Look Inside
Tughluq Kaleen Bharat : Vol. 2
Tughluq Kaleen Bharat : Vol. 2
Tughluq Kaleen Bharat : Vol. 2
Tughluq Kaleen Bharat : Vol. 2

Tughluq Kaleen Bharat : Vol. 2

Regular price Rs. 884
Sale price Rs. 884 Regular price Rs. 950
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Pay On Delivery Available

Rekhta Certified

7 Day Easy Return Policy

Tughluq Kaleen Bharat : Vol. 2

Tughluq Kaleen Bharat : Vol. 2

Cash-On-Delivery

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7-Days-Replacement

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

यह ग्रन्थ तुगलक़ बादशाहों के महत्त्वपूर्ण कालखंड सन् 1351 से 1398 ई. पर केन्द्रित है। इस दौर में शासन की बागडोर सुल्तान फ़ीरोज़ और उसके उत्तराधिकारियों के हाथों में थी। यह ग्रन्थ उस युग की अत्यन्त महत्त्वपूर्ण और प्रामाणिक जानकारी उपलब्ध कराता है।
फ़ारसी, अरबी, अंग्रेज़ी और हिन्दी के विद्वान और इतिहासकार डॉ. सैयद अतहर अब्बास रिज़वी ने इस ग्रन्थ का सम्पादन-अनुवाद किया है। उन्होंने इस ग्रन्थ में तत्सम्बन्धी अरबी और फ़ारसी में उपलब्ध तमाम ऐतिहासिक दस्तावेज़ों और सामग्रियों का उपयोग किया है जिनमें ज़ियाउद्दीन बरनी, शम्स सिराज अफ़ीफ़, यहया, मुहम्मद बिहामद ख़ानी, शरफ़ुद्दीन अली यज़दी, सुल्तान फ़ीरोज़ शाह, निज़ामुद्दीन अहमद, मीर मुहम्मद मासूम, हमीद क़लन्दर, ऐनुलमुल्क तथा मुतहर कड़ा जैसे विद्वान लेखकों, इतिहासकारों के ग्रन्थ शामिल हैं।
अनुवाद में फ़ारसी, अरबी के प्रचलित नियमों को, जिनका पालन इतिहासकार करते रहे हैं, ध्यान में रखा गया है। साथ ही आवश्यक टिप्पणियाँ भी जगह-जगह दर्ज कर दी गई हैं ताकि पाठकों को विषय को समझने में सुविधा हो।
इतिहास के छात्रों, शिक्षकों, शोधार्थियों और इतिहासकारों के साथ-साथ इतिहास में रुचि रखनेवाले आम पाठकों के लिए भी ग्रन्थ संग्रहणीय है। Ye granth tuglaq badshahon ke mahattvpurn kalkhand san 1351 se 1398 ii. Par kendrit hai. Is daur mein shasan ki bagdor sultan firoz aur uske uttradhikariyon ke hathon mein thi. Ye granth us yug ki atyant mahattvpurn aur pramanik jankari uplabdh karata hai. Farsi, arbi, angrezi aur hindi ke vidvan aur itihaskar dau. Saiyad athar abbas rizvi ne is granth ka sampadan-anuvad kiya hai. Unhonne is granth mein tatsambandhi arbi aur farsi mein uplabdh tamam aitihasik dastavezon aur samagriyon ka upyog kiya hai jinmen ziyauddin barni, shams siraj afif, yahya, muhammad bihamad khani, sharfuddin ali yazdi, sultan firoz shah, nizamuddin ahmad, mir muhammad masum, hamid qalandar, ainulmulk tatha muthar kada jaise vidvan lekhkon, itihaskaron ke granth shamil hain.
Anuvad mein farsi, arbi ke prachlit niymon ko, jinka palan itihaskar karte rahe hain, dhyan mein rakha gaya hai. Saath hi aavashyak tippaniyan bhi jagah-jagah darj kar di gai hain taki pathkon ko vishay ko samajhne mein suvidha ho.
Itihas ke chhatron, shikshkon, shodharthiyon aur itihaskaron ke sath-sath itihas mein ruchi rakhnevale aam pathkon ke liye bhi granth sangrahniy hai.

Shipping & Return

Contact our customer service in case of return or replacement. Enjoy our hassle-free 7-day replacement policy.

Offers & Coupons

Use code FIRSTORDER to get 10% off your first order.


Use code REKHTA10 to get a discount of 10% on your next Order.


You can also Earn up to 20% Cashback with POP Coins and redeem it in your future orders.

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products