Trymbakam Yajamahe

Regular price Rs. 646
Sale price Rs. 646 Regular price Rs. 695
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Cash On Delivery available

Rekhta Certified

7 Days Replacement

Trymbakam Yajamahe

Trymbakam Yajamahe

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

शिव-चेतना का अनुभव एक अद्वैत अनुभव है। यह विरोधों में सामंजस्य की प्रवृत्ति है। यों कहें कि विरुद्ध को अनुकूल बनाने की दृष्टि है। हम जानते हैं कि मृत्यु एक बड़ी सच्चाई है पर फिर भी हम अमरत्व की कामना करते हैं। हम तो अमर नहीं हो सकते पर हमारा कर्म हमें अमर कर सकता है।
परमात्मा के त्रिगुण रूपों में भगवान शिव परम अनुरक्त और परम विरक्त देवता हैं। इसलिए ये महादेव हैं, क्योंकि महान वही हो सकता है जो सभी स्थितियों में महान लगे। जो नीचे से ऊपर तक, बाहर से भीतर तक एक समान हो। शिव का 'कैलास' शिखर मन का प्रतीक है।
महादेव शिव के लिए 'त्रयम्बकं यजामहे' कहकर उनका पूजन और सम्मान किया गया है। समस्त दिशाएँ उनके वस्त्र हैं, सजल मेघ उनके जटाजूट हैं, आकाश उनका दृप्त भाल, विद्युत् उनका तीसरा नेत्र और पृथ्वी उनकी रंगशाला है, जिसमें निरन्तर अणुओं का नृत्य (dancing atoms) चलता रहता है। शिव ज्ञान के, औषधि के, नृत्य और नाद के, जीवन और मृत्यु के, अमृत और विष के विलक्षण समन्वय हैं। शिव के बाएँ आधे भाग में पार्वती सुशोभित हैं, माथे पर आधा चन्द्रमा चमक रहा है। वे शिव के साथ मिलकर पूर्णत्व प्राप्त करते हैं। शिव स्वीकृति के देवता हैं। उनके लिए सभी ग्राह्य हैं। वहाँ निषेध के लिए अवकाश नहीं। उनके भक्त ताल-बेताल नाचें या गाएँ, मुँह से बम-बम का स्वर निकालें, गाल बजाएँ, उनके दरबार में सब जायज़ है।
शिव-केन्द्रित इस उपन्यास के शिव भूत-प्रेत जैसे दिव्यांग जीवों के शरणदाता और पोषक हैं। वे बहुमुखी, बहुआयामी हैं, गायक, वादक, नर्तक, स्वयंभू, जीव और जन्तुओं के उद्धारक, महावीर, महादेव, अर्द्धनारीश्वर और लोकोपकारक हैं। उनका रोदन-रस ही रुद्राक्ष है। उनकी पार्वती स्त्री-शक्ति और पर्यावरण संरक्षा की प्रतिनिधि हैं। इस इकार रूपा शक्ति के अभाव में शिव भी शव रूप हो जाते हैं। उन पर केन्द्रित यह पौराणिक महाकाव्यात्मक उपन्यास, हमें आशा है, संसार को देखने की हमारी दृ‌ष्टि को विस्‍तृत करेगा। Shiv-chetna ka anubhav ek advait anubhav hai. Ye virodhon mein samanjasya ki prvritti hai. Yon kahen ki viruddh ko anukul banane ki drishti hai. Hum jante hain ki mrityu ek badi sachchai hai par phir bhi hum amratv ki kamna karte hain. Hum to amar nahin ho sakte par hamara karm hamein amar kar sakta hai. Parmatma ke trigun rupon mein bhagvan shiv param anurakt aur param virakt devta hain. Isaliye ye mahadev hain, kyonki mahan vahi ho sakta hai jo sabhi sthitiyon mein mahan lage. Jo niche se uupar tak, bahar se bhitar tak ek saman ho. Shiv ka kailas shikhar man ka prtik hai.
Mahadev shiv ke liye trayambakan yajamhe kahkar unka pujan aur samman kiya gaya hai. Samast dishayen unke vastra hain, sajal megh unke jatajut hain, aakash unka dript bhal, vidyut unka tisra netr aur prithvi unki rangshala hai, jismen nirantar anuon ka nritya (dancing atoms) chalta rahta hai. Shiv gyan ke, aushadhi ke, nritya aur naad ke, jivan aur mrityu ke, amrit aur vish ke vilakshan samanvay hain. Shiv ke bayen aadhe bhag mein parvti sushobhit hain, mathe par aadha chandrma chamak raha hai. Ve shiv ke saath milkar purnatv prapt karte hain. Shiv svikriti ke devta hain. Unke liye sabhi grahya hain. Vahan nishedh ke liye avkash nahin. Unke bhakt tal-betal nachen ya gayen, munh se bam-bam ka svar nikalen, gaal bajayen, unke darbar mein sab jayaz hai.
Shiv-kendrit is upanyas ke shiv bhut-pret jaise divyang jivon ke sharandata aur poshak hain. Ve bahumukhi, bahuayami hain, gayak, vadak, nartak, svyambhu, jiv aur jantuon ke uddharak, mahavir, mahadev, arddhnarishvar aur lokopkarak hain. Unka rodan-ras hi rudraksh hai. Unki parvti stri-shakti aur paryavran sanraksha ki pratinidhi hain. Is ikar rupa shakti ke abhav mein shiv bhi shav rup ho jate hain. Un par kendrit ye pauranik mahakavyatmak upanyas, hamein aasha hai, sansar ko dekhne ki hamari dri‌shti ko vis‍trit karega.

Shipping & Return

Shipping cost is based on weight. Just add products to your cart and use the Shipping Calculator to see the shipping price.

We want you to be 100% satisfied with your purchase. Items can be returned or exchanged within 7 days of delivery.

Offers & Coupons

10% off your first order.
Use Code: FIRSTORDER

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products