Bharat Mein Angrezi Raj Aur Marxvaad : Vol. 2

Regular price Rs. 460
Sale price Rs. 460 Regular price Rs. 495
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Cash On Delivery available

Rekhta Certified

7 Days Replacement

Bharat Mein Angrezi Raj Aur Marxvaad : Vol. 2

Bharat Mein Angrezi Raj Aur Marxvaad : Vol. 2

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

सुविख्यात समालोचक, भाषाविद् और इतिहासवेत्ता डॉ. रामविलास शर्मा प्रणीत अप्रतिम इतिहासग्रन्थ ‘भारत में अंग्रेज़ी राज और मार्क्सवाद’ का यह दूसरा खंड है। अपनी महत्ता में यह ग्रन्थ लेखक की सर्वाधिक महत्त्वपूर्ण कृतियों—‘निराला की साहित्य साधना’ तथा ‘भारत के प्राचीन भाषा परिवार और हिन्दी’—के समकक्ष ऐतिहासिकता लिए हुए है।
पुस्तक के पहले खंड की तरह रामविलास जी ने इस खंड को भी छह अध्यायों में नियोजित किया है। इसके पहले दोनों अध्याय क्रान्ति और सामाजिक विकास के सन्दर्भ में मार्क्स की स्थापनाओं का विवेचन करते हैं और तीसरे अध्याय में मार्क्स की उन धारणाओं का विश्लेषण है, जो भारत में अंग्रेज़ी राज से सम्बद्ध हैं। चौथा अध्याय फ़्रांसीसी यात्री बर्नियर से लेकर रजनी पाम दत्त तक कई भारतीय चिन्तकों के उन विचारों को रेखांकित करता है; जो भारत के आर्थिक और सामाजिक विकास पर प्रामाणिक प्रकाश डालते हैं। पाँचवाँ अध्याय भारतीय कम्युनिस्ट आन्दोलन के विभिन्न उतार-चढ़ावों का बेबाक विश्लेषण करता है, जिससे वर्तमान स्थितियों पर भी सार्थक सोच की शुरुआत की जा सकती है। छठे अध्याय में सत्ता-हस्तान्तरण तथा भारत-कॉमनवेल्थ-सम्बन्धों का गम्भीर विवेचन हुआ है।
संक्षेप में, यह ग्रन्थ भारतीय इतिहास के सर्वाधिक महत्त्वपूर्ण और विवादास्पद कालखंड का सर्वथा नया मूल्यांकन प्रस्तुत करता है। भारत के वर्तमान और भावी स्वरूप के सन्दर्भ में इससे हमें जो दृष्टि प्राप्त होती है, उससे आज तक का जाना हुआ इतिहास अपने मिथ्या की अनेकानेक केंचुलियाँ उतारकर पूरी तरह निरावरण हो उठता है। यह प्रक्रिया पाठक को न सिर्फ़ लेखक के विराट वैज्ञानिक इतिहासबोध के मूल तक ले जाती है, बल्कि अर्थतंत्र से लेकर भाषा, संस्कृति और स्वदेशी को धुरी बनाकर एक नए भारत के निर्माण की आकांक्षा को भी अनुभूत कराती है। Suvikhyat samalochak, bhashavid aur itihasvetta dau. Ramavilas sharma prnit aprtim itihasagranth ‘bharat mein angrezi raaj aur marksvad’ ka ye dusra khand hai. Apni mahatta mein ye granth lekhak ki sarvadhik mahattvpurn kritiyon—‘nirala ki sahitya sadhna’ tatha ‘bharat ke prachin bhasha parivar aur hindi’—ke samkaksh aitihasikta liye hue hai. Pustak ke pahle khand ki tarah ramavilas ji ne is khand ko bhi chhah adhyayon mein niyojit kiya hai. Iske pahle donon adhyay kranti aur samajik vikas ke sandarbh mein marks ki sthapnaon ka vivechan karte hain aur tisre adhyay mein marks ki un dharnaon ka vishleshan hai, jo bharat mein angrezi raaj se sambaddh hain. Chautha adhyay fransisi yatri barniyar se lekar rajni paam datt tak kai bhartiy chintkon ke un vicharon ko rekhankit karta hai; jo bharat ke aarthik aur samajik vikas par pramanik prkash dalte hain. Panchavan adhyay bhartiy kamyunist aandolan ke vibhinn utar-chadhavon ka bebak vishleshan karta hai, jisse vartman sthitiyon par bhi sarthak soch ki shuruat ki ja sakti hai. Chhathe adhyay mein satta-hastantran tatha bharat-kaumanvelth-sambandhon ka gambhir vivechan hua hai.
Sankshep mein, ye granth bhartiy itihas ke sarvadhik mahattvpurn aur vivadaspad kalkhand ka sarvtha naya mulyankan prastut karta hai. Bharat ke vartman aur bhavi svrup ke sandarbh mein isse hamein jo drishti prapt hoti hai, usse aaj tak ka jana hua itihas apne mithya ki anekanek kenchuliyan utarkar puri tarah niravran ho uthta hai. Ye prakriya pathak ko na sirf lekhak ke virat vaigyanik itihasbodh ke mul tak le jati hai, balki arthtantr se lekar bhasha, sanskriti aur svdeshi ko dhuri banakar ek ne bharat ke nirman ki aakanksha ko bhi anubhut karati hai.

Shipping & Return

Shipping cost is based on weight. Just add products to your cart and use the Shipping Calculator to see the shipping price.

We want you to be 100% satisfied with your purchase. Items can be returned or exchanged within 7 days of delivery.

Offers & Coupons

10% off your first order.
Use Code: FIRSTORDER

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products