BackBack
-10%Sold out

Viyas Vishnu Rupaya

Nirmal Kumar

Rs. 850 Rs. 765

Jnanpith Vani Prakashan LLP

व्यास विष्णु रूपाय - मनुष्य के प्रेम में वह क्या है जो अप्सरा उर्वशी से अप्सरा की स्वच्छन्दता छुड़वाकर प्रेम की जोगन बना देता है। ये कुछ रहस्य हैं जो इस उपन्यास को उतना ही रोचक बना देते हैं जितना ज्ञानवर्धक। उपन्यास 'व्यास विष्णु रूपाय' महर्षि व्यास के जीवन पर... Read More

Reviews

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
Description
व्यास विष्णु रूपाय - मनुष्य के प्रेम में वह क्या है जो अप्सरा उर्वशी से अप्सरा की स्वच्छन्दता छुड़वाकर प्रेम की जोगन बना देता है। ये कुछ रहस्य हैं जो इस उपन्यास को उतना ही रोचक बना देते हैं जितना ज्ञानवर्धक। उपन्यास 'व्यास विष्णु रूपाय' महर्षि व्यास के जीवन पर आधारित है। महर्षि व्यास भारतीय परम्परा द्वारा मान्य आठ अमर मनुष्यों में एक हैं। इस विश्वास का यथार्थपरक उपयोग किया है निर्मल कुमार ने। आज भारत जिन समस्याओं से जूझ रहा है उसके बीच महर्षि व्यास को रखकर। समस्याओं का समाधान महर्षि के कर्मों और विचारों से कराया है। उन्होंने पाठकों तक यह बात पहुँचायी है कि व्यास हमें वर्तमान भारत की समस्याओं को सुलझाने का क्या मार्ग दिखाते। कथा इस अन्धविश्वास से पाठक को मुक्त कराती है कि आधुनिक असत्य, अधर्म और अमृत का कारण कलियुग है। व्यास कहते हैं पतन इस कारण है कि भारतीयों ने सत्य को कर्म बनाने की सरल परम्परा को त्यागकर, मनमानी करने को मानवधर्म मान लिया है। कुछ आधुनिक राजनीतिज्ञ महाभारत के अहंकारी चरित्रों का उन्मक्त अनुसरण कर रहे हैं। व्यास इसे महाभारत का दुरुपयोग बताते हैं। महाभारत को वे द्वापर के भारतीयों के अभिमान वैरभाव और जीवन के विघटन की यथार्थ कथा कहते हैं। व्यास कहते हैं कि महाभारत से शिक्षा यह लेनी चाहिए कि झूठी मान्यताओं और अभिमानों को आत्मयज्ञ से निष्प्रभ करें यह भी सुनिश्चित करें कि भारत में महाभारत दोबारा कभी न हो। व्यास कलियुग में हैं तो उनके आराध्य श्रीकृष्ण भी हैं जीवन का मार्ग प्रशस्त करते हैं। गोपियों के सच्चे प्रेम का मार्मिक वर्णन है। vyaas vishnu rupaymanushya ke prem mein vah kya hai jo apsra urvshi se apsra ki svachchhandta chhuDvakar prem ki jogan bana deta hai. ye kuchh rahasya hain jo is upanyas ko utna hi rochak bana dete hain jitna gyanvardhak.
upanyas vyaas vishnu rupay maharshi vyaas ke jivan par adharit hai. maharshi vyaas bhartiy parampra dvara manya aath amar manushyon mein ek hain. is vishvas ka yatharthaprak upyog kiya hai nirmal kumar ne. aaj bharat jin samasyaon se joojh raha hai uske beech maharshi vyaas ko rakhkar. samasyaon ka samadhan maharshi ke karmon aur vicharon se karaya hai. unhonne pathkon tak ye baat pahunchayi hai ki vyaas hamein vartman bharat ki samasyaon ko suljhane ka kya maarg dikhate.
katha is andhvishvas se pathak ko mukt karati hai ki adhunik asatya, adharm aur amrit ka karan kaliyug hai. vyaas kahte hain patan is karan hai ki bhartiyon ne satya ko karm banane ki saral parampra ko tyagkar, manmani karne ko manavdharm maan liya hai.
kuchh adhunik rajnitigya mahabharat ke ahankari charitron ka unmakt anusran kar rahe hain. vyaas ise mahabharat ka durupyog batate hain. mahabharat ko ve dvapar ke bhartiyon ke abhiman vairbhav aur jivan ke vightan ki yatharth katha kahte hain. vyaas kahte hain ki mahabharat se shiksha ye leni chahiye ki jhuthi manytaon aur abhimanon ko atmyagya se nishprabh karen ye bhi sunishchit karen ki bharat mein mahabharat dobara kabhi na ho.
vyaas kaliyug mein hain to unke aradhya shrikrishn bhi hain jivan ka maarg prshast karte hain. gopiyon ke sachche prem ka marmik varnan hai.

Additional Information
Book Type

Hardbound