BackBack
-11%

Boli Baat

Rs. 150 Rs. 134

‘बोली बात’ युवा कवि श्रीप्रकाश शुक्ल का दूसरा काव्य-संकलन है जिसमें कवि ने न सिर्फ़ अपनी विकास यात्रा को रेखांकित किया है, बल्कि समाज और उसके जन-जीवन के प्रति अपनी सरोकारों को और भी गहरे ढंग से जताया है। संग्रह में शामिल ‘ग़ाज़ीपुर’ कविता की ये पंक्तियाँ स्पष्ट रूप से... Read More

BlackBlack
Description

‘बोली बात’ युवा कवि श्रीप्रकाश शुक्ल का दूसरा काव्य-संकलन है जिसमें कवि ने न सिर्फ़ अपनी विकास यात्रा को रेखांकित किया है, बल्कि समाज और उसके जन-जीवन के प्रति अपनी सरोकारों को और भी गहरे ढंग से जताया है। संग्रह में शामिल ‘ग़ाज़ीपुर’ कविता की ये पंक्तियाँ स्पष्ट रूप से बताती हैं कि कवि अपने आसपास को कितनी संवेदनशीलता के साथ ग्रहण कर रहा है: “यह एक ऐसा शहर है/जहाँ लोग धीरे-धीरे रहते हैं/और धीरे-धीरे रहने लगते हैं/यहाँ आनेवाला हर व्यक्ति कुछ सहमा-सहमा रहता है/कुछ-कुछ अलग-अलग रहता है/जैसे उमस-भरी गर्मी में दूसरे का स्पर्श/लेकिन धीरे-धीरे ससुराल गई महिला की तरह/जीना सीख लेता है।”
कवि का पहला संकलन कुछ वर्ष पहले आया था, जिसका नाम था—‘जहाँ सब शहर नहीं होता’। ‘बोली बात’ पिछले संग्रह के नाम से ध्वनित होनेवाली भाव-भूमि और दृष्टि-भंगिमा का ही अगला सोपान है, यह कहा जा सकता है। एक नए कवि का दूसरा संग्रह एक तरह से उसके विकास की कसौटी भी होता है और इस संग्रह की कविताओं को देखते हुए यह आश्वस्तिपूर्वक कहा जा सकता है कि इस संग्रह में काफ़ी कुछ ऐसा है जो कवि के रचनात्मक विकास की ओर ध्यान आकृष्ट करता है और कहें तो प्रमाणित भी। इस पूरे संग्रह को एक साथ पढ़ा जाए तो इसकी एक-एक कविता के भीतर से एक ऐसी दुनिया उभरती हुई दिखाई पड़ेगी, जिसे समकालीन विमर्श की भाषा में ‘सबाल्टर्न’ कहा जाता है। संग्रह की पहली कविता ‘हड़परौली’—इसका सबसे स्पष्ट और मूर्त्त उदाहरण है। इस प्रवृत्ति को सूचित करनेवाली एक साथ इतनी कविताएँ यहाँ मिल सकती हैं, जो कई बार एक पाठक को रोकती-टोकती-सी लगें। पर एक अच्छी बात यह है कि इसी के चलते अनेक नए देशज शब्द भी यहाँ मिलेंगे, जिन्हें पहली बार कविता की दुनिया की नागरिकता दी गई है।
कुल मिलाकर यह एक ऐसा संग्रह है जो अपने खाँटी देसीपन के कारण अलग से पहचाना जाएगा। कविता के एक पाठक के रूप में मैं यह निस्संकोच कह सकता हूँ कि इस विशिष्टता के अलावा भी यहाँ बहुत कुछ मिलेगा जो कविता-प्रेमियों को आकृष्ट करेगा और बेशक आश्वस्त भी।
—केदारनाथ सिंह ‘boli bat’ yuva kavi shriprkash shukl ka dusra kavya-sanklan hai jismen kavi ne na sirf apni vikas yatra ko rekhankit kiya hai, balki samaj aur uske jan-jivan ke prati apni sarokaron ko aur bhi gahre dhang se jataya hai. Sangrah mein shamil ‘gazipur’ kavita ki ye panktiyan spasht rup se batati hain ki kavi apne aaspas ko kitni sanvedanshilta ke saath grhan kar raha hai: “yah ek aisa shahar hai/jahan log dhire-dhire rahte hain/aur dhire-dhire rahne lagte hain/yahan aanevala har vyakti kuchh sahma-sahma rahta hai/kuchh-kuchh alag-alag rahta hai/jaise umas-bhari garmi mein dusre ka sparsh/lekin dhire-dhire sasural gai mahila ki tarah/jina sikh leta hai. ”Kavi ka pahla sanklan kuchh varsh pahle aaya tha, jiska naam tha—‘jahan sab shahar nahin hota’. ‘boli bat’ pichhle sangrah ke naam se dhvnit honevali bhav-bhumi aur drishti-bhangima ka hi agla sopan hai, ye kaha ja sakta hai. Ek ne kavi ka dusra sangrah ek tarah se uske vikas ki kasauti bhi hota hai aur is sangrah ki kavitaon ko dekhte hue ye aashvastipurvak kaha ja sakta hai ki is sangrah mein kafi kuchh aisa hai jo kavi ke rachnatmak vikas ki or dhyan aakrisht karta hai aur kahen to prmanit bhi. Is pure sangrah ko ek saath padha jaye to iski ek-ek kavita ke bhitar se ek aisi duniya ubharti hui dikhai padegi, jise samkalin vimarsh ki bhasha mein ‘sabaltarn’ kaha jata hai. Sangrah ki pahli kavita ‘hadaprauli’—iska sabse spasht aur murtt udahran hai. Is prvritti ko suchit karnevali ek saath itni kavitayen yahan mil sakti hain, jo kai baar ek pathak ko rokti-tokti-si lagen. Par ek achchhi baat ye hai ki isi ke chalte anek ne deshaj shabd bhi yahan milenge, jinhen pahli baar kavita ki duniya ki nagarikta di gai hai.
Kul milakar ye ek aisa sangrah hai jo apne khanti desipan ke karan alag se pahchana jayega. Kavita ke ek pathak ke rup mein main ye nissankoch kah sakta hun ki is vishishtta ke alava bhi yahan bahut kuchh milega jo kavita-premiyon ko aakrisht karega aur beshak aashvast bhi.
—kedarnath sinh