishtta tab puri ho jati hai jab hum pate hain ki kavi ki panch antim aprkashit kavitayen yahan padhne ko pahli baar sulabh ho rahi hain. Yon, ye sangrah vipin ke kavya-samagr ka badi kushalta ke saath pratinidhitv karta hai. Iska sanklan-sampadan dau. Shila agrval dvara kiya gaya hai. Vipin ki in kavitaon ko is rup mein padhte samay ek vishadpurn santosh ka anubhav hota hai. Kavitayen hamare samne hain, kavi anupasthit. Par kya in kavitaon mein hi hum kavi ko upasthit nahin pate? nirala ka smran anayas ho aata hai—main alakshit hun, yahi kavi kah gaya hai.
—ramasvrup chaturvedi

Shipping & Return

Contact our customer service in case of return or replacement. Enjoy our hassle-free 7-day replacement policy.

Offers & Coupons

Use code FIRSTORDER to get 10% off your first order.


Use code REKHTA10 to get a discount of 10% on your next Order.


You can also Earn up to 20% Cashback with POP Coins and redeem it in your future orders.

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products