BackBack
-11%

Bhartiya Rajniti Aur Sambidhan

Rs. 550 Rs. 490

हिन्‍दी-भाषी समाज के लिए यह स्थिति दुखद है कि देश की ज्वलन्‍त समस्याओं का परिप्रेक्ष्य स्पष्ट करनेवाली गम्‍भीर और व्यवस्थित सामग्री का हिन्‍दी में आज भी घोर अभाव है। प्रख्यात संविधान-विद् और पूर्व संसदीय सचिव सुभाष काश्यप की यह किताब राजनीति को प्रस्थान बिन्‍दु बनाते हुए भ्रष्टाचार अपराधीकरण, जातिवाद और... Read More

BlackBlack
Vendor: Rajkamal Categories: Rajkamal Prakashan Books Tags: Politics
Description

हिन्‍दी-भाषी समाज के लिए यह स्थिति दुखद है कि देश की ज्वलन्‍त समस्याओं का परिप्रेक्ष्य स्पष्ट करनेवाली गम्‍भीर और व्यवस्थित सामग्री का हिन्‍दी में आज भी घोर अभाव है। प्रख्यात संविधान-विद् और पूर्व संसदीय सचिव सुभाष काश्यप की यह किताब राजनीति को प्रस्थान बिन्‍दु बनाते हुए भ्रष्टाचार अपराधीकरण, जातिवाद और साम्‍प्रदायिकता आदि जैसे विषयों पर संविधान और संसद की भूमिकाओं का एक विकास-क्रम में खुलासा करती है। पुस्तक चार भागों में विभाजित है—‘स्वाधीनता की अर्द्धशती’, ‘भारत का संविधान’, ‘भारत की संसद’ और ‘राज्यों में विधानपालिका’। इसमें जहाँ एक ओर संविधान- निर्माण, संविधान की आत्मा और संसद की बहुआयामी भूमिका जैसे मूलभूत प्रश्नों का गहराई के साथ विवेचन हुआ है, वहीं कुछ बिलकुल ताज़ा मुद्‌दों; जैसे—न्यायिक सक्रियता, लोकपाल, दल-बदल, राज्यपालों की भूमिका, राष्ट्रपति शासन और अनुच्छेद 356, सदन-अध्यक्ष की भूमिका और संसदीय विशेषाधिकार आदि जैसे मुद्‌दों पर भी प्रकाश डाला गया है। Hin‍di-bhashi samaj ke liye ye sthiti dukhad hai ki desh ki jvlan‍ta samasyaon ka pariprekshya spasht karnevali gam‍bhir aur vyvasthit samagri ka hin‍di mein aaj bhi ghor abhav hai. Prakhyat sanvidhan-vid aur purv sansdiy sachiv subhash kashyap ki ye kitab rajniti ko prasthan bin‍du banate hue bhrashtachar apradhikran, jativad aur sam‍prdayikta aadi jaise vishyon par sanvidhan aur sansad ki bhumikaon ka ek vikas-kram mein khulasa karti hai. Pustak char bhagon mein vibhajit hai—‘svadhinta ki arddhashti’, ‘bharat ka sanvidhan’, ‘bharat ki sansad’ aur ‘rajyon mein vidhanpalika’. Ismen jahan ek or sanvidhan- nirman, sanvidhan ki aatma aur sansad ki bahuayami bhumika jaise mulbhut prashnon ka gahrai ke saath vivechan hua hai, vahin kuchh bilkul taza mud‌don; jaise—nyayik sakriyta, lokpal, dal-badal, rajypalon ki bhumika, rashtrapati shasan aur anuchchhed 356, sadan-adhyaksh ki bhumika aur sansdiy visheshadhikar aadi jaise mud‌don par bhi prkash dala gaya hai.