Look Inside
Daulati
Daulati
Daulati
Daulati

Daulati

Regular price Rs. 372
Sale price Rs. 372 Regular price Rs. 401
Unit price
Save 6%
6% off
Tax included.

Size guide

Pay On Delivery Available

Rekhta Certified

7 Day Easy Return Policy

Daulati

Daulati

Cash-On-Delivery

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7-Days-Replacement

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

महाश्वेता देवी की रचनाओं की केन्द्रीय चेतना लोकधर्मी है। उनके लेखन का बुनियादी मन्तव्य दलितों की ज़िन्दगी को उभारकर सामने लाना है जो न केवल सामन्ती शोषण के शिकार हैं बल्कि जिन्हें तबाह करने में सरकारी नीतियों की भी बराबर की हिस्सेदारी है।
यह बात साफ़ हो चुकी है कि आदिवासी जन–जीवन की त्रासदी के बीज विषैली राजनीति में हैं और राजनीति की चालाक साज़िशों ने संगठित वर्ग–संघर्ष को विभाजित जाति–संघर्ष में तब्दील कर दिया है। ज़मींदारों ने भूमिहीन आदिवासियों के बीच धर्मों और जातियों के बँटवारे का सहारा लेकर उन्हें संगठित वर्ग की शक्ल में कभी नहीं आने दिया।
महाश्वेता जी के कथानक इन बारीक षड्यंत्रों को बेनक़ाब करते हैं। सरकारी कामकाज के असली चेहरों और ज़मींदारों के साथ सरकारी नुमाइंदों के आर्थिक रिश्तों को देखने–समझने के लिए जिस दृष्टि की ज़रूरत है, महाश्वेता जी की रचनाएँ उस दृष्टि को पैदा करती हैं।
इस पुस्तक के पृष्ठों पर तीन सशक्त उपन्यास छपे हैं। इन उपन्यासों का कथा–केन्द्र आदिवासी स्त्रियों की पीड़ित ज़िन्दगी है। तीन उपन्यासों की तीन प्रतिनिधि स्त्री पात्र हैं, दौलति, बासमती और गोहुअन। समान आर्थिक स्थितियों के बावजूद तीनों की सोच में बुनियादी फ़र्क़ है और यह फ़र्क़ आदिवासी स्त्री के मनोविज्ञान और उसकी संघर्ष–क्षमता को विभिन्न रूपों में उद्घाटित करता है।
स्त्री का क्रय–विक्रय, देह–व्यापार की कसैली विवशताएँ, ‘चुकी’ हुई वेश्याओं की तिरस्कृत वेदनाएँ और उनकी गुमनाम मौत; और इन सबके लिए ज़िम्मेवार सामन्ती व्यवस्था के दाँवपेंच—यह संक्षेप है ‘दौलति’ का।
दूसरा तेज़–तर्रार उपन्यास है ‘पलामौ’। आदिवासियों के शोषण को एक नए कोण से समझने की कोशिश, और आदिवासियों के विकास के सम्बन्ध में सरकारी दावों के खोखलेपन का पर्दाफ़ाश करनेवाला यह उपन्यास आदिवासी–जीवन का प्रतिबिम्ब है।
‘गोहुअन’ की कथा आदिवासी स्त्री के एक भिन्न स्वरूप को सामने रखती है। एक विषैले सर्प ‘गोहुअन’ के प्रतीक के ज़रिए आदिवासी स्त्री का स्वाभिमानी तेवर इस उपन्यास में बहुत गम्भीरता से व्यक्त ह़ुआ है। Mahashveta devi ki rachnaon ki kendriy chetna lokdharmi hai. Unke lekhan ka buniyadi mantavya daliton ki zindagi ko ubharkar samne lana hai jo na keval samanti shoshan ke shikar hain balki jinhen tabah karne mein sarkari nitiyon ki bhi barabar ki hissedari hai. Ye baat saaf ho chuki hai ki aadivasi jan–jivan ki trasdi ke bij vishaili rajniti mein hain aur rajniti ki chalak sazishon ne sangthit varg–sangharsh ko vibhajit jati–sangharsh mein tabdil kar diya hai. Zamindaron ne bhumihin aadivasiyon ke bich dharmon aur jatiyon ke bantvare ka sahara lekar unhen sangthit varg ki shakl mein kabhi nahin aane diya.
Mahashveta ji ke kathanak in barik shadyantron ko benqab karte hain. Sarkari kamkaj ke asli chehron aur zamindaron ke saath sarkari numaindon ke aarthik rishton ko dekhne–samajhne ke liye jis drishti ki zarurat hai, mahashveta ji ki rachnayen us drishti ko paida karti hain.
Is pustak ke prishthon par tin sashakt upanyas chhape hain. In upanyason ka katha–kendr aadivasi striyon ki pidit zindagi hai. Tin upanyason ki tin pratinidhi stri patr hain, daulati, basamti aur gohuan. Saman aarthik sthitiyon ke bavjud tinon ki soch mein buniyadi farq hai aur ye farq aadivasi stri ke manovigyan aur uski sangharsh–kshamta ko vibhinn rupon mein udghatit karta hai.
Stri ka kray–vikray, deh–vyapar ki kasaili vivashtayen, ‘chuki’ hui veshyaon ki tiraskrit vednayen aur unki gumnam maut; aur in sabke liye zimmevar samanti vyvastha ke danvpench—yah sankshep hai ‘daulati’ ka.
Dusra tez–tarrar upanyas hai ‘palamau’. Aadivasiyon ke shoshan ko ek ne kon se samajhne ki koshish, aur aadivasiyon ke vikas ke sambandh mein sarkari davon ke khokhlepan ka pardafash karnevala ye upanyas aadivasi–jivan ka pratibimb hai.
‘gohuan’ ki katha aadivasi stri ke ek bhinn svrup ko samne rakhti hai. Ek vishaile sarp ‘gohuan’ ke prtik ke zariye aadivasi stri ka svabhimani tevar is upanyas mein bahut gambhirta se vyakt hua hai.

Shipping & Return

Contact our customer service in case of return or replacement. Enjoy our hassle-free 7-day replacement policy.

Offers & Coupons

Use code FIRSTORDER to get 10% off your first order.


Use code REKHTA10 to get a discount of 10% on your next Order.


You can also Earn up to 20% Cashback with POP Coins and redeem it in your future orders.

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products