BackBack
-11%

Bharat Mein Angrezi Raj Aur Marxvaad : Vol. 1

Rs. 1,500 Rs. 1,335

मार्क्सवादी हिन्दी आलोचना और भाषाविज्ञान विषयक युगान्तकारी कृतित्व की कड़ी में डॉ. रामविलास शर्मा की यह एक और उपलब्धि-कृति है। दो खंडो़ में प्रकाशित इतिहास विषयक इस ग्रन्थ का यह पहला खंड है। छह अध्यायों में विभक्त इस खंड की मुख्य प्रस्थापना यह है कि भारतीय जनता की समाजवादी चेतना... Read More

Description

मार्क्सवादी हिन्दी आलोचना और भाषाविज्ञान विषयक युगान्तकारी कृतित्व की कड़ी में डॉ. रामविलास शर्मा की यह एक और उपलब्धि-कृति है। दो खंडो़ में प्रकाशित इतिहास विषयक इस ग्रन्थ का यह पहला खंड है।
छह अध्यायों में विभक्त इस खंड की मुख्य प्रस्थापना यह है कि भारतीय जनता की समाजवादी चेतना उसकी साम्राज्यविरोधी चेतना का ही प्रसार है। इसे साहित्य और राजनीति, दोनों के विश्लेषण और आवश्यक प्रमाणों सहित इस खंड में स्पष्ट किया गया है। इसके पहले अध्याय में रामविलास जी ने विश्व बाज़ार क़ायम करनेवाली ब्रिटिश-नीति की विवेचना की है और सिद्ध किया है कि भारत इसी का एक महत्त्वपूर्ण हिस्सा था। तभी तो भारतीय माल को ब्रिटिश बाज़ार में बेचनेवाले अंग्रेज़ व्यापारी कुछ ही वर्षों के बाद ब्रिटिश माल को भारतीय बाज़ारों में बचने योग्य हो गए। दूसरे अध्याय में गदर, गदर पार्टी और क्रान्तिकारी दल की चर्चा करते हुए जयप्रकाश नारायण, जवाहरलाल नेहरू और मार्क्सवादियों के तत्सम्बन्धी दृष्टिकोण की समीक्षा की गई है। तीसरे अध्याय में लाला हरदयाल, जयप्रकाश और नेहरू की मार्क्सवादी धारणाओं का विवेचन हुआ है। चौथा अध्याय ऐतिहासिक दृष्टि से अत्यधिक महत्त्वपूर्ण उस हिन्दी साहित्य को सामने रखता है जो 1917 में रूसी क्रान्ति से पूर्व लिखा जाकर भी मार्क्सवादी विचारधारा से सम्बद्ध है। पाँचवें अध्याय में डॉ. शर्मा ने स्वाधीनता-प्राप्ति के लिए समझौतावादी और क्रान्तिकारी, दोनों रुझानों का विश्लेषण करते हुए उन पर किसान-मज़दूर-संगठनों के प्रभाव का आकलन किया है और छठे अध्याय में, दूसरे विश्वयुद्ध के बाद भारतीय क्रान्तिकारी उभार पर मुस्लिम सम्प्रदायवाद की शक्ल में किए गए साम्राज्यवादी हमले की भीतरी परतों की गहरी पड़ताल की है।
संक्षेप में डॉ. रामविलास शर्मा का यह ग्रन्थ अंग्रेज़ी राज के दौरान भारतीय जनता की साम्राज्यवाद-विरोधी संघर्ष-चेतना और उसके विरुद्ध रची गई पेचीदा साज़िशों का पहली बार प्रामाणिक विश्लेषण प्रस्तुत करता है। Marksvadi hindi aalochna aur bhashavigyan vishyak yugantkari krititv ki kadi mein dau. Ramavilas sharma ki ye ek aur uplabdhi-kriti hai. Do khando mein prkashit itihas vishyak is granth ka ye pahla khand hai. Chhah adhyayon mein vibhakt is khand ki mukhya prasthapna ye hai ki bhartiy janta ki samajvadi chetna uski samrajyavirodhi chetna ka hi prsar hai. Ise sahitya aur rajniti, donon ke vishleshan aur aavashyak prmanon sahit is khand mein spasht kiya gaya hai. Iske pahle adhyay mein ramavilas ji ne vishv bazar qayam karnevali british-niti ki vivechna ki hai aur siddh kiya hai ki bharat isi ka ek mahattvpurn hissa tha. Tabhi to bhartiy maal ko british bazar mein bechnevale angrez vyapari kuchh hi varshon ke baad british maal ko bhartiy bazaron mein bachne yogya ho ge. Dusre adhyay mein gadar, gadar parti aur krantikari dal ki charcha karte hue jayaprkash narayan, javaharlal nehru aur marksvadiyon ke tatsambandhi drishtikon ki samiksha ki gai hai. Tisre adhyay mein lala haradyal, jayaprkash aur nehru ki marksvadi dharnaon ka vivechan hua hai. Chautha adhyay aitihasik drishti se atydhik mahattvpurn us hindi sahitya ko samne rakhta hai jo 1917 mein rusi kranti se purv likha jakar bhi marksvadi vichardhara se sambaddh hai. Panchaven adhyay mein dau. Sharma ne svadhinta-prapti ke liye samjhautavadi aur krantikari, donon rujhanon ka vishleshan karte hue un par kisan-mazdur-sangathnon ke prbhav ka aaklan kiya hai aur chhathe adhyay mein, dusre vishvyuddh ke baad bhartiy krantikari ubhar par muslim samprdayvad ki shakl mein kiye ge samrajyvadi hamle ki bhitri parton ki gahri padtal ki hai.
Sankshep mein dau. Ramavilas sharma ka ye granth angrezi raaj ke dauran bhartiy janta ki samrajyvad-virodhi sangharsh-chetna aur uske viruddh rachi gai pechida sazishon ka pahli baar pramanik vishleshan prastut karta hai.