-11%

Rag Darbari

Shrilal Shukla

Rs. 399 Rs. 355

‘राग दरबारी’ एक ऐसा उपन्यास है जो गाँव की कथा के माध्यम से आधुनिक भारतीय जीवन की मूल्यहीनता को सहजता और निर्ममता से अनावृत्त करता है। शुरू से आख़िर तक इतने निस्संग और सोद्देश्य व्यंग्य के साथ लिखा गया हिन्दी का शायद यह पहला बृहत् उपन्यास है। फिर भी ‘राग... Read More

Reviews

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
Description

‘राग दरबारी’ एक ऐसा उपन्यास है जो गाँव की कथा के माध्यम से आधुनिक भारतीय जीवन की मूल्यहीनता को सहजता और निर्ममता से अनावृत्त करता है। शुरू से आख़िर तक इतने निस्संग और सोद्देश्य व्यंग्य के साथ लिखा गया हिन्दी का शायद यह पहला बृहत् उपन्यास है।
फिर भी ‘राग दरबारी’ व्यंग्य-कथा नहीं है। इसका सम्बन्ध एक बड़े नगर से कुछ दूर बसे हुए गाँव की ज़िन्दगी से है, जो इतने वर्षों की प्रगति और विकास के नारों के बावजूद निहित स्वार्थों और अनेक अवांछनीय तत्त्वों के सामने घिसट रही है। यह उसी ज़िन्दगी का दस्तावेज़ है।
1968 में ‘राग दरबारी’ का प्रकाशन एक महत्त्वपूर्ण साहित्यिक घटना थी। 1971 में इसे ‘साहित्य अकादेमी पुरस्कार’ से सम्मानित किया गया और 1986 में एक दूरदर्शन-धारावाहिक के रूप में इसे लाखों दर्शकों की सराहना प्राप्त हुई।
वस्तुतः ‘राग दरबारी’ हिन्दी के कुछ कालजयी उपन्यासों में से एक है। ‘rag darbari’ ek aisa upanyas hai jo ganv ki katha ke madhyam se aadhunik bhartiy jivan ki mulyhinta ko sahajta aur nirmamta se anavritt karta hai. Shuru se aakhir tak itne nissang aur soddeshya vyangya ke saath likha gaya hindi ka shayad ye pahla brihat upanyas hai. Phir bhi ‘rag darbari’ vyangya-katha nahin hai. Iska sambandh ek bade nagar se kuchh dur base hue ganv ki zindagi se hai, jo itne varshon ki pragati aur vikas ke naron ke bavjud nihit svarthon aur anek avanchhniy tattvon ke samne ghisat rahi hai. Ye usi zindagi ka dastavez hai.
1968 mein ‘rag darbari’ ka prkashan ek mahattvpurn sahityik ghatna thi. 1971 mein ise ‘sahitya akademi puraskar’ se sammanit kiya gaya aur 1986 mein ek durdarshan-dharavahik ke rup mein ise lakhon darshkon ki sarahna prapt hui.
Vastutः ‘rag darbari’ hindi ke kuchh kalajyi upanyason mein se ek hai.