Look Inside
Dhol
Dhol
Dhol
Dhol
Dhol
Dhol

Dhol

Regular price Rs. 186
Sale price Rs. 186 Regular price Rs. 200
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Size guide

Pay On Delivery Available

Rekhta Certified

7 Day Easy Return Policy

Dhol

Dhol

Cash-On-Delivery

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7-Days-Replacement

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

‘ढोल’ (तेम्बरे) कन्नड़ साहित्य का एक महत्त्वपूर्ण उपन्यास है जो कर्नाटक के तटीय इलाके में रहनेवाले सीमान्त समुदाय ‘पम्बद’ के जीवन की जटिल सांस्कृतिक प्रक्रिया—‘भूताराधना’ या नायकत्व की आराधना की गहरी छानबीन करता है। यह जटिल संस्कृति पम्बद की वंशगत वृत्ति के रूप में प्रचलित है। इस आराधना में, एक कठिन क्रिया के अन्तर्गत व्यक्तित्व का विखंडन होता है तथा सम्बन्धित व्यक्ति रूप बदलता है।
उपन्यास में कथाकार ने इस अद्भुत और पारम्परिक वृत्ति को दो पम्बद भाइयों के माध्यम से दिखाने का प्रयास किया है : एक इस परम्परा के खिलाफ विद्रोह करता है और आधुनिक शिक्षा प्राप्त करता है। दूसरा भूताराधना की इस पद्धति को सच्चे उत्साह के साथ पुनर्स्थापित करने में लग जाता है। उनकी एक बहन है, जो पहले भाई की तरह परम्परा के खिलाफ जाकर कानून की पढ़ाई करती है तथा अपनी जिन्दगी को स्त्री के अधिकारों के लिए समर्पित कर देती है।
कथाकार ने परम्परा और आधुनिकता के द्वन्द्व से भरी इस कथा को रोचकता के साथ वृत्तान्त शैली में प्रस्तुत किया है।
कथाकार की सामुदायिक जिन्दगी में गहरी दिलचस्पी है। उसने पम्बद की जिन्दगी की इस सांस्कृतिक गतिशीलता को करीब से देखा है। राजनीतिक अनुभव और उनके न्याय के ज्ञान ने उनके अनुभव क्षेत्र का विस्तार किया है। दलित और स्त्री चेतना के प्रति भी इस उपन्यास में गहरी प्रतिबद्धता दिखलाई पड़ती है। कहना न होगा कि ये सारी बातें मिलकर इस उपन्यास को महत्त्वपूर्ण बनाती हैं तथा उसे एक वैश्विक धरातल पर नए सामाजिक यथार्थ के साथ उपस्थित करती हैं।
—डॉ. बी.ए. विवेक राय
पूर्व कुलपति, कन्नड़ विश्वविद्यालय, हम्पी (कर्नाटक) ‘dhol’ (tembre) kannad sahitya ka ek mahattvpurn upanyas hai jo karnatak ke tatiy ilake mein rahnevale simant samuday ‘pambad’ ke jivan ki jatil sanskritik prakriya—‘bhutaradhna’ ya naykatv ki aaradhna ki gahri chhanbin karta hai. Ye jatil sanskriti pambad ki vanshgat vritti ke rup mein prachlit hai. Is aaradhna mein, ek kathin kriya ke antargat vyaktitv ka vikhandan hota hai tatha sambandhit vyakti rup badalta hai. Upanyas mein kathakar ne is adbhut aur paramprik vritti ko do pambad bhaiyon ke madhyam se dikhane ka pryas kiya hai : ek is parampra ke khilaph vidroh karta hai aur aadhunik shiksha prapt karta hai. Dusra bhutaradhna ki is paddhati ko sachche utsah ke saath punarsthapit karne mein lag jata hai. Unki ek bahan hai, jo pahle bhai ki tarah parampra ke khilaph jakar kanun ki padhai karti hai tatha apni jindgi ko stri ke adhikaron ke liye samarpit kar deti hai.
Kathakar ne parampra aur aadhunikta ke dvandv se bhari is katha ko rochakta ke saath vrittant shaili mein prastut kiya hai.
Kathakar ki samudayik jindgi mein gahri dilchaspi hai. Usne pambad ki jindgi ki is sanskritik gatishilta ko karib se dekha hai. Rajnitik anubhav aur unke nyay ke gyan ne unke anubhav kshetr ka vistar kiya hai. Dalit aur stri chetna ke prati bhi is upanyas mein gahri pratibaddhta dikhlai padti hai. Kahna na hoga ki ye sari baten milkar is upanyas ko mahattvpurn banati hain tatha use ek vaishvik dharatal par ne samajik yatharth ke saath upasthit karti hain.
—dau. Bi. e. Vivek raay
Purv kulapati, kannad vishvvidyalay, hampi (karnatak)

Shipping & Return

Contact our customer service in case of return or replacement. Enjoy our hassle-free 7-day replacement policy.

Offers & Coupons

Use code FIRSTORDER to get 10% off your first order.


Use code REKHTA10 to get a discount of 10% on your next Order.


You can also Earn up to 20% Cashback with POP Coins and redeem it in your future orders.

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products