BackBack
-11%

Apne Aakash Mein

Rs. 300 Rs. 267

सविता भार्गव के पहले काव्य-संकलन का नाम था—'किसका है आसमान’। पाँच-छह साल बाद 'किसका' जैसे प्रश्न से मुक्त होकर कवयित्री ने स्वयं के आकाश की रचना कर ली है। 'अपने आकाश में' की कविताएँ जीवन-विवेक और काव्य-विवेक में बड़े परिवर्तन का संकेत देती हैं। पहले संकलन में यथार्थ और उसकी... Read More

BlackBlack
Description

सविता भार्गव के पहले काव्य-संकलन का नाम था—'किसका है आसमान’। पाँच-छह साल बाद 'किसका' जैसे प्रश्न से मुक्त होकर कवयित्री ने स्वयं के आकाश की रचना कर ली है।
'अपने आकाश में' की कविताएँ जीवन-विवेक और काव्य-विवेक में बड़े परिवर्तन का संकेत देती हैं। पहले संकलन में यथार्थ और उसकी जो रचना-कला है, उससे सम्बन्ध बनाए रखते हुए नई 'सामर्थ्य'—जिसमें यथार्थबोध और आत्मबोध का गहरा मुठभेड़ दिखाई पड़ता है—का परिचय दिया गया है। इसे यथार्थ पर रोमांटिक वेग के दबाव के रूप में भी देख सकते हैं। सविता कविता में बार-बार अपनी छवि गढ़ने की कोशिश करती हैं। तरह-तरह की छवियाँ निश्चित बेजान होतीं, अगर स्वयं तक सीमित होतीं। उनकी शक्ति यह है कि वे एक ओर स्त्री के निगूढ़ संसार को प्रतिबिम्बित करती हैं, दूसरी ओर उस समाज को जिसमें स्त्री साँस लेती है। स्त्री-छवि को जिस तरह से वे गढ़ती हैं, उसमें पुरुष की अलग से छवि रचने की आवश्यकता बहुत कम रह जाती है। नारीवादी कवयित्रियों से सविता इस मायने में भिन्न हैं कि वे पुरुष समाज के प्रति आलोचना का भाव रखती अवश्य हैं, किन्तु पुरुष के प्रति समूचे मन से निष्ठा का परिचय देती हैं। वे इस विश्वास का परिचय देती हैं कि स्त्री स्वतंत्र तारिका है, लेकिन उसकी आत्मा ईमानदार और सम्पूर्ण पुरुष के प्रति समर्पित है।
सविता पुरुष-सत्ता का विरोध भी मज़े-मज़े में करती हैं। एक कविता है—'पुरुष होना चाहती
हूँ'। उसमें अपनी देह से पुरुष के 'गुनाह' का आनन्द पुरुष बनकर लिया गया है।
सविता में अन्तर्बाधा नहीं है। साहसी कवयित्री हैं—स्त्री के आत्मविश्वास की कवयित्री। अच्छी बात यह है कि स्त्री की 'सच्ची प्रतिमा' गढ़ने की ललक उनकी मुख्य प्रवृत्‍त‍ि है।
सविता में पर्याप्त आत्ममुग्धता है। आत्मरति है। लेकिन वह खटकती नहीं है। उसमें स्त्री के स्वत्व और सत्त्व, दोनों की प्रतिष्ठा का प्रयास दिखाई पड़ता है। दूसरी बात, सविता में 'स्त्री' और 'कवयित्री' का प्रकृति से तादात्म्य विशेष महत्त्व रखता है। प्रकृति उनके लिए जीने और सीखने की सही जगह है; उसी के ज़रिए सामाजिक अनुभव की कटुता की क्षतिपूर्ति करती हैं। 'अपने आकाश में' संकलन में काव्य-ऊर्जा का नया क्षेत्र तैयार होता दिखाई पड़ता है। Savita bhargav ke pahle kavya-sanklan ka naam tha—kiska hai aasman’. Panch-chhah saal baad kiska jaise prashn se mukt hokar kavyitri ne svayan ke aakash ki rachna kar li hai. Apne aakash men ki kavitayen jivan-vivek aur kavya-vivek mein bade parivartan ka sanket deti hain. Pahle sanklan mein yatharth aur uski jo rachna-kala hai, usse sambandh banaye rakhte hue nai samarthya—jismen yatharthbodh aur aatmbodh ka gahra muthbhed dikhai padta hai—ka parichay diya gaya hai. Ise yatharth par romantik veg ke dabav ke rup mein bhi dekh sakte hain. Savita kavita mein bar-bar apni chhavi gadhne ki koshish karti hain. Tarah-tarah ki chhaviyan nishchit bejan hotin, agar svayan tak simit hotin. Unki shakti ye hai ki ve ek or stri ke nigudh sansar ko pratibimbit karti hain, dusri or us samaj ko jismen stri sans leti hai. Stri-chhavi ko jis tarah se ve gadhti hain, usmen purush ki alag se chhavi rachne ki aavashyakta bahut kam rah jati hai. Narivadi kavyitriyon se savita is mayne mein bhinn hain ki ve purush samaj ke prati aalochna ka bhav rakhti avashya hain, kintu purush ke prati samuche man se nishtha ka parichay deti hain. Ve is vishvas ka parichay deti hain ki stri svtantr tarika hai, lekin uski aatma iimandar aur sampurn purush ke prati samarpit hai.
Savita purush-satta ka virodh bhi maze-maze mein karti hain. Ek kavita hai—purush hona chahti
Hun. Usmen apni deh se purush ke gunah ka aanand purush bankar liya gaya hai.
Savita mein antarbadha nahin hai. Sahsi kavyitri hain—stri ke aatmvishvas ki kavyitri. Achchhi baat ye hai ki stri ki sachchi pratima gadhne ki lalak unki mukhya prvrit‍ta‍i hai.
Savita mein paryapt aatmmugdhta hai. Aatmarati hai. Lekin vah khatakti nahin hai. Usmen stri ke svatv aur sattv, donon ki pratishta ka pryas dikhai padta hai. Dusri baat, savita mein stri aur kavyitri ka prkriti se tadatmya vishesh mahattv rakhta hai. Prkriti unke liye jine aur sikhne ki sahi jagah hai; usi ke zariye samajik anubhav ki katuta ki kshtipurti karti hain. Apne aakash men sanklan mein kavya-uurja ka naya kshetr taiyar hota dikhai padta hai.

Additional Information
Color

Black

Publisher
Language
ISBN
Pages
Publishing Year