BackBack
-11%

Ant Anant

Rs. 250 Rs. 223

यह संकलन सम्‍पूर्ण निराला-काव्य का परिचय देने के लिए नहीं, बल्कि इस उद्देश्य से तैयार किया गया है कि इससे पाठकों को उसकी मनोहर तथा उदात्त झाँकी-भर प्राप्त हो, जिससे वे उसकी ओर आकृष्ट हों और आगे बढ़ें। निराला की ख़ासियत क्या है? वे प्रचंड रूमानी होते हुए भी क्लासिकी... Read More

BlackBlack
Description

यह संकलन सम्‍पूर्ण निराला-काव्य का परिचय देने के लिए नहीं, बल्कि इस उद्देश्य से तैयार किया गया है कि इससे पाठकों को उसकी मनोहर तथा उदात्त झाँकी-भर प्राप्त हो, जिससे वे उसकी ओर आकृष्ट हों और आगे बढ़ें।
निराला की ख़ासियत क्या है? वे प्रचंड रूमानी होते हुए भी क्लासिकी हैं, भावुक होते हुए भी बौद्धिक, क्रान्तिकारी होते हुए भी परम्परावादी तथा जहाँ सरल हैं, वहाँ भी एक हद तक कठिन। उनकी अपनी शैली है, अपनी काव्य-भाषा। अभिव्यक्ति की अपनी भंगिमाएँ और मुद्राएँ।
यह सर्वथा स्वाभाविक है कि उनके निकट जानेवाले पाठकों से यह अपेक्षा की जाए कि उनका काव्यानुभव बच्चन, दिनकर या मैथिलीशरण गुप्त तक ही सीमित न हो। जब वे किंचित् प्रयासपूर्वक उक्त कवियों से हटकर उनके काव्य-लोक में प्रवेश करेंगे, तो पाएँगे कि उनकी तुलना में वे उनके ज्‍़यादा आत्मीय हैं।
निराला के प्रसंग में सरलता का यह मतलब क़तई नहीं है कि उनकी कविताएँ पाठकों के मन में बेरोक-टोक उतर जाएँ। कारण यह है कि उनके लिए काव्य-राचन सशक्त भावनाओं का मात्र अनायास विस्फोट नहीं था, बल्कि वे अपनी प्रत्येक कविता को किंचित् आयासपूर्वक पूरी बौद्धिक सजगता के साथ गढ़ते थे। स्वभावतः उनकी सम्पूर्ण अभिव्यकि कलात्मक अवरोध से युक्त है, जिसे ग्रहण करने के लिए थोड़ा धैर्य और श्रम आवश्यक है।
इस पुस्तक में निराला के काव्य-विकास की तीनों अवस्थाओं—पूर्ववर्ती, मध्यवर्ती और परवर्ती—की सौ चुनी हुई सरल कविताएँ संकलित की गई हैं, प्राय रचना-क्रम से। आरम्भिक दोनों अवस्थाओं में सृजन के कई-कई दौर रहे हैं, कविता और गीत के, जिसकी सूचना अनुक्रम से लेकर पुस्तक के भीतर सामग्री-संयोजन तक में दी गई है।
पाठक मानेंगे कि यह कविता की एक नई दुनिया है, अधिक आत्मीय और प्रत्यक्ष, जिसे भाषा सजाती नहीं बल्कि अपनी भीतरी शक्ति से खड़ी करती है। Ye sanklan sam‍purn nirala-kavya ka parichay dene ke liye nahin, balki is uddeshya se taiyar kiya gaya hai ki isse pathkon ko uski manohar tatha udatt jhanki-bhar prapt ho, jisse ve uski or aakrisht hon aur aage badhen. Nirala ki khasiyat kya hai? ve prchand rumani hote hue bhi klasiki hain, bhavuk hote hue bhi bauddhik, krantikari hote hue bhi parampravadi tatha jahan saral hain, vahan bhi ek had tak kathin. Unki apni shaili hai, apni kavya-bhasha. Abhivyakti ki apni bhangimayen aur mudrayen.
Ye sarvtha svabhavik hai ki unke nikat janevale pathkon se ye apeksha ki jaye ki unka kavyanubhav bachchan, dinkar ya maithilishran gupt tak hi simit na ho. Jab ve kinchit pryaspurvak ukt kaviyon se hatkar unke kavya-lok mein prvesh karenge, to payenge ki unki tulna mein ve unke ‍yada aatmiy hain.
Nirala ke prsang mein saralta ka ye matlab qatii nahin hai ki unki kavitayen pathkon ke man mein berok-tok utar jayen. Karan ye hai ki unke liye kavya-rachan sashakt bhavnaon ka matr anayas visphot nahin tha, balki ve apni pratyek kavita ko kinchit aayaspurvak puri bauddhik sajagta ke saath gadhte the. Svbhavatः unki sampurn abhivyaki kalatmak avrodh se yukt hai, jise grhan karne ke liye thoda dhairya aur shram aavashyak hai.
Is pustak mein nirala ke kavya-vikas ki tinon avasthaon—purvvarti, madhyvarti aur parvarti—ki sau chuni hui saral kavitayen sanklit ki gai hain, pray rachna-kram se. Aarambhik donon avasthaon mein srijan ke kai-kai daur rahe hain, kavita aur git ke, jiski suchna anukram se lekar pustak ke bhitar samagri-sanyojan tak mein di gai hai.
Pathak manenge ki ye kavita ki ek nai duniya hai, adhik aatmiy aur pratyaksh, jise bhasha sajati nahin balki apni bhitri shakti se khadi karti hai.