BackBack
-11%

Bhartiya Ekta : Dinkar Granthmala

Ramdhari Singh 'Dinkar'

Rs. 250 Rs. 223

राष्ट्रीय एकता का प्रश्न स्वतंत्रता के बाद भी हमारे सामने ज्वलन्त रूप में था और आज भी वैसा ही बना हुआ है। ऐसे में राष्ट्रकवि दिनकर की यह पुस्तक हमारे लिए एक मार्गदशर्क की भूमिका निभा सकती है। ग़ौरतलब है कि वर्ण, धर्म, रंगभेद, वर्ग आदि के आधार पर युगों... Read More

Description

राष्ट्रीय एकता का प्रश्न स्वतंत्रता के बाद भी हमारे सामने ज्वलन्त रूप में था और आज भी वैसा ही बना हुआ है। ऐसे में राष्ट्रकवि दिनकर की यह पुस्तक हमारे लिए एक मार्गदशर्क की भूमिका निभा सकती है।
ग़ौरतलब है कि वर्ण, धर्म, रंगभेद, वर्ग आदि के आधार पर युगों से चली आ रही जो असमानता और बिखराव आज पूँजीवादी युग में अपने विभिन्न रूपों में विभिन्न स्तरों पर व्याप्त है, वह किसी भी राष्ट्र, समाज, उसकी संस्कृति के लिए ख़तरनाक है। तब तो और, जब सत्ता और राजनीति के बीच फासिज्म नवराष्ट्रवाद के नाम पर एक वाचाल और निरंकुश भूमिका में आ गया हो। ऐसे में दिनकर की यह चिन्ता कितनी वाजिब है कि 'एकता का सारा काम केवल राजनीति के मंच से किया जाए, यह यथेष्ट नहीं है। हमें कॉलेजों, स्कूलों और पुस्तकालयों में ऐसा साहित्य भी पहुँचाना चाहिए, जिसमें एकता के प्रश्न पर गहराई से विचार किया गया हो।'
'भारतीय एकता' पुस्तक में दो निबन्ध–‘उत्तर-दक्षिण की एकता’ और ‘हिन्दू मुस्लिम एकता’ संगृहीत हैं, जो राष्ट्रकवि दिनकर के चार भाषणों से तैयार हुए हैं। इनमें इतिहास के प्रमाण कम, साहित्य के प्रमाण अधिक दिए गए हैं। मगर साहित्य के प्रमाण भी अन्ततोगत्वा इतिहास के ही प्रमाण होते हैं, क्योंकि इतिहास का सार साहित्य में, आप-से-आप, पहुँच जाता है।
दिनकर की इस पुस्तक में मूल चिन्तन यह है कि ‘जो लोग वैविध्य को अनेकता मानते हैं और वैविध्य को मिटाकर एकता लाना चाहते हैं, वे कभी भी सफल नहीं होंगे। विविधता भारत का स्वभाव है। उसकी रक्षा करते हुए जो एकता हम ला सकेंगे, वही टिकाऊ होगी और वही काम्य भी है।’ Rashtriy ekta ka prashn svtantrta ke baad bhi hamare samne jvlant rup mein tha aur aaj bhi vaisa hi bana hua hai. Aise mein rashtrakavi dinkar ki ye pustak hamare liye ek margadshark ki bhumika nibha sakti hai. Gauratlab hai ki varn, dharm, rangbhed, varg aadi ke aadhar par yugon se chali aa rahi jo asmanta aur bikhrav aaj punjivadi yug mein apne vibhinn rupon mein vibhinn stron par vyapt hai, vah kisi bhi rashtr, samaj, uski sanskriti ke liye khatarnak hai. Tab to aur, jab satta aur rajniti ke bich phasijm navrashtrvad ke naam par ek vachal aur nirankush bhumika mein aa gaya ho. Aise mein dinkar ki ye chinta kitni vajib hai ki ekta ka sara kaam keval rajniti ke manch se kiya jaye, ye yathesht nahin hai. Hamein kaulejon, skulon aur pustkalyon mein aisa sahitya bhi pahunchana chahiye, jismen ekta ke prashn par gahrai se vichar kiya gaya ho.
Bhartiy ekta pustak mein do nibandh–‘uttar-dakshin ki ekta’ aur ‘hindu muslim ekta’ sangrihit hain, jo rashtrakavi dinkar ke char bhashnon se taiyar hue hain. Inmen itihas ke prman kam, sahitya ke prman adhik diye ge hain. Magar sahitya ke prman bhi anttogatva itihas ke hi prman hote hain, kyonki itihas ka saar sahitya mein, aap-se-ap, pahunch jata hai.
Dinkar ki is pustak mein mul chintan ye hai ki ‘jo log vaividhya ko anekta mante hain aur vaividhya ko mitakar ekta lana chahte hain, ve kabhi bhi saphal nahin honge. Vividhta bharat ka svbhav hai. Uski raksha karte hue jo ekta hum la sakenge, vahi tikau hogi aur vahi kamya bhi hai. ’