Look Inside
Vaidik Sanskriti
Vaidik Sanskriti
Vaidik Sanskriti
Vaidik Sanskriti
Vaidik Sanskriti
Vaidik Sanskriti
Vaidik Sanskriti
Vaidik Sanskriti
Vaidik Sanskriti
Vaidik Sanskriti
Vaidik Sanskriti
Vaidik Sanskriti
Vaidik Sanskriti
Vaidik Sanskriti
Vaidik Sanskriti
Vaidik Sanskriti

Vaidik Sanskriti

Regular price Rs. 929
Sale price Rs. 929 Regular price Rs. 999
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Size guide

Pay On Delivery Available

Rekhta Certified

7 Day Easy Return Policy

Vaidik Sanskriti

Vaidik Sanskriti

Cash-On-Delivery

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7-Days-Replacement

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

भारतीय परम्परा में वेद को अनादि अथवा ईश्वरीय माना गया है। इतिहास और संस्कृति के विद्यार्थी के लिए इनमें भारतीय एवं आद्यमानव परम्परा की निधि है। महर्षि यास्क से लेकर सायण तक वेद के पंडितों ने इनके अनेक अर्थ निकाले हैं, जिसके कारण वेदों की सही व्याख्या कठिन है। आधुनिक युग में वेदों पर जो भी प्रसिद्ध ग्रन्थ लिखे गए हैं, उनमें इतिहास की दृष्टि से व्याख्या भले ही की गई हो, लेकिन आध्यात्मिक और सनातन अर्थ उपेक्षित है।
पुरानी भाषाशास्त्रीय व्याख्या के स्थान पर नई पुरातात्त्विक खोज के द्वारा वेदों का जो इतिहास पक्ष बदला है, उसका मूल्यांकन भी यहाँ किया गया है।
इस ग्रन्थ में न केवल मैक्समूलर आदि को नई व्याख्याएँ एवं सायण आदि की यज्ञपरक व्याख्या पर, बल्कि दयानन्द, श्री अरविन्द, मधुसूदन ओझा आदि की संकेतपरक व्याख्या पर भी विचार किया गया है। वैदिक संस्कृति की परिभाषा करनेवाले ऋत-सत्यात्मक सूत्रों की विवेचना एवं किस प्रकार वे भारतीय सभ्यता के इतिहास में प्रकट हुए हैं, इस पर भी चिन्तन
किया गया है।
वैदिक संस्कृति, धर्म, दर्शन और विज्ञान की अधुनातन-सामग्री के विश्लेषण में आधुनिक पाश्चात्य एवं पारम्परिक दोनों प्रकार की व्याख्याओं की समन्वित समीक्षा इस पुस्तक में की गई है।
इस प्रकार तत्त्व जिज्ञासा और ऐतिहासिक के समन्वयन के द्वारा सर्वांगीणता की उपलब्धि का प्रयास इस ग्रन्थ की विचार शैली का मूलमंत्र और प्रणयन का उद्देश्य है। Bhartiy parampra mein ved ko anadi athva iishvriy mana gaya hai. Itihas aur sanskriti ke vidyarthi ke liye inmen bhartiy evan aadymanav parampra ki nidhi hai. Maharshi yask se lekar sayan tak ved ke panditon ne inke anek arth nikale hain, jiske karan vedon ki sahi vyakhya kathin hai. Aadhunik yug mein vedon par jo bhi prsiddh granth likhe ge hain, unmen itihas ki drishti se vyakhya bhale hi ki gai ho, lekin aadhyatmik aur sanatan arth upekshit hai. Purani bhashashastriy vyakhya ke sthan par nai puratattvik khoj ke dvara vedon ka jo itihas paksh badla hai, uska mulyankan bhi yahan kiya gaya hai.
Is granth mein na keval maiksmular aadi ko nai vyakhyayen evan sayan aadi ki yagyaprak vyakhya par, balki dayanand, shri arvind, madhusudan ojha aadi ki sanketaprak vyakhya par bhi vichar kiya gaya hai. Vaidik sanskriti ki paribhasha karnevale rit-satyatmak sutron ki vivechna evan kis prkar ve bhartiy sabhyta ke itihas mein prkat hue hain, is par bhi chintan
Kiya gaya hai.
Vaidik sanskriti, dharm, darshan aur vigyan ki adhunatan-samagri ke vishleshan mein aadhunik pashchatya evan paramprik donon prkar ki vyakhyaon ki samanvit samiksha is pustak mein ki gai hai.
Is prkar tattv jigyasa aur aitihasik ke samanvyan ke dvara sarvanginta ki uplabdhi ka pryas is granth ki vichar shaili ka mulmantr aur pranyan ka uddeshya hai.

Shipping & Return

Contact our customer service in case of return or replacement. Enjoy our hassle-free 7-day replacement policy.

Offers & Coupons

Use code FIRSTORDER to get 10% off your first order.


Use code REKHTA10 to get a discount of 10% on your next Order.


You can also Earn up to 20% Cashback with POP Coins and redeem it in your future orders.

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products