BackBack

Agnibeej

Markande

Rs. 300

अग्निबीज' में प्रस्तुत कथा-योजना का समय स्वतंत्रता प्राप्ति के बाद का है। उत्तर भारत के सामाजिक-राजनैतिक जीवन और यहाँ की असह्‌य वर्ण व्यवस्था का उस पर प्रभाव इस उपन्यास का मुख्य विचार तत्व है। इसी कारण इसके नायक तीन ऐसे पात्र बनाए गए हैं जो अल्पवय हैं और पिछड़ी तथा... Read More

HardboundHardbound
readsample_tab

अग्निबीज' में प्रस्तुत कथा-योजना का समय स्वतंत्रता प्राप्ति के बाद का है। उत्तर भारत के सामाजिक-राजनैतिक जीवन और यहाँ की असह्‌य वर्ण व्यवस्था का उस पर प्रभाव इस उपन्यास का मुख्य विचार तत्व है। इसी कारण इसके नायक तीन ऐसे पात्र बनाए गए हैं जो अल्पवय हैं और पिछड़ी तथा निचली जातियों से आते हैं। श्यामा, जो एक विक्षिप्त स्वतंत्रता सेनानी की कन्या है, इन बाल पात्रों में सर्वाधिक जागृत है। श्यामा के पिता को, स्वतंत्रता आन्दोलन के दौरान पुलिस की लाठियों और यातनाओं गूँगा बना दिया है। उनका भाई उनकी कृति और त्याग का पूरा फ़ायदा उठाता है और राजनीति तथा सामाजिक जीवन में निरन्तर लन्द-फन्द करके एक महत्‍त्‍वपूर्ण कांग्रेस नेता बन जाता है। 'अग्निबीज' का सत्य उत्तर भारत के ग्रामीण जीवन का ऐसा मुखर सत्य है जिसके कारण उच्च जातियों के बुद्धजीवियों और आलोचकों ने इस उपन्यास के विचार तत्व को एक रूप तले दबाने का प्रयत्न किया लेकिन इसके व्यापक प्रभाव को रोक पाना, उनके लिए सम्भव नहीं हो पाया। उपन्यास सारे देश में पढ़ा एवं सराहा गया और उसे अनेक विश्वविद्यालय अपने पाठ्यक्रमों में पढ़ा रहे हैं। 'अग्निबीज’ की मुख्य उपलब्धि उसमें वर्णित उत्तर भारत के गाँवों का सामाजिक जीवन है। पिछड़ी जातियों और हरिजनों के दुःखद और यातनामय जीवन की जैसी झाँकी 'अग्निबीज' में चित्रित है, उसका दर्शन प्रेमचन्द को छोड़कर किसी अन्य कथाकार के यहाँ उपलब्ध नहीं है। ख़ुशी की बात तो यह है कि ‘अग्निबीज’ का सत्य स्वतंत्रता प्राप्ति के इतने वर्षों बाद पुन: उजागर हो रहा है। समाज के उपेक्षित वर्ण जागृत होकर देश की मुख्यधारा में शामिल हो रहे हैं। उन्होंने सामाजिक-राजनीतिक जीवन में हस्तक्षेप करना शुरू कर दिया है। Agnibij mein prastut katha-yojna ka samay svtantrta prapti ke baad ka hai. Uttar bharat ke samajik-rajanaitik jivan aur yahan ki asah‌ya varn vyvastha ka us par prbhav is upanyas ka mukhya vichar tatv hai. Isi karan iske nayak tin aise patr banaye ge hain jo alpvay hain aur pichhdi tatha nichli jatiyon se aate hain. Shyama, jo ek vikshipt svtantrta senani ki kanya hai, in baal patron mein sarvadhik jagrit hai. Shyama ke pita ko, svtantrta aandolan ke dauran pulis ki lathiyon aur yatnaon gunga bana diya hai. Unka bhai unki kriti aur tyag ka pura fayda uthata hai aur rajniti tatha samajik jivan mein nirantar land-phand karke ek mahat‍‍vapurn kangres neta ban jata hai. Agnibij ka satya uttar bharat ke gramin jivan ka aisa mukhar satya hai jiske karan uchch jatiyon ke buddhjiviyon aur aalochkon ne is upanyas ke vichar tatv ko ek rup tale dabane ka pryatn kiya lekin iske vyapak prbhav ko rok pana, unke liye sambhav nahin ho paya. Upanyas sare desh mein padha evan saraha gaya aur use anek vishvvidyalay apne pathyakrmon mein padha rahe hain. Agnibij’ ki mukhya uplabdhi usmen varnit uttar bharat ke ganvon ka samajik jivan hai. Pichhdi jatiyon aur harijnon ke duःkhad aur yatnamay jivan ki jaisi jhanki agnibij mein chitrit hai, uska darshan premchand ko chhodkar kisi anya kathakar ke yahan uplabdh nahin hai. Khushi ki baat to ye hai ki ‘agnibij’ ka satya svtantrta prapti ke itne varshon baad pun: ujagar ho raha hai. Samaj ke upekshit varn jagrit hokar desh ki mukhydhara mein shamil ho rahe hain. Unhonne samajik-rajnitik jivan mein hastakshep karna shuru kar diya hai.

