Bhaskaracharya

Regular price Rs. 460
Sale price Rs. 460 Regular price Rs. 495
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Cash On Delivery available

Rekhta Certified

7 Days Replacement

Bhaskaracharya

Bhaskaracharya

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

भास्कराचार्य प्राचीन भारत के सबसे महत्त्वपूर्ण गणितज्ञ-खगोलविद् हैं। ईसा की बारहवीं सदी में (1114 ई.), आज से लगभग नौ सौ साल पहले जन्मे भास्कराचार्य ने भारतीय गणित व ज्योतिष को लगभग चरम पर पहुँचा दिया था। विद्वानों का मानना है कि उसके बाद भारत में गणित व ज्योतिष का विकास बहुत कम हुआ। उनकी ‘लीलावती’ पुस्तक के बारे में आज भी गाँवों में बुज़ुर्ग लोग बात करते मिल जाते हैं। इस प्रसंग में एक दिलचस्प घटना का उल्लेख लेखक ने पुस्तक के शुरू में किया भी है।
भारत की देशीय वैज्ञानिक चेतना के पैरोकार तथा अन्वेषक गुणाकर मुळे ने गहन अध्यवसाय तथा शोध के बाद भास्कराचार्य के जीवन, व्यक्तित्व तथा कृतित्व से सम्बन्धित कुछ दुर्लभ तथ्यों की खोज कर इस पुस्तक की रचना की, और गणित के क्षेत्र में सदियों पहले किए गए उनके कार्यों को सरल-सुगम भाषा में प्रस्तुत किया है। पुस्तक का एक महत्त्वपूर्ण पक्ष यह है कि इसमें केवल भास्कराचार्य ही नहीं, बल्कि उनके आविर्भाव से पहले भारत में गणित के विकास और उनके बाद की स्थिति की भी विस्तृत विवेचना की गई है जिससे यह पुस्तक भारतीय गणित ज्योतिष के इतिहास का एक विस्तृत सूचनात्मक ख़ाका भी हमें देती है।
पुस्तक में भास्कराचार्य की जीवनगाथा के सूत्रों को जोड़ने के अलावा उनकी उपलब्ध पुस्तकों—‘लीलावती’, ‘बीजगणित’, ‘सिद्धान्त शिरोमणि’ तथा ‘करण कुतूहल’—पर विस्तृत अध्याय हैं जिनसे हमें इन पुस्तकों की विषय-वस्तु की सम्यक् जानकारी मिलती है और साथ में है विस्तृत परिशिष्ट। जिससे हमें भारतीय गणित-ज्योतिष के बारे में अद्यतन सूचनाएँ तथा गणित-ज्योतिष के आधुनिक इतिहासकारों आदि का परिचय प्राप्त होता है। मसलन परिशिष्ट के एक अध्याय में बताया गया है कि राजा सवाई जयसिंह द्वारा बनवाई वेधशालाओं के बाद भारत में आकाश के अध्ययन अवलोकन के लिए निर्मित साधनों में कितनी प्रगति हुई है।
कहना न होगा कि भारत में गणित-ज्योतिष के विकास-क्रम पर यह एक सम्पूर्ण-ग्रन्थ है। साथ ही यह भी उल्लेखनीय है कि यह स्वर्गीय गुणाकर जी की उन कुछ पुस्तकों में एक है, जिन पर वे अपने अन्तिम दिनों में काम कर रहे थे; हमारा सौभाग्य कि यह पुस्तक उनके ही हाथों पूरी हो चुकी थी। Bhaskracharya prachin bharat ke sabse mahattvpurn ganitagya-khagolvid hain. Iisa ki barahvin sadi mein (1114 ii. ), aaj se lagbhag nau sau saal pahle janme bhaskracharya ne bhartiy ganit va jyotish ko lagbhag charam par pahuncha diya tha. Vidvanon ka manna hai ki uske baad bharat mein ganit va jyotish ka vikas bahut kam hua. Unki ‘lilavti’ pustak ke bare mein aaj bhi ganvon mein buzurg log baat karte mil jate hain. Is prsang mein ek dilchasp ghatna ka ullekh lekhak ne pustak ke shuru mein kiya bhi hai. Bharat ki deshiy vaigyanik chetna ke pairokar tatha anveshak gunakar muळe ne gahan adhyavsay tatha shodh ke baad bhaskracharya ke jivan, vyaktitv tatha krititv se sambandhit kuchh durlabh tathyon ki khoj kar is pustak ki rachna ki, aur ganit ke kshetr mein sadiyon pahle kiye ge unke karyon ko saral-sugam bhasha mein prastut kiya hai. Pustak ka ek mahattvpurn paksh ye hai ki ismen keval bhaskracharya hi nahin, balki unke aavirbhav se pahle bharat mein ganit ke vikas aur unke baad ki sthiti ki bhi vistrit vivechna ki gai hai jisse ye pustak bhartiy ganit jyotish ke itihas ka ek vistrit suchnatmak khaka bhi hamein deti hai.
Pustak mein bhaskracharya ki jivangatha ke sutron ko jodne ke alava unki uplabdh pustkon—‘lilavti’, ‘bijagnit’, ‘siddhant shiromani’ tatha ‘karan kutuhal’—par vistrit adhyay hain jinse hamein in pustkon ki vishay-vastu ki samyak jankari milti hai aur saath mein hai vistrit parishisht. Jisse hamein bhartiy ganit-jyotish ke bare mein adytan suchnayen tatha ganit-jyotish ke aadhunik itihaskaron aadi ka parichay prapt hota hai. Maslan parishisht ke ek adhyay mein bataya gaya hai ki raja savai jaysinh dvara banvai vedhshalaon ke baad bharat mein aakash ke adhyyan avlokan ke liye nirmit sadhnon mein kitni pragati hui hai.
Kahna na hoga ki bharat mein ganit-jyotish ke vikas-kram par ye ek sampurn-granth hai. Saath hi ye bhi ullekhniy hai ki ye svargiy gunakar ji ki un kuchh pustkon mein ek hai, jin par ve apne antim dinon mein kaam kar rahe the; hamara saubhagya ki ye pustak unke hi hathon puri ho chuki thi.

Shipping & Return

Shipping cost is based on weight. Just add products to your cart and use the Shipping Calculator to see the shipping price.

We want you to be 100% satisfied with your purchase. Items can be returned or exchanged within 7 days of delivery.

Offers & Coupons

10% off your first order.
Use Code: FIRSTORDER

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products