Look Inside
Bharatvarsh Mein Jatibhed
Bharatvarsh Mein Jatibhed
Bharatvarsh Mein Jatibhed
Bharatvarsh Mein Jatibhed

Bharatvarsh Mein Jatibhed

Regular price ₹ 372
Sale price ₹ 372 Regular price ₹ 400
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Size guide

Pay On Delivery Available

Rekhta Certified

7 Day Easy Return Policy

Bharatvarsh Mein Jatibhed

Bharatvarsh Mein Jatibhed

Cash-On-Delivery

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7-Days-Replacement

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

भारतवर्ष में सबसे ऊँची जाति ब्राह्मण है। ब्राह्मणों में ऊँच-नीच के असंख्य भेद हैं। प्रदेश-गत भेद भी गिनकर ख़तम नहीं किए जा सकते। इसलिए यह कहना असम्भव है कि ब्राह्मणों की कौन श्रेणी सबसे ऊँची है। दक्षिण भारत में स्पर्श-विचार और भी प्रबल है। वहाँ जिनके स्पर्श से ब्राह्मण लोग अपवित्र नहीं होते और जिनका जल ग्रहणीय होता है, वे ही अच्छी जातियाँ हैं। नीच जाति का छुआ जल ग्रहण करने योग्य नहीं होता। जिनके छूने से मिट्टी के बर्तन भी अपवित्र हो जाते हैं, वे और भी नीच हैं। उनके भी नीचे वे हैं जिनके छूने से धातु के पात्र भी अपवित्र हो जाते हैं। इनके भी नीचे वे जातियाँ हैं, जो यदि मन्दिर के प्रांगण में प्रवेश करें तो मन्दिर अपवित्र हो जाता है। कुछ ऐसी भी जातियाँ हैं जिनके किसी ग्राम या नगर में प्रवेश करने पर समूचा गाँव-का-गाँव अशुद्ध हो जाता है।
आजकल इस छूआछूत के विषय में नाना स्थानों में लोक-मत हिल चुका है। जो लोग सौभाग्यवश ऊँची जाति में उत्पन्न हुए हैं, वे प्राय: इतना विचार पसन्द नहीं करते, और जो लोग दुर्भाग्यवश तथाकथित नीची जातियों में जन्मे हैं, वे अब अपने को एकदम हीन और पतित मानने को तैयार नहीं है, किन्तु नीची जातियों में अपने से नीच जातियों को दबाकर रखने का प्रयास प्राय: ही दिखाई दे जाता है।
स्वामी दयानन्द का कहना है कि ‘‘भारतवर्ष में असंख्य जातिभेद के स्थान पर केवल चार वर्ण रहें। ये चार वर्ण भी गुण-कर्म के द्वारा निश्चित हों, जनम से नहीं। वेद के अधिकार से कोई भी वर्ण वंचित न हो।’’
महात्मा गाँधी अस्पृश्यता के विरोधी हैं, किन्तु वर्णाश्रम व्यवस्था के विरोधी नहीं हैं। वर्णाश्रम मनुष्य के स्वभाव में निहित है, हिन्दू-धर्म ने उसे ही वैज्ञानिक रूप में प्रतिष्ठित किया है। जन्म से वर्ण निर्णीत होता है, इच्छा करके कोई इसे बदल नहीं सकता। Bharatvarsh mein sabse uunchi jati brahman hai. Brahmnon mein uunch-nich ke asankhya bhed hain. Prdesh-gat bhed bhi ginkar khatam nahin kiye ja sakte. Isaliye ye kahna asambhav hai ki brahmnon ki kaun shreni sabse uunchi hai. Dakshin bharat mein sparsh-vichar aur bhi prbal hai. Vahan jinke sparsh se brahman log apvitr nahin hote aur jinka jal grahniy hota hai, ve hi achchhi jatiyan hain. Nich jati ka chhua jal grhan karne yogya nahin hota. Jinke chhune se mitti ke bartan bhi apvitr ho jate hain, ve aur bhi nich hain. Unke bhi niche ve hain jinke chhune se dhatu ke patr bhi apvitr ho jate hain. Inke bhi niche ve jatiyan hain, jo yadi mandir ke prangan mein prvesh karen to mandir apvitr ho jata hai. Kuchh aisi bhi jatiyan hain jinke kisi gram ya nagar mein prvesh karne par samucha ganv-ka-ganv ashuddh ho jata hai. Aajkal is chhuachhut ke vishay mein nana sthanon mein lok-mat hil chuka hai. Jo log saubhagyvash uunchi jati mein utpann hue hain, ve pray: itna vichar pasand nahin karte, aur jo log durbhagyvash tathakthit nichi jatiyon mein janme hain, ve ab apne ko ekdam hin aur patit manne ko taiyar nahin hai, kintu nichi jatiyon mein apne se nich jatiyon ko dabakar rakhne ka pryas pray: hi dikhai de jata hai.
Svami dayanand ka kahna hai ki ‘‘bharatvarsh mein asankhya jatibhed ke sthan par keval char varn rahen. Ye char varn bhi gun-karm ke dvara nishchit hon, janam se nahin. Ved ke adhikar se koi bhi varn vanchit na ho. ’’
Mahatma gandhi asprishyta ke virodhi hain, kintu varnashram vyvastha ke virodhi nahin hain. Varnashram manushya ke svbhav mein nihit hai, hindu-dharm ne use hi vaigyanik rup mein prtishthit kiya hai. Janm se varn nirnit hota hai, ichchha karke koi ise badal nahin sakta.

Shipping & Return
  • Over 27,000 Pin Codes Served: Nationwide Delivery Across India!

  • Upon confirmation of your order, items are dispatched within 24-48 hours on business days.

  • Certain books may be delayed due to alternative publishers handling shipping.

  • Typically, orders are delivered within 5-7 days.

  • Delivery partner will contact before delivery. Ensure reachable number; not answering may lead to return.

  • Study the book description and any available samples before finalizing your order.

  • To request a replacement, reach out to customer service via phone or chat.

  • Replacement will only be provided in cases where the wrong books were sent. No replacements will be offered if you dislike the book or its language.

Note: Saturday, Sunday and Public Holidays may result in a delay in dispatching your order by 1-2 days.

Offers & Coupons

Use code FIRSTORDER to get 10% off your first order.


Use code REKHTA10 to get a discount of 10% on your next Order.


You can also Earn up to 20% Cashback with POP Coins and redeem it in your future orders.

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products