Description

अग्निबीज' में प्रस्तुत कथा-योजना का समय स्वतंत्रता प्राप्ति के बाद का है। उत्तर भारत के सामाजिक-राजनैतिक जीवन और यहाँ की असह्‌य वर्ण व्यवस्था का उस पर प्रभाव इस उपन्यास का मुख्य विचार तत्व है। इसी कारण इसके नायक तीन ऐसे पात्र बनाए गए हैं जो अल्पवय हैं और पिछड़ी तथा निचली जातियों से आते हैं। श्यामा, जो एक विक्षिप्त स्वतंत्रता सेनानी की कन्या है, इन बाल पात्रों में सर्वाधिक जागृत है। श्यामा के पिता को, स्वतंत्रता आन्दोलन के दौरान पुलिस की लाठियों और यातनाओं गूँगा बना दिया है। उनका भाई उनकी कृति और त्याग का पूरा फ़ायदा उठाता है और राजनीति तथा सामाजिक जीवन में निरन्तर लन्द-फन्द करके एक महत्‍त्‍वपूर्ण कांग्रेस नेता बन जाता है। 'अग्निबीज' का सत्य उत्तर भारत के ग्रामीण जीवन का ऐसा मुखर सत्य है जिसके कारण उच्च जातियों के बुद्धजीवियों और आलोचकों ने इस उपन्यास के विचार तत्व को एक रूप तले दबाने का प्रयत्न किया लेकिन इसके व्यापक प्रभाव को रोक पाना, उनके लिए सम्भव नहीं हो पाया। उपन्यास सारे देश में पढ़ा एवं सराहा गया और उसे अनेक विश्वविद्यालय अपने पाठ्यक्रमों में पढ़ा रहे हैं। 'अग्निबीज’ की मुख्य उपलब्धि उसमें वर्णित उत्तर भारत के गाँवों का सामाजिक जीवन है। पिछड़ी जातियों और हरिजनों के दुःखद और यातनामय जीवन की जैसी झाँकी 'अग्निबीज' में चित्रित है, उसका दर्शन प्रेमचन्द को छोड़कर किसी अन्य कथाकार के यहाँ उपलब्ध नहीं है। ख़ुशी की बात तो यह है कि ‘अग्निबीज’ का सत्य स्वतंत्रता प्राप्ति के इतने वर्षों बाद पुन: उजागर हो रहा है। समाज के उपेक्षित वर्ण जागृत होकर देश की मुख्यधारा में शामिल हो रहे हैं। उन्होंने सामाजिक-राजनीतिक जीवन में हस्तक्षेप करना शुरू कर दिया है। Agnibij mein prastut katha-yojna ka samay svtantrta prapti ke baad ka hai. Uttar bharat ke samajik-rajanaitik jivan aur yahan ki asah‌ya varn vyvastha ka us par prbhav is upanyas ka mukhya vichar tatv hai. Isi karan iske nayak tin aise patr banaye ge hain jo alpvay hain aur pichhdi tatha nichli jatiyon se aate hain. Shyama, jo ek vikshipt svtantrta senani ki kanya hai, in baal patron mein sarvadhik jagrit hai. Shyama ke pita ko, svtantrta aandolan ke dauran pulis ki lathiyon aur yatnaon gunga bana diya hai. Unka bhai unki kriti aur tyag ka pura fayda uthata hai aur rajniti tatha samajik jivan mein nirantar land-phand karke ek mahat‍‍vapurn kangres neta ban jata hai. Agnibij ka satya uttar bharat ke gramin jivan ka aisa mukhar satya hai jiske karan uchch jatiyon ke buddhjiviyon aur aalochkon ne is upanyas ke vichar tatv ko ek rup tale dabane ka pryatn kiya lekin iske vyapak prbhav ko rok pana, unke liye sambhav nahin ho paya. Upanyas sare desh mein padha evan saraha gaya aur use anek vishvvidyalay apne pathyakrmon mein padha rahe hain. Agnibij’ ki mukhya uplabdhi usmen varnit uttar bharat ke ganvon ka samajik jivan hai. Pichhdi jatiyon aur harijnon ke duःkhad aur yatnamay jivan ki jaisi jhanki agnibij mein chitrit hai, uska darshan premchand ko chhodkar kisi anya kathakar ke yahan uplabdh nahin hai. Khushi ki baat to ye hai ki ‘agnibij’ ka satya svtantrta prapti ke itne varshon baad pun: ujagar ho raha hai. Samaj ke upekshit varn jagrit hokar desh ki mukhydhara mein shamil ho rahe hain. Unhonne samajik-rajnitik jivan mein hastakshep karna shuru kar diya hai.

