BackBack

Achchha Vakta Kaise Banein?

Rs. 80

अभिव्यक्ति के प्रत्यक्ष और सबसे सशक्त माध्यम 'भाषण' के मनोविज्ञान पर यह उपयोगी व महत्त्वपूर्ण पुस्तक न केवल विद्यार्थियों के लिए ज़रूरी है, बल्कि उन उच्च पदासीन लोगों के लिए भी अनिवार्य है जो भाषण देने से परहेज़ करते हैं। वस्तुतः भाषण एक सकारात्मक मनःस्थिति से पैदा होता है जिसके... Read More

Description

अभिव्यक्ति के प्रत्यक्ष और सबसे सशक्त माध्यम 'भाषण' के मनोविज्ञान पर यह उपयोगी व महत्त्वपूर्ण पुस्तक न केवल विद्यार्थियों के लिए ज़रूरी है, बल्कि उन उच्च पदासीन लोगों के लिए भी अनिवार्य है जो भाषण देने से परहेज़ करते हैं। वस्तुतः भाषण एक सकारात्मक मनःस्थिति से पैदा होता है जिसके संगठन में दृढ़ इच्छा-शक्ति और आत्मविश्वास के अलावा विचारों की चयनात्मकता, आकार व प्रस्तुति आदि आवश्यक हैं। और यह तय है कि अपने आप को अभिव्यक्त कर सकने का सुख जीवन में आशा, उत्साह और प्रसन्नता भरता है जो सफलता के लिए बहुत ज़रूरी है। Abhivyakti ke pratyaksh aur sabse sashakt madhyam bhashan ke manovigyan par ye upyogi va mahattvpurn pustak na keval vidyarthiyon ke liye zaruri hai, balki un uchch padasin logon ke liye bhi anivarya hai jo bhashan dene se parhez karte hain. Vastutः bhashan ek sakaratmak manःsthiti se paida hota hai jiske sangthan mein dridh ichchha-shakti aur aatmvishvas ke alava vicharon ki chaynatmakta, aakar va prastuti aadi aavashyak hain. Aur ye tay hai ki apne aap ko abhivyakt kar sakne ka sukh jivan mein aasha, utsah aur prsannta bharta hai jo saphalta ke liye bahut zaruri hai.