Look Inside
Dararon Mein Ugi Doob
Dararon Mein Ugi Doob
Dararon Mein Ugi Doob
Dararon Mein Ugi Doob

Dararon Mein Ugi Doob

Regular price Rs. 274
Sale price Rs. 274 Regular price Rs. 295
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Pay On Delivery Available

Rekhta Certified

7 Day Easy Return Policy

Dararon Mein Ugi Doob

Dararon Mein Ugi Doob

Cash-On-Delivery

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7-Days-Replacement

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

छोटी और कुछ बहुत ही छोटी इन कविताओं का उत्स जीवन के हाशियों पर दूब की तरह उगते, पलते और झड़ जाते दु:खों के भीतर है—इसका अहसास आपको एक-एक कविता से गुज़रते हुए धीरे-धीरे होता है। धीरे-धीरे आप जानने लगते हैं कि किस कविता की किस पंक्ति में दरअसल कितनी बड़ी एक टीस को छिपाकर गूँथ दिया गया है।
'घर की उम्र के लिए/एक पूरा आदमी/टुकड़े-टुकड़े बँटकर/थामता है/हर कोना/...घर की उम्र के लिए/बिखर कर मर जाता है/एक पूरा आदमी।’ घर यहाँ दरअसल एक व्यवस्था का, एक स्थिर सुरक्षा का और सरल शब्दों में कहें तो उस दुनियादारी का प्रतीक है, जिसकी तरफ़ एक व्यक्ति जीवन-भर खिंचकर आता है तो उतने ही वेग से उससे दूर भी जाता है। भीतर और बाहर की इसी खींचतान के अलग-अलग बिन्दुओं से उपजी बेचैन मगर बहुत गहरे में हमें अपनी पीड़ा की अभिव्यक्ति का शान्त आधार उपलब्ध करानेवाली ये कविताएँ इसी अर्थ में विशिष्ट हैं कि ये हमें अपनी सादगी से अपने बहुत नज़दीक बुलाकर हमारा दु:ख सोखती हैं। भाव-बोध के आधार पर संग्रह की कविताओं को चार खंडों में समायोजित किया गया है। पहला है 'पगडंडी’ जिसमें ग्रामीण जीवन और परिवेश में बसे, बनते-बिगड़ते-बदलते रिश्तों और रूपाकारों को सहेजने-समेटने की संवेदन-यात्रा समाहित है। दूसरे खंड 'अलाव’ में अपने अस्तित्व के इर्द-गिर्द बुनी आँच और उसकी लपटों को पकडऩे, चित्रित करने की बारीक लेकिन सुदृढ़ बुनाई है। 'आरोह-अवरोह’ में घर, रिश्तों और कचहरी में फैले आहत तन्तुओं को गहरी-तीखी रंगत में उकेरा गया है। और, चौथे खंड 'मध्यान्तर के बाद’ में पुन: जीवन की जड़ों को खोलकर- खोदकर देखने की कोशिश की गई है जो हमारी सवंदेना-यात्रा को वापस जीवन में आरम्भ से जोड़ देती है।
'पत्थरों को संवेदना देती है/उनकी दरारों में दबी मिट्टी/जहाँ उग आती है दूब/चट्टानों के अस्तित्व को ललकारती।’ ये कविताएँ दरअसल जीवन की कठोर, पथरीली चट्टानों के बीच बची मिट्टी में उगी कविताएँ हैं; जिनमें हम अपने दग्ध वजूद को कुछ देर भीनी-भीनी ठंडक से भर सकते हैं। Chhoti aur kuchh bahut hi chhoti in kavitaon ka uts jivan ke hashiyon par dub ki tarah ugte, palte aur jhad jate du:khon ke bhitar hai—iska ahsas aapko ek-ek kavita se guzarte hue dhire-dhire hota hai. Dhire-dhire aap janne lagte hain ki kis kavita ki kis pankti mein darasal kitni badi ek tis ko chhipakar gunth diya gaya hai. Ghar ki umr ke liye/ek pura aadmi/tukde-tukde bantakar/thamta hai/har kona/. . . Ghar ki umr ke liye/bikhar kar mar jata hai/ek pura aadmi. ’ ghar yahan darasal ek vyvastha ka, ek sthir suraksha ka aur saral shabdon mein kahen to us duniyadari ka prtik hai, jiski taraf ek vyakti jivan-bhar khinchkar aata hai to utne hi veg se usse dur bhi jata hai. Bhitar aur bahar ki isi khinchtan ke alag-alag binduon se upji bechain magar bahut gahre mein hamein apni pida ki abhivyakti ka shant aadhar uplabdh karanevali ye kavitayen isi arth mein vishisht hain ki ye hamein apni sadgi se apne bahut nazdik bulakar hamara du:kha sokhti hain. Bhav-bodh ke aadhar par sangrah ki kavitaon ko char khandon mein samayojit kiya gaya hai. Pahla hai pagdandi’ jismen gramin jivan aur parivesh mein base, bante-bigadte-badalte rishton aur rupakaron ko sahejne-sametne ki sanvedan-yatra samahit hai. Dusre khand alav’ mein apne astitv ke ird-gird buni aanch aur uski lapton ko pakadne, chitrit karne ki barik lekin sudridh bunai hai. Aroh-avroh’ mein ghar, rishton aur kachahri mein phaile aahat tantuon ko gahri-tikhi rangat mein ukera gaya hai. Aur, chauthe khand madhyantar ke bad’ mein pun: jivan ki jadon ko kholkar- khodkar dekhne ki koshish ki gai hai jo hamari savandena-yatra ko vapas jivan mein aarambh se jod deti hai.
Patthron ko sanvedna deti hai/unki dararon mein dabi mitti/jahan ug aati hai dub/chattanon ke astitv ko lalkarti. ’ ye kavitayen darasal jivan ki kathor, pathrili chattanon ke bich bachi mitti mein ugi kavitayen hain; jinmen hum apne dagdh vajud ko kuchh der bhini-bhini thandak se bhar sakte hain.

Shipping & Return

Contact our customer service in case of return or replacement. Enjoy our hassle-free 7-day replacement policy.

Offers & Coupons

Use code FIRSTORDER to get 10% off your first order.


Use code REKHTA10 to get a discount of 10% on your next Order.


You can also Earn up to 20% Cashback with POP Coins and redeem it in your future orders.

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products