Look Inside
Company Raj Aur Hindi
Company Raj Aur Hindi
Company Raj Aur Hindi
Company Raj Aur Hindi
Company Raj Aur Hindi
Company Raj Aur Hindi

Company Raj Aur Hindi

Regular price ₹ 460
Sale price ₹ 460 Regular price ₹ 495
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Pay On Delivery Available

Rekhta Certified

7 Day Easy Return Policy

Company Raj Aur Hindi

Company Raj Aur Hindi

Cash-On-Delivery

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7-Days-Replacement

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

उपनिवेशवाद ने अपने विस्तार के लिए एक ख़ास क़िस्म के लेखन को काफ़ी प्रश्रय दिया था। यह सर्वस्वीकृत तथ्य है। लेकिन इसका एक दूसरा पहलू भी है। फ़ोर्ट विलियम कॉलेज और तद्युगीन अन्य संस्थानों द्वारा उत्पादित ज्ञान के भंडार का अब तक का अध्ययन इस बात की तस्दीक करता है कि अध्येताओं के मानस में ‘प्राच्यवाद’ का भूत कुछ इस तरह जड़ जमाकर बैठ गया है कि उनके बौद्धिक मानस से द्वन्द्वात्मक दृष्टि ही काफ़ूर हो चुकी है। औपनिवेशिक दौर के सम्पूर्ण लेखन को इस तरह की सीमा में बाँधकर एक ही चश्मे से देखने से वास्तविक भौतिक परिस्थितियों और उनके प्रभावों का उद्घाटन कठिन हो जाता है। यह ठीक है कि औपनिवेशिक सत्ता ज्ञान का अपने पक्ष में अनुकूलन करती रही है लेकिन हमें यह भूलना नहीं चाहिए कि अनुकूलन चाहे कितना भी हो, द्वन्द्वात्मक परिस्थितियों में ज्ञान की भूमिका के अन्य आयाम भी होते हैं। इन आयामों को हम तभी पहचान सकते हैं जब हम समय में विद्यमान दूसरे प्रभावी कारकों पर भी नज़र बनाए रखें। यह एक ऐतिहासिक दायित्व का कार्य है कि अंग्रेज़ी हुकूमत द्वारा हिन्दुस्तान के आर्थिक दोहन और आधुनिकता में हस्तक्षेप के बारे में हम तर्क जुटाएँ, लेकिन इस क्रम में हमने अगर पंक्तियों के बीच विद्यमान तथ्यों को विस्मृत कर दिया है, तो उसका पुन: उद्घाटन भी किया जाना चाहिए। ज्ञान की चेतना अन्याय के विरोध के साथ किसी भी क़िस्म के छद्म के अनावरण की पक्षधर होनी चाहिए। इसीलिए इस पुस्तक में कम्पनी की नीतियों का पुनर्विश्लेषण कर और कॉलेज के साथ उसके सम्बन्धों में विद्यमान सूक्ष्म भेदों को प्रकाशित कर, सत्ता और ज्ञान के सम्बन्धों की बारीकियों को उजागर किया गया है। दोनों की भाषा-नीति का फ़र्क़ बताकर हमारी दृष्टि की एकरेखीयता को उद्घाटित किया गया है। इन सबके साथ-साथ हिन्दी भाषा और साहित्य की विकास परम्परा और हिन्दी-उर्दू रिश्ते को एक बार फिर से विश्लेषित कर नए गवाक्ष खोले गए हैं। Upaniveshvad ne apne vistar ke liye ek khas qism ke lekhan ko kafi prashray diya tha. Ye sarvasvikrit tathya hai. Lekin iska ek dusra pahlu bhi hai. Fort viliyam kaulej aur tadyugin anya sansthanon dvara utpadit gyan ke bhandar ka ab tak ka adhyyan is baat ki tasdik karta hai ki adhyetaon ke manas mein ‘prachyvad’ ka bhut kuchh is tarah jad jamakar baith gaya hai ki unke bauddhik manas se dvandvatmak drishti hi kafur ho chuki hai. Aupaniveshik daur ke sampurn lekhan ko is tarah ki sima mein bandhakar ek hi chashme se dekhne se vastvik bhautik paristhitiyon aur unke prbhavon ka udghatan kathin ho jata hai. Ye thik hai ki aupaniveshik satta gyan ka apne paksh mein anukulan karti rahi hai lekin hamein ye bhulna nahin chahiye ki anukulan chahe kitna bhi ho, dvandvatmak paristhitiyon mein gyan ki bhumika ke anya aayam bhi hote hain. In aayamon ko hum tabhi pahchan sakte hain jab hum samay mein vidyman dusre prbhavi karkon par bhi nazar banaye rakhen. Ye ek aitihasik dayitv ka karya hai ki angrezi hukumat dvara hindustan ke aarthik dohan aur aadhunikta mein hastakshep ke bare mein hum tark jutayen, lekin is kram mein hamne agar panktiyon ke bich vidyman tathyon ko vismrit kar diya hai, to uska pun: udghatan bhi kiya jana chahiye. Gyan ki chetna anyay ke virodh ke saath kisi bhi qism ke chhadm ke anavran ki pakshdhar honi chahiye. Isiliye is pustak mein kampni ki nitiyon ka punarvishleshan kar aur kaulej ke saath uske sambandhon mein vidyman sukshm bhedon ko prkashit kar, satta aur gyan ke sambandhon ki barikiyon ko ujagar kiya gaya hai. Donon ki bhasha-niti ka farq batakar hamari drishti ki ekrekhiyta ko udghatit kiya gaya hai. In sabke sath-sath hindi bhasha aur sahitya ki vikas parampra aur hindi-urdu rishte ko ek baar phir se vishleshit kar ne gavaksh khole ge hain.

Shipping & Return
  • Over 27,000 Pin Codes Served: Nationwide Delivery Across India!

  • Upon confirmation of your order, items are dispatched within 24-48 hours on business days.

  • Certain books may be delayed due to alternative publishers handling shipping.

  • Typically, orders are delivered within 5-7 days.

  • Delivery partner will contact before delivery. Ensure reachable number; not answering may lead to return.

  • Study the book description and any available samples before finalizing your order.

  • To request a replacement, reach out to customer service via phone or chat.

  • Replacement will only be provided in cases where the wrong books were sent. No replacements will be offered if you dislike the book or its language.

Note: Saturday, Sunday and Public Holidays may result in a delay in dispatching your order by 1-2 days.

Offers & Coupons

Use code FIRSTORDER to get 10% off your first order.


Use code REKHTA10 to get a discount of 10% on your next Order.


You can also Earn up to 20% Cashback with POP Coins and redeem it in your future orders.

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products