Additional Information
Book Type

Hardbound

Publisher
Language
ISBN
Pages
Publishing Year

Agnibeej

अग्निबीज' में प्रस्तुत कथा-योजना का समय स्वतंत्रता प्राप्ति के बाद का है। उत्तर भारत के सामाजिक-राजनैतिक जीवन और यहाँ की असह्‌य वर्ण व्यवस्था का उस पर प्रभाव इस उपन्यास का मुख्य विचार तत्व है। इसी कारण इसके नायक तीन ऐसे पात्र बनाए गए हैं जो अल्पवय हैं और पिछड़ी तथा निचली जातियों से आते हैं। श्यामा, जो एक विक्षिप्त स्वतंत्रता सेनानी की कन्या है, इन बाल पात्रों में सर्वाधिक जागृत है। श्यामा के पिता को, स्वतंत्रता आन्दोलन के दौरान पुलिस की लाठियों और यातनाओं गूँगा बना दिया है। उनका भाई उनकी कृति और त्याग का पूरा फ़ायदा उठाता है और राजनीति तथा सामाजिक जीवन में निरन्तर लन्द-फन्द करके एक महत्‍त्‍वपूर्ण कांग्रेस नेता बन जाता है। 'अग्निबीज' का सत्य उत्तर भारत के ग्रामीण जीवन का ऐसा मुखर सत्य है जिसके कारण उच्च जातियों के बुद्धजीवियों और आलोचकों ने इस उपन्यास के विचार तत्व को एक रूप तले दबाने का प्रयत्न किया लेकिन इसके व्यापक प्रभाव को रोक पाना, उनके लिए सम्भव नहीं हो पाया। उपन्यास सारे देश में पढ़ा एवं सराहा गया और उसे अनेक विश्वविद्यालय अपने पाठ्यक्रमों में पढ़ा रहे हैं। 'अग्निबीज’ की मुख्य उपलब्धि उसमें वर्णित उत्तर भारत के गाँवों का सामाजिक जीवन है। पिछड़ी जातियों और हरिजनों के दुःखद और यातनामय जीवन की जैसी झाँकी 'अग्निबीज' में चित्रित है, उसका दर्शन प्रेमचन्द को छोड़कर किसी अन्य कथाकार के यहाँ उपलब्ध नहीं है। ख़ुशी की बात तो यह है कि ‘अग्निबीज’ का सत्य स्वतंत्रता प्राप्ति के इतने वर्षों बाद पुन: उजागर हो रहा है। समाज के उपेक्षित वर्ण जागृत होकर देश की मुख्यधारा में शामिल हो रहे हैं। उन्होंने सामाजिक-राजनीतिक जीवन में हस्तक्षेप करना शुरू कर दिया है। Agnibij mein prastut katha-yojna ka samay svtantrta prapti ke baad ka hai. Uttar bharat ke samajik-rajanaitik jivan aur yahan ki asah‌ya varn vyvastha ka us par prbhav is upanyas ka mukhya vichar tatv hai. Isi karan iske nayak tin aise patr banaye ge hain jo alpvay hain aur pichhdi tatha nichli jatiyon se aate hain. Shyama, jo ek vikshipt svtantrta senani ki kanya hai, in baal patron mein sarvadhik jagrit hai. Shyama ke pita ko, svtantrta aandolan ke dauran pulis ki lathiyon aur yatnaon gunga bana diya hai. Unka bhai unki kriti aur tyag ka pura fayda uthata hai aur rajniti tatha samajik jivan mein nirantar land-phand karke ek mahat‍‍vapurn kangres neta ban jata hai. Agnibij ka satya uttar bharat ke gramin jivan ka aisa mukhar satya hai jiske karan uchch jatiyon ke buddhjiviyon aur aalochkon ne is upanyas ke vichar tatv ko ek rup tale dabane ka pryatn kiya lekin iske vyapak prbhav ko rok pana, unke liye sambhav nahin ho paya. Upanyas sare desh mein padha evan saraha gaya aur use anek vishvvidyalay apne pathyakrmon mein padha rahe hain. Agnibij’ ki mukhya uplabdhi usmen varnit uttar bharat ke ganvon ka samajik jivan hai. Pichhdi jatiyon aur harijnon ke duःkhad aur yatnamay jivan ki jaisi jhanki agnibij mein chitrit hai, uska darshan premchand ko chhodkar kisi anya kathakar ke yahan uplabdh nahin hai. Khushi ki baat to ye hai ki ‘agnibij’ ka satya svtantrta prapti ke itne varshon baad pun: ujagar ho raha hai. Samaj ke upekshit varn jagrit hokar desh ki mukhydhara mein shamil ho rahe hain. Unhonne samajik-rajnitik jivan mein hastakshep karna shuru kar diya hai.