Look Inside
Aameen
Aameen
Aameen
Aameen
Aameen
Aameen
Aameen
Aameen
Aameen
Aameen

Aameen

Regular price Rs. 278
Sale price Rs. 278 Regular price Rs. 299
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Pay On Delivery Available

Rekhta Certified

7 Day Easy Return Policy

Aameen

Aameen

Cash-On-Delivery

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7-Days-Replacement

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

आलोक श्रीवास्तव के पहले और बहुचर्चित गज़ल-संग्रह ‘आमीन’ का यह पाँचवाँ संस्करण है। पन्नों के कैनवस पर शब्दों के रंग बिखेरने में माहिर आलोक नए दौर और आमफहम ज़बान के शायर हैं। उन्होंने काव्य की हर विधा में निपुणता का परिचय देते हुए कहीं किसी सूफ़ियाना ख़याल को सिर्फ़ एक दोहे में समेट देने के हुनर से रू-ब-रू कराया तो कहीं वे ‘अम्मा’ और ‘बाबूजी’ से जुड़े संजीदा रिश्तों की यादों को विस्तार देते नज़र आए। आधुनिकता के इस बेरुखे दौर में उनकी रचनाएँ रिश्तों के मर्म को समझने और समझाने की विनम्र कोशिश लेकर सामने आईं। हमारे समय की आलोचना के प्रतिमान डॉ. नामवर सिंह ने उन्हें ‘दुष्यंत की परम्परा का आलोक’ कहा तो हिन्दी और उर्दू के कई जाने-माने लेखकों, समीक्षकों के साथ साहित्य-सुधियों ने भी उनके इस संग्रह को हाथों-हाथ लिया। बाज़ारवादी युग में दरकते इन्सानी रिश्तों पर लिखी आलोक की ग़ज़लें उनके निजी अनुभवों का आईना हैं। ‘आमीन’ की कई रचनाओं में सामाजिक सरोकार के सबूत मिले, जिसने आलोक को सहज ही बेदार और प्रगतिशील कवियों की क़तार में ला खड़ा किया—वह क़तार जो हिन्दी ग़ज़ल और उर्दू ग़ज़ल की खेमेबंदी से परे सिर्फ़ और सिर्फ़ ग़ज़ल की हिफ़ाज़त कर रही है। ‘आमीन’ के प्रथम संस्करण की भूमिका शीर्ष लेखक कमलेश्वर ने लिखी जो किसी पुस्तक पर उनकी अन्तिम भूमिका के रूप में याद की जाती है और मशहूर शायर-फ़िल्मकार गुलज़ार के पेशलफ्ज़ ने इस पर एक मुकम्मल संग्रह होने की मुहर लगाई। दो भाषाओं का पुल बनानेवाले एक नौजवान के पहले संग्रह पर हिन्दी और उर्दू के दो शिखर क़लमकारों के शब्द इस बात की गवाही बने कि आलोक ने अपना अदबी इम्तेहान पूरी संजीदगी और तैयारी से दिया है, जो बहुत हद तक सही साबित हुई; वहीं दूसरे संस्करण की भूमिका डॉ. नामवर सिंह ने लिखी, इस शुभकामना के साथ कि ये रचनाएँ और दूर तक पहुँचें। आमीन! Aalok shrivastav ke pahle aur bahucharchit gazal-sangrah ‘amin’ ka ye panchavan sanskran hai. Pannon ke kainvas par shabdon ke rang bikherne mein mahir aalok ne daur aur aamaphham zaban ke shayar hain. Unhonne kavya ki har vidha mein nipunta ka parichay dete hue kahin kisi sufiyana khayal ko sirf ek dohe mein samet dene ke hunar se ru-ba-ru karaya to kahin ve ‘amma’ aur ‘babuji’ se jude sanjida rishton ki yadon ko vistar dete nazar aae. Aadhunikta ke is berukhe daur mein unki rachnayen rishton ke marm ko samajhne aur samjhane ki vinamr koshish lekar samne aain. Hamare samay ki aalochna ke pratiman dau. Namvar sinh ne unhen ‘dushyant ki parampra ka aalok’ kaha to hindi aur urdu ke kai jane-mane lekhkon, samikshkon ke saath sahitya-sudhiyon ne bhi unke is sangrah ko hathon-hath liya. Bazarvadi yug mein darakte insani rishton par likhi aalok ki gazlen unke niji anubhvon ka aaina hain. ‘amin’ ki kai rachnaon mein samajik sarokar ke sabut mile, jisne aalok ko sahaj hi bedar aur pragatishil kaviyon ki qatar mein la khada kiya—vah qatar jo hindi gazal aur urdu gazal ki khemebandi se pare sirf aur sirf gazal ki hifazat kar rahi hai. ‘amin’ ke prtham sanskran ki bhumika shirsh lekhak kamleshvar ne likhi jo kisi pustak par unki antim bhumika ke rup mein yaad ki jati hai aur mashhur shayar-filmkar gulzar ke peshlaphz ne is par ek mukammal sangrah hone ki muhar lagai. Do bhashaon ka pul bananevale ek naujvan ke pahle sangrah par hindi aur urdu ke do shikhar qalamkaron ke shabd is baat ki gavahi bane ki aalok ne apna adbi imtehan puri sanjidgi aur taiyari se diya hai, jo bahut had tak sahi sabit hui; vahin dusre sanskran ki bhumika dau. Namvar sinh ne likhi, is shubhkamna ke saath ki ye rachnayen aur dur tak pahunchen. Aamin!

Shipping & Return

Contact our customer service in case of return or replacement. Enjoy our hassle-free 7-day replacement policy.

Offers & Coupons

Use code FIRSTORDER to get 10% off your first order.


Use code REKHTA10 to get a discount of 10% on your next Order.


You can also Earn up to 20% Cashback with POP Coins and redeem it in your future orders.

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products