BackBack
-11%

Topi Shukla

Rs. 150 Rs. 134

‘आधा गाँव’ के ख्यातिप्राप्त रचनाकार की यह एक अत्यन्त प्रभावपूर्ण और मर्म पर चोट करनेवाली कहानी है। ‘टोपी शुक्ला’ ऐसे हिन्दुस्तानी नागरिक का प्रतीक है जो मुस्लिम लीग की दो राष्ट्रवाली थ्योरी और भारत विभाजन के बावजूद आज भी अपने को विशुद्ध भारतीय समझता है—हिन्दू-मुस्लिम या शुक्ला, गुप्त, मिश्रा जैसे... Read More

BlackBlack
Description

‘आधा गाँव’ के ख्यातिप्राप्त रचनाकार की यह एक अत्यन्त प्रभावपूर्ण और मर्म पर चोट करनेवाली कहानी है। ‘टोपी शुक्ला’ ऐसे हिन्दुस्तानी नागरिक का प्रतीक है जो मुस्लिम लीग की दो राष्ट्रवाली थ्योरी और भारत विभाजन के बावजूद आज भी अपने को विशुद्ध भारतीय समझता है—हिन्दू-मुस्लिम या शुक्ला, गुप्त, मिश्रा जैसे संकुचित अभिधानों को वह नहीं मानता। ऐसे स्वजनों से उसे घृणा है जो वेश्यावृत्ति करते हुए ब्राह्मणपना बचाकर रखते हैं, पर स्वयं उससे इसलिए घृणा करते हैं कि वह मुस्लिम मित्रों का समर्थक और हामी है। अन्त में टोपी शुक्ला ऐसे ही लोगों से कम्प्रोमाइज नहीं कर पाता और आत्महत्या कर लेता है।
व्यंग्य-प्रधान शैली में लिखा गया यह उपन्यास आज के हिन्दू-मुस्लिम सम्बन्धों को पूरी सच्चाई के साथ पेश करते हुए हमारे आज के बुद्धिजीवियों के सामने एक प्रश्नचिह्न खड़ा करता है। ‘adha ganv’ ke khyatiprapt rachnakar ki ye ek atyant prbhavpurn aur marm par chot karnevali kahani hai. ‘topi shukla’ aise hindustani nagrik ka prtik hai jo muslim lig ki do rashtrvali thyori aur bharat vibhajan ke bavjud aaj bhi apne ko vishuddh bhartiy samajhta hai—hindu-muslim ya shukla, gupt, mishra jaise sankuchit abhidhanon ko vah nahin manta. Aise svajnon se use ghrina hai jo veshyavritti karte hue brahmanapna bachakar rakhte hain, par svayan usse isaliye ghrina karte hain ki vah muslim mitron ka samarthak aur hami hai. Ant mein topi shukla aise hi logon se kampromaij nahin kar pata aur aatmhatya kar leta hai. Vyangya-prdhan shaili mein likha gaya ye upanyas aaj ke hindu-muslim sambandhon ko puri sachchai ke saath pesh karte hue hamare aaj ke buddhijiviyon ke samne ek prashnchihn khada karta hai.