Look Inside
Anima
Anima
Anima
Anima

Anima

Regular price Rs. 233
Sale price Rs. 233 Regular price Rs. 250
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Pay On Delivery Available

Rekhta Certified

7 Day Easy Return Policy

Anima

Anima

Cash-On-Delivery

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7-Days-Replacement

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

पंडित नन्ददुलारे वाजपयी ने लिखा है कि हिन्‍दी में सबसे कठिन विषय निराला का काव्य-विकास है। इसका कारण यह है कि उनकी संवेदना एक साथ अनेक स्तरों पर संचरण ही नहीं करती थी, प्रायः एक संवेदना दूसरी संवेदना से उलझी हुई भी होती थी। इसका सबसे बढ़िया उदहारण उनका 'अणिमा' नमक कविता-संग्रह है।
इसमें छायावादी सौन्‍दर्य-स्वप्न को औदात्य प्रदान करनेवाला गीत 'नुपुर के सुर मन्‍द रहे, जब न चरण स्वच्छन्‍द रहे' जैसे आध्यात्मिक गीत हैं, तो 'गहन है यह अन्‍धकरा' जैसे राष्ट्रीय गीत भी। इसी तरह इसमें 'स्नेह-निर्झर बह गया है' जैसे वस्तुपरक गीत भी। कुछ कविताओं में निराला ने छायावादी सौन्‍दर्य-स्वप्न को एकदम मिटाकर नए कठोर यथार्थ को हमारे सामने रखा है, उदाहरणार्थ—'यह है बाज़ार', 'सड़क के किनारे दूकान है', 'चूँकि यहाँ दाना है' आदि कविताएँ। 'जलाशय के किनारे कुहरी थी' प्रकृति का यथार्थ चित्रण करनेवाला एक ऐसा विलक्षण सानेट है, जो छन्‍द नहीं; लय के सहारे चलता है ।
उपर्युक्त गीतों और कविताओं से अलग 'अणिमा' में कई कविताएँ ऐसी हैं जो वर्णात्मक हैं, यथा—'उद्बोधन', 'स्फटिक-शिला' और 'स्वामी प्रेमानन्‍द जी महाराज', ये कविताएँ वस्‍तुपरक भी हैं और आत्मपरक भी। लेकिन इनकी असली विशेषता यह है कि इनमें निराला ने मुक्त-छन्‍द का प्रयोग किया है जिसमें छन्‍द और गद्य दोनों का आनन्‍ददायक उत्कर्ष देखने को मिलता है।
आज का युग दलितोत्थान का युग है। निराला ने 1942 में ही 'अणिमा' के सानेट—'सन्‍त कवि रविदास जी के प्रति'—की अन्तिम पंक्तियों में कहा
था : 'छुआ परस भी नहीं तुमने, रहे/कर्म के अभ्यास में, अविरल बहे/ज्ञान-गंगा में, समुज्ज्वल चर्मकार, चरण छूकर कर रहा मैं नमस्कार’।
—नंदकिशोर नवल Pandit nandadulare vajapyi ne likha hai ki hin‍di mein sabse kathin vishay nirala ka kavya-vikas hai. Iska karan ye hai ki unki sanvedna ek saath anek stron par sanchran hi nahin karti thi, prayः ek sanvedna dusri sanvedna se uljhi hui bhi hoti thi. Iska sabse badhiya udharan unka anima namak kavita-sangrah hai. Ismen chhayavadi saun‍darya-svapn ko audatya prdan karnevala git nupur ke sur man‍da rahe, jab na charan svachchhan‍da rahe jaise aadhyatmik git hain, to gahan hai ye an‍dhakra jaise rashtriy git bhi. Isi tarah ismen sneh-nirjhar bah gaya hai jaise vastuprak git bhi. Kuchh kavitaon mein nirala ne chhayavadi saun‍darya-svapn ko ekdam mitakar ne kathor yatharth ko hamare samne rakha hai, udaharnarth—yah hai bazar, sadak ke kinare dukan hai, chunki yahan dana hai aadi kavitayen. Jalashay ke kinare kuhri thi prkriti ka yatharth chitran karnevala ek aisa vilakshan sanet hai, jo chhan‍da nahin; lay ke sahare chalta hai.
Uparyukt giton aur kavitaon se alag anima mein kai kavitayen aisi hain jo varnatmak hain, yatha—udbodhan, sphtik-shila aur svami premanan‍da ji maharaj, ye kavitayen vas‍tuprak bhi hain aur aatmaprak bhi. Lekin inki asli visheshta ye hai ki inmen nirala ne mukt-chhan‍da ka pryog kiya hai jismen chhan‍da aur gadya donon ka aanan‍dadayak utkarsh dekhne ko milta hai.
Aaj ka yug dalitotthan ka yug hai. Nirala ne 1942 mein hi anima ke sanet—san‍ta kavi ravidas ji ke prati—ki antim panktiyon mein kaha
Tha : chhua paras bhi nahin tumne, rahe/karm ke abhyas mein, aviral bahe/gyan-ganga mein, samujjval charmkar, charan chhukar kar raha main namaskar’.
—nandakishor naval

Shipping & Return

Contact our customer service in case of return or replacement. Enjoy our hassle-free 7-day replacement policy.

Offers & Coupons

Use code FIRSTORDER to get 10% off your first order.


Use code REKHTA10 to get a discount of 10% on your next Order.


You can also Earn up to 20% Cashback with POP Coins and redeem it in your future orders.

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products