BackBack
-10%

Teen Moti Auraten

Saadat Hasan Manto

Rs. 125 Rs. 113

Vani Prakashan

मण्टो की कहानी में अनुभव की सच्चाई भी है और जुल्म के एहसास की प्रेरणा भी। इसीलिए हतक की वेश्याओं की जिश्न्दगी पर किसी भारतीय कथाकार द्वारा लिखी गयी कहानियों में पहली पंक्ति में है । हतक में मण्टो के दृष्टिकोण की लगभग सभी विशेषताएँ है - आक्रोश, दर्द और... Read More

Description

मण्टो की कहानी में अनुभव की सच्चाई भी है और जुल्म के एहसास की प्रेरणा भी। इसीलिए हतक की वेश्याओं की जिश्न्दगी पर किसी भारतीय कथाकार द्वारा लिखी गयी कहानियों में पहली पंक्ति में है । हतक में मण्टो के दृष्टिकोण की लगभग सभी विशेषताएँ है - आक्रोश, दर्द और अपार मानवीयता। वेश्यावृत्ति की जश्लालत का ऐसा अपूर्व चित्र मण्टो ने इसमें खींचा है कि सेठ द्वारा सुगन्धी को नापसन्द कर दिये जाने वाले प्रसंग के बाद पाठक अनायास सुगन्धी के दिल की कुढ़न और उसके फूट पड़ते आक्रोश के सहभागी बन जाते है । मण्टो ने कहानी में स्पष्ट रूप से दो वर्गों का चित्रण किया है- पहला वह जो शोषण करता है, जो ख़रीदार है और जो चूँकि पैसे देता है, इसलिए वह अपनी पसन्दगी या नापसन्दगी ज़ाहिर कर सकता है। दूसरा वर्ग सुगन्धी का है, जो जश्लालत-भरी जिश्न्दगी जीते हुए भी, मानवीयता से रहित नहीं है, लेकिन जो इस शोषण का शिकार बनने-बिकने के लिए मजबूर है। सुगन्धी इस दूसरे वर्ग में है और चूँकि वह सेठ से अपने अपमान का बदला नहीं ले पाती, इसीलिए उसका सारा गुस्सा माधो पर उतरता है जो सुगन्धी का सिर्फ आर्थिक शोषण ही नहीं करता, वरन उसकी सहज अच्छाई का भी फायदा उठाता है। माधो के प्रति सुगन्धी के मन में जो गुस्सा है- और वह जो दरअसल मण्टो के अन्तर का आक्रोश है- जिसे वह उस सारी व्यवस्था के मुँह पर जैसे एक जश्न्नाटे के थप्पड़ की तरह जड़ देता है। manto ki kahani mein anubhav ki sachchai bhi hai aur julm ke ehsas ki prerna bhi. isiliye hatak ki veshyaon ki jishndgi par kisi bhartiy kathakar dvara likhi gayi kahaniyon mein pahli pankti mein hai. hatak mein manto ke drishtikon ki lagbhag sabhi visheshtayen hai akrosh, dard aur apar manviyta. veshyavritti ki jashlalat ka aisa apurv chitr manto ne ismen khincha hai ki seth dvara sugandhi ko napsand kar diye jane vale prsang ke baad pathak anayas sugandhi ke dil ki kuDhan aur uske phoot paDte akrosh ke sahbhagi ban jate hai. manto ne kahani mein spasht roop se do vargon ka chitran kiya hai pahla vah jo shoshan karta hai, jo kharidar hai aur jo chunki paise deta hai, isaliye vah apni pasandgi ya napsandgi zahir kar sakta hai. dusra varg sugandhi ka hai, jo jashlalat bhari jishndgi jite hue bhi, manviyta se rahit nahin hai, lekin jo is shoshan ka shikar banne bikne ke liye majbur hai. sugandhi is dusre varg mein hai aur chunki vah seth se apne apman ka badla nahin le pati, isiliye uska sara gussa madho par utarta hai jo sugandhi ka sirph arthik shoshan hi nahin karta, varan uski sahaj achchhai ka bhi phayda uthata hai. madho ke prati sugandhi ke man mein jo gussa hai aur vah jo darasal manto ke antar ka akrosh hai jise vah us sari vyvastha ke munh par jaise ek jashnnate ke thappaD ki tarah jaD deta hai.