Look Inside
Anvaya - Khand : 1
Anvaya - Khand : 1
Anvaya - Khand : 1
Anvaya - Khand : 1
Anvaya - Khand : 1
Anvaya - Khand : 1
Anvaya - Khand : 1
Anvaya - Khand : 1
Anvaya - Khand : 1
Anvaya - Khand : 1

Anvaya - Khand : 1

Regular price ₹ 1,204
Sale price ₹ 1,204 Regular price ₹ 1,295
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Pay On Delivery Available

Rekhta Certified

7 Day Easy Return Policy

Anvaya - Khand : 1

Anvaya - Khand : 1

Cash-On-Delivery

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7-Days-Replacement

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

कुँवर नारायण ने लगभग सात दशकों का समृद्ध साहित्यिक जीवन जिया है। वे विश्व के श्रेष्ठ कवियों में गिने जाते हैं। उनके रचना-संसार पर समय-समय पर लिखा जाता रहा है तथा अनेक मर्मज्ञ लेखकों, कवियों एवं शोधार्थियों ने उनके व्यक्तित्व और साहित्य पर कार्य किया है। उन पर अनेक ग्रन्थ लिखे व सम्पादित किए गए हैं और देशी-विदेशी संचयनों में उनकी कविताएँ शामिल हैं। अनेक भाषाओं में उनकी कृतियों के अनुवाद हुए हैं।
उन्होंने अपनी कविता-यात्रा में हमें कई नायाब संग्रह दिए हैं। जहाँ उनकी कविताएँ स्मृति और परम्परा से सम्पन्न हैं, वहीं उनकी कहानियाँ क़ि‍स्सागो के रूप में उनके अलग मिज़ाज की बानगी देती हैं। एक समालोचक और गद्यकार के रूप में उनकी आलोचना, निबन्ध, डायरी, सिने-विवेचन और भेंटवार्ताओं की पुस्तकें साहित्य, कला, जीवन, समाज, राजनीति और संस्कृति पर उनके सारभूत चिन्तन की विरल उदाहरण हैं। विश्व कवियों के उनके अनुवाद काव्यानुवाद कौशल के परिचायक हैं। वे उच्च काव्यादर्श के कवि हैं जिसका पूर्ण परिपाक उनके प्रबन्ध काव्यों में देखने को मिलता है। ऐसे उच्चादर्शों के लिए वे अतीत, इतिहास और मिथक के पास जाते हैं जिनसे रूबरू होते हुए हम अपने समय का एक आधुनिक प्रतिबिम्ब देख पाते हैं। उनकी कविता इसी सदाशयता की कविता है। बिना शोरोगुल के कविता में वह ऐसी शहदीली मिठास पैदा कर देते हैं कि उसे पढ़ते ही सृष्टि से प्यार हो उठे।
कुँवर नारायण जितने अच्छे कवि, आलोचक और चिन्तक हैं, उतने ही अच्छे मनुष्य। उनसे मिलते हुए कभी उनके व्यक्तित्व का आतंक नहीं महसूस होता, अपने व्यक्तित्व की लघुता नहीं महसूस होती। उनके व्यक्तित्व और रचना-संसार पर हमारे समय के सुधी चिन्तकों और साहित्यिकों के आकलन का यह खंड उन पर लिखी गई समालोचना का एक श्रेष्ठ उपहार है। उन पर लिखे आलोचनात्मक निबन्धों का यह चयन दो खंडों में है : ‘अन्वय’ और ‘अन्विति’। ‘अन्वय’ के इस खंड में उनके व्यक्तित्व और कृतित्व पर लिखे आलेख समाहित हैं। ‘अन्विति’ उनकी कृतियों को केन्द्र में रखकर लिखे निबन्धों का चयन है। आशा है, कुँवर नारायण के साहित्य और व्यक्तित्व में रुचि रखनेवाले सभी पाठकों के लिए ये दोनों खंड मूल्यवान साबित होंगे। Kunvar narayan ne lagbhag saat dashkon ka samriddh sahityik jivan jiya hai. Ve vishv ke shreshth kaviyon mein gine jate hain. Unke rachna-sansar par samay-samay par likha jata raha hai tatha anek marmagya lekhkon, kaviyon evan shodharthiyon ne unke vyaktitv aur sahitya par karya kiya hai. Un par anek granth likhe va sampadit kiye ge hain aur deshi-videshi sanchaynon mein unki kavitayen shamil hain. Anek bhashaon mein unki kritiyon ke anuvad hue hain. Unhonne apni kavita-yatra mein hamein kai nayab sangrah diye hain. Jahan unki kavitayen smriti aur parampra se sampann hain, vahin unki kahaniyan qi‍ssago ke rup mein unke alag mizaj ki bangi deti hain. Ek samalochak aur gadykar ke rup mein unki aalochna, nibandh, dayri, sine-vivechan aur bhentvartaon ki pustken sahitya, kala, jivan, samaj, rajniti aur sanskriti par unke sarbhut chintan ki viral udahran hain. Vishv kaviyon ke unke anuvad kavyanuvad kaushal ke parichayak hain. Ve uchch kavyadarsh ke kavi hain jiska purn paripak unke prbandh kavyon mein dekhne ko milta hai. Aise uchchadarshon ke liye ve atit, itihas aur mithak ke paas jate hain jinse rubru hote hue hum apne samay ka ek aadhunik pratibimb dekh pate hain. Unki kavita isi sadashayta ki kavita hai. Bina shorogul ke kavita mein vah aisi shahdili mithas paida kar dete hain ki use padhte hi srishti se pyar ho uthe.
Kunvar narayan jitne achchhe kavi, aalochak aur chintak hain, utne hi achchhe manushya. Unse milte hue kabhi unke vyaktitv ka aatank nahin mahsus hota, apne vyaktitv ki laghuta nahin mahsus hoti. Unke vyaktitv aur rachna-sansar par hamare samay ke sudhi chintkon aur sahityikon ke aaklan ka ye khand un par likhi gai samalochna ka ek shreshth uphar hai. Un par likhe aalochnatmak nibandhon ka ye chayan do khandon mein hai : ‘anvay’ aur ‘anviti’. ‘anvay’ ke is khand mein unke vyaktitv aur krititv par likhe aalekh samahit hain. ‘anviti’ unki kritiyon ko kendr mein rakhkar likhe nibandhon ka chayan hai. Aasha hai, kunvar narayan ke sahitya aur vyaktitv mein ruchi rakhnevale sabhi pathkon ke liye ye donon khand mulyvan sabit honge.

Shipping & Return
  • Over 27,000 Pin Codes Served: Nationwide Delivery Across India!

  • Upon confirmation of your order, items are dispatched within 24-48 hours on business days.

  • Certain books may be delayed due to alternative publishers handling shipping.

  • Typically, orders are delivered within 5-7 days.

  • Delivery partner will contact before delivery. Ensure reachable number; not answering may lead to return.

  • Study the book description and any available samples before finalizing your order.

  • To request a replacement, reach out to customer service via phone or chat.

  • Replacement will only be provided in cases where the wrong books were sent. No replacements will be offered if you dislike the book or its language.

Note: Saturday, Sunday and Public Holidays may result in a delay in dispatching your order by 1-2 days.

Offers & Coupons

Use code FIRSTORDER to get 10% off your first order.


Use code REKHTA10 to get a discount of 10% on your next Order.


You can also Earn up to 20% Cashback with POP Coins and redeem it in your future orders.

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products