BackBack
-11%

Cinema Ke Baare Mein

Rs. 150 Rs. 134

इस पुस्तक में नसरीन मुन्नी कबीर ने जावेद अख़्तर जैसे बहुआयामी रचनाधर्मी से लम्बी बातचीत की है, जिसके अन्तर्गत जावेद की प्रारम्भिक रचनाओं पर पड़े प्रभावों, उनके पारिवारिक जीवन और फ़िल्म-जगत के महत्त्वपूर्ण पक्षों को उद्घाटित किया गया है, जहाँ जावेद ने सन् ’65 के आसपास ‘कैपलर-ब्वाय’ के तौर पर... Read More

BlackBlack
Description

इस पुस्तक में नसरीन मुन्नी कबीर ने जावेद अख़्तर जैसे बहुआयामी रचनाधर्मी से लम्बी बातचीत की है, जिसके अन्तर्गत जावेद की प्रारम्भिक रचनाओं पर पड़े प्रभावों, उनके पारिवारिक जीवन और फ़िल्म-जगत के महत्त्वपूर्ण पक्षों को उद्घाटित किया गया है, जहाँ जावेद ने सन् ’65 के आसपास ‘कैपलर-ब्वाय’ के तौर पर अपना करियर शुरू किया था। इस बातचीत में सलीम ख़ाँ के साथ उनके सफल साझे-लेखन पर भी पर्याप्त प्रकाश पड़ता है।
इस पुस्तक में मौलिक विचारक जावेद अख़्तर ने विश्लेषणात्मक ढंग से हिन्दी सिनेमा की परम्परा, गीत-लेखन और कथा-तत्त्व के विभिन्न पक्षों को उद्घाटित किया है और फ़िल्म-लेखन के कई पक्षों की सारगर्भित चर्चा की है। पटकथा-लेखन और फ़िल्मी शायरी के बारे में अपनी मौलिक मान्यताओं और रचना-प्रक्रिया के विभिन्न आयामों पर टिप्पणियाँ करने के साथ-साथ जावेद ने यह भी बताया है कि श्रेष्ठ पटकथाएँ और गीत कैसे लिखे जाते हैं?
जावेद ने सफ़ाई और ईमानदारी से अपनी शायरी और राजनैतिक जागरूकता की विकास-यात्रा पर भी महत्त्वपूर्ण चर्चा की है।
जावेद के हास्य-व्यंग्य, उनकी प्रखर बौद्धिकता, पटकथा-लेखन की तकनीक पर उनकी गहरी पकड़ और सोदाहरण बातचीत ने इस पुस्तक को उन सबके लिए महत्त्वपूर्ण बना दिया है, जिनकी फ़िल्म और कला में रुचि है। Is pustak mein nasrin munni kabir ne javed akhtar jaise bahuayami rachnadharmi se lambi batchit ki hai, jiske antargat javed ki prarambhik rachnaon par pade prbhavon, unke parivarik jivan aur film-jagat ke mahattvpurn pakshon ko udghatit kiya gaya hai, jahan javed ne san ’65 ke aaspas ‘kaiplar-bvay’ ke taur par apna kariyar shuru kiya tha. Is batchit mein salim khan ke saath unke saphal sajhe-lekhan par bhi paryapt prkash padta hai. Is pustak mein maulik vicharak javed akhtar ne vishleshnatmak dhang se hindi sinema ki parampra, git-lekhan aur katha-tattv ke vibhinn pakshon ko udghatit kiya hai aur film-lekhan ke kai pakshon ki sargarbhit charcha ki hai. Pataktha-lekhan aur filmi shayri ke bare mein apni maulik manytaon aur rachna-prakriya ke vibhinn aayamon par tippaniyan karne ke sath-sath javed ne ye bhi bataya hai ki shreshth patakthayen aur git kaise likhe jate hain?
Javed ne safai aur iimandari se apni shayri aur rajanaitik jagrukta ki vikas-yatra par bhi mahattvpurn charcha ki hai.
Javed ke hasya-vyangya, unki prkhar bauddhikta, pataktha-lekhan ki taknik par unki gahri pakad aur sodahran batchit ne is pustak ko un sabke liye mahattvpurn bana diya hai, jinki film aur kala mein ruchi hai.

Additional Information
Color

Black

Publisher
Language
ISBN
Pages
Publishing Year