Teen Sau Ramayane Evam Anya Nibandh

Regular price Rs. 233
Sale price Rs. 233 Regular price Rs. 250
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Cash On Delivery available

Rekhta Certified

7 Days Replacement

Teen Sau Ramayane Evam Anya Nibandh

Teen Sau Ramayane Evam Anya Nibandh

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

विवेक और विमर्श की अवहेलना करते हुए दिल्ली विश्वविद्यालय ने ए.के. रामानुजन के प्रसिद्ध आलेख ‘थ्री हंड्रेड रामायणाज़ : फ़ाइव एक्ज़ाम्पल्ज़ एंड थ्री थॉट्स ऑन ट्रांसलेशन’ को अक्टूबर, 2011 में अपने पाठ्य-क्रम से निरस्त कर दिया था। कुछ अवान्तर उपद्रव भी प्रकट हुए थे। इस आलेख को सर्वसुलभ बनाने एवं सम्यक् विश्लेषित करने के उद्देश्य से संजीव कुमार ने इसका हिन्दी अनुवाद किया। यह अनुवाद ‘नया पथ’ पत्रिका के एक अंक में प्रकाशित हुआ।
प्रस्तुत पुस्तक के केन्द्र में यही आलेख है। पुस्तक की भूमिका के अनुसार, ‘जिन्होंने भी रामानुजन के आलेख को पढ़ा है, उन्होंने महसूस किया है कि यह शोध और विश्लेषण की गहराई का कितना नायाब नमूना है। और यह कि हिन्दू भावनाओं को आहत करना तथा रामकथा पर कोई नकारात्मक टिप्पणी करना तो दूर, यह लेख रामकथा के सांस्कृतिक महत्त्व, उसकी आश्चर्यजनक व्यापकता और अर्थगर्भत्व का—जिसके कारण उसके शताधिक रूप प्रचलित हैं—एक अद्भुत निदर्शन है। लेखक की इस गुणवत्ता का साक्षात्कार करनेवाले के मुँह से आह निकलती है कि काश, हिन्दुत्व के पैरोकारों को थोड़ा पढ़ने का शऊर भी होता।
यह किताब रामानुजन के आलेख को आपके सामने पेश करने के साथ-साथ ख़ूबसूरती के ख़िलाफ़ खड़े इन लोगों की ख़बर देती और लेती भी है। यहाँ रामानुजन के अलावा कामिल बुल्के हैं, रोमिला थापर हैं, मुरली मनोहर प्रसाद सिंह और प्रभात कुमार बसन्त हैं। Vivek aur vimarsh ki avhelna karte hue dilli vishvvidyalay ne e. Ke. Ramanujan ke prsiddh aalekh ‘thri handred ramaynaz : faiv ekzampalz end thri thauts aun transleshan’ ko aktubar, 2011 mein apne pathya-kram se nirast kar diya tha. Kuchh avantar upadrav bhi prkat hue the. Is aalekh ko sarvasulabh banane evan samyak vishleshit karne ke uddeshya se sanjiv kumar ne iska hindi anuvad kiya. Ye anuvad ‘naya path’ patrika ke ek ank mein prkashit hua. Prastut pustak ke kendr mein yahi aalekh hai. Pustak ki bhumika ke anusar, ‘jinhonne bhi ramanujan ke aalekh ko padha hai, unhonne mahsus kiya hai ki ye shodh aur vishleshan ki gahrai ka kitna nayab namuna hai. Aur ye ki hindu bhavnaon ko aahat karna tatha ramaktha par koi nakaratmak tippni karna to dur, ye lekh ramaktha ke sanskritik mahattv, uski aashcharyajnak vyapakta aur arthgarbhatv ka—jiske karan uske shatadhik rup prachlit hain—ek adbhut nidarshan hai. Lekhak ki is gunvatta ka sakshatkar karnevale ke munh se aah nikalti hai ki kash, hindutv ke pairokaron ko thoda padhne ka shaur bhi hota.
Ye kitab ramanujan ke aalekh ko aapke samne pesh karne ke sath-sath khubsurti ke khilaf khade in logon ki khabar deti aur leti bhi hai. Yahan ramanujan ke alava kamil bulke hain, romila thapar hain, murli manohar prsad sinh aur prbhat kumar basant hain.

Shipping & Return

Shipping cost is based on weight. Just add products to your cart and use the Shipping Calculator to see the shipping price.

We want you to be 100% satisfied with your purchase. Items can be returned or exchanged within 7 days of delivery.

Offers & Coupons

10% off your first order.
Use Code: FIRSTORDER

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products