Thee Hoon Rahoongi

Regular price Rs. 233
Sale price Rs. 233 Regular price Rs. 250
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Cash On Delivery available

Rekhta Certified

7 Days Replacement

Thee Hoon Rahoongi

Thee Hoon Rahoongi

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

यह पहला मौक़ा है जब एक अपराध पत्रकार ने अपराध पर ही कविताएँ लिखी हैं। एनडीटीवी में बरसों अपराध बीट की प्रमुखता और बाद में ‘बलात्कार’ पर पीएच.डी. ने देश की इस विख्यात पत्रकार को महिला अपराध को एक अलहदा संवेदनशीलता से देखने की ताक़त दी। इसलिए इन कविताओं को संवेदना के अलावा यथार्थ के चश्मे से भी देखना होगा।
वर्तिका के लिए औरत टीले पर तिनके जोड़ती और मार्मिक संगीत रचती एक गुलाबी सृष्टि है और सबसे बड़ी त्रासदी भी। वह चूल्हे पर चाँद-सी रोटी सेंके या घुमावदार सत्ता सँभाले—सबकी आन्तरिक यात्राएँ एक–सी हैं। इस ग्रह के हर हिस्से में औरत किसी–न–किसी अपराध की शिकार होती ही है। ज़्यादा बड़ा अपराध घर के भीतर का, जो अमूमन ख़बर की आँख से अछूता रहता है। ये कविताएँ उसी देहरी के अन्दर की कहानी सुनाती हैं। यहाँ मीडिया, पुलिस, क़ानून और समाज मूक है। वो उसके मारे जाने का इन्तज़ार करता है और उसके बाद भी कभी–कभार ही क्रियाशील होता है।
वर्तिका की कविता की औरत थक चुकी है पर विश्वास का एक दीया अब भी टिमटिमा रहा है। दु:ख के विराट मरुस्थल बनाकर देते पुरुष को स्त्री का इससे बड़ा जवाब क्या होगा कि मारे जाने की तमाम कोशिशों के बावजूद वह मुस्कुराकर कह दे—‘थी.हूँ..रहूँगी...’। Ye pahla mauqa hai jab ek apradh patrkar ne apradh par hi kavitayen likhi hain. Enditivi mein barson apradh bit ki pramukhta aur baad mein ‘balatkar’ par piyech. Di. Ne desh ki is vikhyat patrkar ko mahila apradh ko ek alahda sanvedanshilta se dekhne ki taqat di. Isaliye in kavitaon ko sanvedna ke alava yatharth ke chashme se bhi dekhna hoga. Vartika ke liye aurat tile par tinke jodti aur marmik sangit rachti ek gulabi srishti hai aur sabse badi trasdi bhi. Vah chulhe par chand-si roti senke ya ghumavdar satta sanbhale—sabki aantrik yatrayen ek–si hain. Is grah ke har hisse mein aurat kisi–na–kisi apradh ki shikar hoti hi hai. Zyada bada apradh ghar ke bhitar ka, jo amuman khabar ki aankh se achhuta rahta hai. Ye kavitayen usi dehri ke andar ki kahani sunati hain. Yahan midiya, pulis, qanun aur samaj muk hai. Vo uske mare jane ka intzar karta hai aur uske baad bhi kabhi–kabhar hi kriyashil hota hai.
Vartika ki kavita ki aurat thak chuki hai par vishvas ka ek diya ab bhi timatima raha hai. Du:kha ke virat marusthal banakar dete purush ko stri ka isse bada javab kya hoga ki mare jane ki tamam koshishon ke bavjud vah muskurakar kah de—‘thi. Hun. . Rahungi. . . ’.

Shipping & Return

Shipping cost is based on weight. Just add products to your cart and use the Shipping Calculator to see the shipping price.

We want you to be 100% satisfied with your purchase. Items can be returned or exchanged within 7 days of delivery.

Offers & Coupons

10% off your first order.
Use Code: FIRSTORDER

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products