BackBack
-11%

Dehari Ka Man

Rs. 350 Rs. 312

‘देहरी का मन’ संवेदनशील व विचारप्रवण कविताओं के लिए चर्चित डॉ. प्रभा ठाकुर का महत्त्वपूर्ण कविता-संग्रह है। इन कविताओं में निष्करुण सामाजिक यथार्थ एवं व्यापक मानवतावाद से सम्बुद्ध मन का द्वन्द्व समाहित है। सभ्यता के चरण पार करते हुए समाज जिस पथ पर अग्रसर है, उसका लक्ष्य क्या है—इस नाभिक... Read More

BlackBlack
Description

‘देहरी का मन’ संवेदनशील व विचारप्रवण कविताओं के लिए चर्चित डॉ. प्रभा ठाकुर का महत्त्वपूर्ण कविता-संग्रह है। इन कविताओं में निष्करुण सामाजिक यथार्थ एवं व्यापक मानवतावाद से सम्बुद्ध मन का द्वन्द्व समाहित है। सभ्यता के चरण पार करते हुए समाज जिस पथ पर अग्रसर है, उसका लक्ष्य क्या है—इस नाभिक से छिटके प्रश्न ‘देहरी का मन’ में पाठक से संवाद करते हैं। इस संग्रह से यह भी आभास होता है कि प्रभा ठाकुर की रचनात्मक यात्रा कितनी वैविध्यपूर्ण है। ‘अपनी बात’ में वे कहती हैं, “कुछ फूल चुनकर भरे थे आँचल में, पता ही नहीं चला कैसे कुछ काँटे भी ख़ुद-ब-ख़ुद ही साथ चले आए। फूल तो मुरझाकर बिखर भी गए, किन्तु काँटे सूखकर और भी पैने और सख़्त हो गए हैं। वैसे भी इतने वर्षों की जीवन-यात्रा के बाद, उम्र के इस पड़ाव पर पहुँचकर, यही सोचती हूँ, कहाँ खड़ी हूँ मैं? किसी शिखर पर, ढलान पर या फिर हाशिए पर...!’’ आत्ममूल्यांकन की यह सघन प्रक्रिया सामाजिक विसंगतियों की पहचान का प्रखर माध्यम बनती है। गीतात्मक अभिव्यक्तियाँ स्मृतियों और अनुभूतियों के सम्मिश्रण से मोहक परिवेश रच देती हैं। इन पंक्तियों में जीवन का एक बड़ा सच झाँक रहा है : ‘रेत का बना था घर, बार-बार टूटा/कच्चा रंग रिश्तों का बार-बार छूटा/आँगन से पनघट तक, काई ही काई/माटी का घट भरकर, बार-बार फूटा/अपना ही हवन करें और एक बार।’ समकालीन हिन्दी कविता (विशेषकर गीत-कविता) में प्रभा ठाकुर की ये रचनाएँ उन्हें विशिष्ट सिद्ध करती हैं। भाषा, छन्द, संरचना और स्वभाव की दृष्टि से ‘देहरी का मन’ एक प्रीतिकर और संग्रहणीय संग्रह है। ‘dehri ka man’ sanvedanshil va vicharaprvan kavitaon ke liye charchit dau. Prbha thakur ka mahattvpurn kavita-sangrah hai. In kavitaon mein nishkrun samajik yatharth evan vyapak manavtavad se sambuddh man ka dvandv samahit hai. Sabhyta ke charan paar karte hue samaj jis path par agrsar hai, uska lakshya kya hai—is nabhik se chhitke prashn ‘dehri ka man’ mein pathak se sanvad karte hain. Is sangrah se ye bhi aabhas hota hai ki prbha thakur ki rachnatmak yatra kitni vaividhypurn hai. ‘apni bat’ mein ve kahti hain, “kuchh phul chunkar bhare the aanchal mein, pata hi nahin chala kaise kuchh kante bhi khud-ba-khud hi saath chale aae. Phul to murjhakar bikhar bhi ge, kintu kante sukhkar aur bhi paine aur sakht ho ge hain. Vaise bhi itne varshon ki jivan-yatra ke baad, umr ke is padav par pahunchakar, yahi sochti hun, kahan khadi hun main? kisi shikhar par, dhalan par ya phir hashiye par. . . !’’ aatmmulyankan ki ye saghan prakriya samajik visangatiyon ki pahchan ka prkhar madhyam banti hai. Gitatmak abhivyaktiyan smritiyon aur anubhutiyon ke sammishran se mohak parivesh rach deti hain. In panktiyon mein jivan ka ek bada sach jhank raha hai : ‘ret ka bana tha ghar, bar-bar tuta/kachcha rang rishton ka bar-bar chhuta/angan se panghat tak, kai hi kai/mati ka ghat bharkar, bar-bar phuta/apna hi havan karen aur ek baar. ’ samkalin hindi kavita (visheshkar git-kavita) mein prbha thakur ki ye rachnayen unhen vishisht siddh karti hain. Bhasha, chhand, sanrachna aur svbhav ki drishti se ‘dehri ka man’ ek pritikar aur sangrahniy sangrah hai.