BackBack

Akaal Mein Saaras

Rs. 295

केदारनाथ सिंह की कविताओं का संग्रह ‘अकाल में सारस’ आज की हिन्‍दी कविता को एक सर्वथा नया मोड़ देने की सार्थक कोशिश है। इस संग्रह के साथ यह उम्मीद बनी रहेगी कि कविता अपनी जड़ों में ही फैलती है और उसी से प्राप्त ऊर्जा के बल पर वह अपने समय,... Read More

BlackBlack
Description

केदारनाथ सिंह की कविताओं का संग्रह ‘अकाल में सारस’ आज की हिन्‍दी कविता को एक सर्वथा नया मोड़ देने की सार्थक कोशिश है। इस संग्रह के साथ यह उम्मीद बनी रहेगी कि कविता अपनी जड़ों में ही फैलती है और उसी से प्राप्त ऊर्जा के बल पर वह अपने समय, परिवेश, आदमी के संघर्ष, प्रकृति में धडक़ती हुई जिजीविषा को उपयुक्त शब्द देने में कामयाब होती है। ‘अकाल में सारस’ में जनपदीय चेतना में रची-बसी भाषा की ऐन्द्रिकता, अर्थध्वनि, मूर्तता, गूँज और व्याप्ति को पहचानना उतना ही सहज है जितना साँस लेना। पर इस सहज पहचान में बहुत कुछ है जो उसी के ज़रिए जीवन की छिपी हुई या अधिक गहरी सच्चाइयों के प्रति उत्सुक बनाता है। एक तरह से देखें तो इन कविताओं की सरलता उस विडम्बनापूर्ण सरलता का उदाहरण है जो वस्तुओं में छिपे जीवन-मर्म को भेदकर देखने की अनोखी हिकमत कही जा सकती है।
‘अकाल में सारस’ में भाषा के प्रति अत्यन्त संवेदनशील तथा सक्रिय काव्यात्मक लगाव एक नए काव्य-प्रस्थान की सूचना देता है। भाषा के सार्थक और सशक्त उपयोग की सम्भावनाएँ खोजने और चरितार्थ करने की कोशिश केदार की कविता की ख़ास अपनी और नई पहचान है। प्रगीतों की आत्मीयता, लोक-कथाओं की-सी सरलता और मुक्त छन्द के भीतर बातचीत की अर्थसघन लयात्मकता का सचेत इस्तेमाल करते हुए केदार ने अपने समय के धडक़ते हुए सच को जो भाषा दी है, वह यथार्थ की तीखी समझ और संवेदना के बग़ैर अकल्पनीय है। केदार के यहाँ ऐसे शब्द कम नहीं हैं जो कविता के इतिहास में और जीवन के इस्तेमाल में लगभग भुला दिए गए हैं, पर जिन्हें कविता में रख-भर देने से सुदूर स्मृतियाँ जीवित वर्तमान में मूर्त हो उठती हैं। परती-पराठ, गली-चौराहे, देहरी-चौखट, नदी-रेत, दूब, सारस जैसे बोलते-बतियाते केदार के शब्द उदाहरण हैं कि उनकी पकड़ जितनी जीवन पर है उतनी ही कविता पर भी। ‘अकाल में सारस’ एक कठिन समय की त्रासदी के भीतर लगभग बेदम पड़ी जीवनाशक्ति को फिर से उपलब्ध और प्रगाढ़ बनाने के निरन्तर संघर्ष का फल है। Kedarnath sinh ki kavitaon ka sangrah ‘akal mein saras’ aaj ki hin‍di kavita ko ek sarvtha naya mod dene ki sarthak koshish hai. Is sangrah ke saath ye ummid bani rahegi ki kavita apni jadon mein hi phailti hai aur usi se prapt uurja ke bal par vah apne samay, parivesh, aadmi ke sangharsh, prkriti mein dhadaqti hui jijivisha ko upyukt shabd dene mein kamyab hoti hai. ‘akal mein saras’ mein janapdiy chetna mein rachi-basi bhasha ki aindrikta, arthadhvani, murtta, gunj aur vyapti ko pahchanna utna hi sahaj hai jitna sans lena. Par is sahaj pahchan mein bahut kuchh hai jo usi ke zariye jivan ki chhipi hui ya adhik gahri sachchaiyon ke prati utsuk banata hai. Ek tarah se dekhen to in kavitaon ki saralta us vidambnapurn saralta ka udahran hai jo vastuon mein chhipe jivan-marm ko bhedkar dekhne ki anokhi hikmat kahi ja sakti hai. ‘akal mein saras’ mein bhasha ke prati atyant sanvedanshil tatha sakriy kavyatmak lagav ek ne kavya-prasthan ki suchna deta hai. Bhasha ke sarthak aur sashakt upyog ki sambhavnayen khojne aur charitarth karne ki koshish kedar ki kavita ki khas apni aur nai pahchan hai. Prgiton ki aatmiyta, lok-kathaon ki-si saralta aur mukt chhand ke bhitar batchit ki arthasghan layatmakta ka sachet istemal karte hue kedar ne apne samay ke dhadaqte hue sach ko jo bhasha di hai, vah yatharth ki tikhi samajh aur sanvedna ke bagair akalpniy hai. Kedar ke yahan aise shabd kam nahin hain jo kavita ke itihas mein aur jivan ke istemal mein lagbhag bhula diye ge hain, par jinhen kavita mein rakh-bhar dene se sudur smritiyan jivit vartman mein murt ho uthti hain. Parti-parath, gali-chaurahe, dehri-chaukhat, nadi-ret, dub, saras jaise bolte-batiyate kedar ke shabd udahran hain ki unki pakad jitni jivan par hai utni hi kavita par bhi. ‘akal mein saras’ ek kathin samay ki trasdi ke bhitar lagbhag bedam padi jivnashakti ko phir se uplabdh aur prgadh banane ke nirantar sangharsh ka phal hai.