Television Ki Kahani : Part-1

Regular price Rs. 233
Sale price Rs. 233 Regular price Rs. 250
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Cash On Delivery available

Rekhta Certified

7 Days Replacement

Television Ki Kahani : Part-1

Television Ki Kahani : Part-1

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

टेलीविज़न की कहानी वर्तमान समय सूचना-समाचारों के विस्फोट का है। हर घर-आँगन में चौबीस घंटे की टेलीविज़न-उपस्थिति है। चकमक करती रौशनियाँ हैं, दमक-हुमक-भरे चेहरे हैं। हर्ष, विषाद, रुदन की आक्रामकता है। कहीं समाचार, कहीं फ़िल्म और घर-घर की कहानी बयान करते रंग-बिरंगे धारावाहिक। लेकिन क्या आप जानते हैं, इस चमक-दमक के आविष्कारक कौन थे? टेलीविज़न का कब और कैसे आविष्कार हुआ? टेलीविज़न के अतीत-वर्तमान को ही जानने-समझने का सार्थक प्रयत्न करती है यह पुस्तक। वरिष्ठ लेखक-पत्रकार डॉ. श्याम कश्यप और चर्चित युवा टीवी पत्रकार मुकेश कुमार की क़लम-जुगलबन्दी ने टेलीविज़न की कहानी को आप तक पहुँचाने का सफल प्रयास किया है।
टेलीविज़न के विभिन्न आयामों का समावेश करती इस पुस्तक में कुल बारह अध्याय हैं, जिनमें टेलीविज़न की ईजाद और उसके क्रमिक विकास की कहानी के साथ उनके विशिष्ट आन्तरिक संरचना, चरित्र और सामाजिक प्रभावों की भी प्रभावी पड़ताल की गई है। इसमें प्रसंगवश उन तमाम समकालीन प्रश्नों से भी मुठभेड़ करने का प्रयास किया गया है, जिनका सामना टीवी पत्रकार को अक्सर करना पड़ता है।
पुस्तक में टीवी पत्रकारिता से जुड़ी उन तमाम बातों का ज़िक्र है, जिसकी ज़रूरत इस क्षेत्र के छात्रों और पत्रकारों को पड़ती है। यह पुस्तक उन लोगों के लिए मददगार साबित होगी। न सिर्फ़ छात्रों और पत्रकारों के लिए बल्कि आम पाठक, जो टेलीविज़न के इतिहास और उसके संसार को जानना और समझना चाहते हैं, उनके लिए भी उपयोगी और रुचिकर पुस्तक। Telivizan ki kahani vartman samay suchna-samacharon ke visphot ka hai. Har ghar-angan mein chaubis ghante ki telivizan-upasthiti hai. Chakmak karti raushaniyan hain, damak-humak-bhare chehre hain. Harsh, vishad, rudan ki aakramakta hai. Kahin samachar, kahin film aur ghar-ghar ki kahani bayan karte rang-birange dharavahik. Lekin kya aap jante hain, is chamak-damak ke aavishkarak kaun the? telivizan ka kab aur kaise aavishkar hua? telivizan ke atit-vartman ko hi janne-samajhne ka sarthak pryatn karti hai ye pustak. Varishth lekhak-patrkar dau. Shyam kashyap aur charchit yuva tivi patrkar mukesh kumar ki qalam-jugalbandi ne telivizan ki kahani ko aap tak pahunchane ka saphal pryas kiya hai. Telivizan ke vibhinn aayamon ka samavesh karti is pustak mein kul barah adhyay hain, jinmen telivizan ki iijad aur uske krmik vikas ki kahani ke saath unke vishisht aantrik sanrachna, charitr aur samajik prbhavon ki bhi prbhavi padtal ki gai hai. Ismen prsangvash un tamam samkalin prashnon se bhi muthbhed karne ka pryas kiya gaya hai, jinka samna tivi patrkar ko aksar karna padta hai.
Pustak mein tivi patrkarita se judi un tamam baton ka zikr hai, jiski zarurat is kshetr ke chhatron aur patrkaron ko padti hai. Ye pustak un logon ke liye madadgar sabit hogi. Na sirf chhatron aur patrkaron ke liye balki aam pathak, jo telivizan ke itihas aur uske sansar ko janna aur samajhna chahte hain, unke liye bhi upyogi aur ruchikar pustak.

Shipping & Return

Shipping cost is based on weight. Just add products to your cart and use the Shipping Calculator to see the shipping price.

We want you to be 100% satisfied with your purchase. Items can be returned or exchanged within 7 days of delivery.

Offers & Coupons

10% off your first order.
Use Code: FIRSTORDER

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products