BackBack
-11%

Trishul

Rs. 200 Rs. 178

‘त्रिशूल’ वरिष्ठ कथाकार शिवमूर्ति का ऐसा उपन्यास है जो उनकी कहानियों की लीक से हटकर एक नए दृष्टिबोध और तेवर के साथ सामने आता है। साम्प्रदायिकता और जातिवाद हमारे समाज में अरसे से जड़ जमाए बैठे हैं पर इनकी आँच पर राजनीति की रोटी सेंकने की होड़ के चलते इनके... Read More

BlackBlack
Description

‘त्रिशूल’ वरिष्ठ कथाकार शिवमूर्ति का ऐसा उपन्यास है जो उनकी कहानियों की लीक से हटकर एक नए दृष्टिबोध और तेवर के साथ सामने आता है। साम्प्रदायिकता और जातिवाद हमारे समाज में अरसे से जड़ जमाए बैठे हैं पर इनकी आँच पर राजनीति की रोटी सेंकने की होड़ के चलते इनके ज़हर और आक्रामकता में इधर चिन्ताजनक वृद्धि हुई है। फलस्वरूप, आज समाज में भयानक असुरक्षा, अविश्वास और वैर-भाव पनप रहा है। धर्म, जाति और सम्प्रदाय के ठेकेदार आदमी और आदमी के बीच की खाई को निरन्तर चौड़ी करते जा रहे हैं।
‘त्रिशूल’ न केवल मन्दिर-मंडल की बल्कि आज के समाज में व्याप्त उथल-पुथल और टूटन की कहानी है। देशव्यापी उथल-पुथल को कथ्य बनाकर लेखक जातिवाद के विरूप और साम्प्रदायिकता की साज़िश को बेबाकी और निर्ममता से बेनक़ाब करता है। ओछे हिन्दूवाद को ललकारता है।
त्रिशूल को प्रशंसा के फूल ही नहीं, विरोध के पत्थर भी कम नहीं मिले। इसे जातियुद्ध भड़काने और आग लगानेवाली रचना कहा गया। इस पर प्रतिबन्ध लगाने के लिए पैम्फ़लेटों और सभाओं द्वारा लम्बा निन्दा अभियान चलाया गया।
यह उपन्यास इस तथ्य को भी स्पष्टता से इंगित करता है कि प्रतिगामी शक्तियों का मुँहतोड़ जवाब शोषण और उत्पीड़न झेल रहे दबे-कुचले ग़रीबजन ही दे सकते हैं, दे रहे हैं।
उपन्यास के पात्र, चाहे वह पाले हो, महमूद हो, शास्त्री जी हों, चौकीदार या मिसिराइन हों, यहाँ तक कि गाय, बछड़ा या कुत्ता झबुआ हो, पाठक के दिल में गहराई तक उतर जाते हैं।
भारतीय समाज के अन्तर्विरोधों को उजागर करता एक स्मरणीय-संग्रहणीय उपन्यास। ‘trishul’ varishth kathakar shivmurti ka aisa upanyas hai jo unki kahaniyon ki lik se hatkar ek ne drishtibodh aur tevar ke saath samne aata hai. Samprdayikta aur jativad hamare samaj mein arse se jad jamaye baithe hain par inki aanch par rajniti ki roti senkne ki hod ke chalte inke zahar aur aakramakta mein idhar chintajnak vriddhi hui hai. Phalasvrup, aaj samaj mein bhayanak asuraksha, avishvas aur vair-bhav panap raha hai. Dharm, jati aur samprday ke thekedar aadmi aur aadmi ke bich ki khai ko nirantar chaudi karte ja rahe hain. ‘trishul’ na keval mandir-mandal ki balki aaj ke samaj mein vyapt uthal-puthal aur tutan ki kahani hai. Deshavyapi uthal-puthal ko kathya banakar lekhak jativad ke virup aur samprdayikta ki sazish ko bebaki aur nirmamta se benqab karta hai. Ochhe hinduvad ko lalkarta hai.
Trishul ko prshansa ke phul hi nahin, virodh ke patthar bhi kam nahin mile. Ise jatiyuddh bhadkane aur aag laganevali rachna kaha gaya. Is par pratibandh lagane ke liye paimfleton aur sabhaon dvara lamba ninda abhiyan chalaya gaya.
Ye upanyas is tathya ko bhi spashtta se ingit karta hai ki pratigami shaktiyon ka munhatod javab shoshan aur utpidan jhel rahe dabe-kuchle garibjan hi de sakte hain, de rahe hain.
Upanyas ke patr, chahe vah pale ho, mahmud ho, shastri ji hon, chaukidar ya misirain hon, yahan tak ki gaay, bachhda ya kutta jhabua ho, pathak ke dil mein gahrai tak utar jate hain.
Bhartiy samaj ke antarvirodhon ko ujagar karta ek smarniy-sangrahniy upanyas.