Tedhi Lakeer

Regular price Rs. 371
Sale price Rs. 371 Regular price Rs. 399
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Cash On Delivery available

Rekhta Certified

7 Days Replacement

Tedhi Lakeer

Tedhi Lakeer

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

इस्मत चुग़ताई का यह उपन्यास कई अर्थों में बहुत महत्त्व रखता है। पहला तो ये कि यह उपन्यास इस्मत के और सभी उपन्यासों में सबसे सशक्त है। दूसरे, इस्मत को क़रीब से जाननेवाले, इसे उनकी आपबीती भी मानते हैं। स्वयं इस्मत चुग़ताई ने भी इस बात को माना है। वह स्वयं लिखती हैं, ‘‘कुछ लोगों ने ये भी कहा कि ‘टेढ़ी लकीर’ मेरी आपबीती है—मुझे ख़ुद आपबीती लगती है। मैंने इस नाविल को लिखते वक़्त बहुत कुछ महसूस किया है। मैंने शम्मन के दिल में उतरने की कोशिश की है, इसके साथ आँसू बहाए हैं और क़हक़हे लगाए हैं। इसकी कमज़ोरियों से जल भी उठी हूँ। इसकी हिम्मत की दाद भी दी है। इसकी नादानियों पर रहम भी आया है, और शरारतों पर प्यार भी आया है। इसके इश्क़–मुहब्बत के कारनामों पर चटखारे भी लिए हैं, और हसरतों पर दु:ख भी हुआ है। ऐसी हालत में अगर मैं कहूँ कि मेरी आपबीती है तो कुछ ज़्यादा मुबालग़ा तो नहीं...’’
‘टेढ़ी लकीर’ एक किरदारी उपन्यास है जैसे ‘उमरावजान अदा’। ‘टेढ़ी लकीर’ की कहानी शम्मन के इर्द–गिर्द घूमती नज़र आती है। शम्मन को चूँकि अच्छा माहौल और अच्छी तरबीयत नहीं मिली, इसी वजह से उसके अन्दर इतना टेढ़ापन पैदा हो गया जहाँ उसकी नज़र में मुहब्बत मुहब्बत नहीं रही, रिश्ते रिश्ते नहीं रहे, जीवन जीवन नहीं रहा। सब कुछ मज़ाक़ बनकर रह गया। शम्मन के किरदार का विश्लेषण किया जाए तो वह मनोविकारों का गुलदस्ता नज़र आएगी। इस किरदार के बारे में इस्मत ने एक इंटरव्यू में कहा था ‘‘...ये नाविल जब मैंने लिखा तो बहुत बीमार थी, घर में पड़ी रहा करती थी। इस नाविल की हीरोइन ‘शम्मन’ क़रीब–क़रीब मैं ही हूँ। बहुत–सी बातें इसमें मेरी हैं। वैसे आठ–दस लड़कियों को मैंने इस किरदार में जमा किया है, और एक लड़की को ऊपर से डाल दिया है। जो मैं हूँ। इस नाविल के हिस्सों के बारे में मैं सिर्फ़ इतना बता सकती हूँ कि कौन–से हिस्से मेरे हैं और कौन–से दूसरों के !...’’
इस उपन्यास को इस्मत चुग़ताई ने उन यतीम बच्चों के नाम समर्पित किया है जिनके अभिभावक जीवित हैं। दरअसल यह व्यंग्य है उन माता–पिताओं पर जो बच्चे तो पैदा कर लेते हैं पर पालन–पोषण ठीक से नहीं करते। इन्हीं कारणों से यह उपन्यास उर्दू भाषा में जितना लोकप्रिय हुआ, उम्मीद है हिन्दी के पाठकों में भी लोकप्रिय होगा। Ismat chugtai ka ye upanyas kai arthon mein bahut mahattv rakhta hai. Pahla to ye ki ye upanyas ismat ke aur sabhi upanyason mein sabse sashakt hai. Dusre, ismat ko qarib se jannevale, ise unki aapbiti bhi mante hain. Svayan ismat chugtai ne bhi is baat ko mana hai. Vah svayan likhti hain, ‘‘kuchh logon ne ye bhi kaha ki ‘tedhi lakir’ meri aapbiti hai—mujhe khud aapbiti lagti hai. Mainne is navil ko likhte vakt bahut kuchh mahsus kiya hai. Mainne shamman ke dil mein utarne ki koshish ki hai, iske saath aansu bahaye hain aur qahaqhe lagaye hain. Iski kamzoriyon se jal bhi uthi hun. Iski himmat ki daad bhi di hai. Iski nadaniyon par raham bhi aaya hai, aur shararton par pyar bhi aaya hai. Iske ishq–muhabbat ke karnamon par chatkhare bhi liye hain, aur hasarton par du:kha bhi hua hai. Aisi halat mein agar main kahun ki meri aapbiti hai to kuchh zyada mubalga to nahin. . . ’’‘tedhi lakir’ ek kirdari upanyas hai jaise ‘umravjan ada’. ‘tedhi lakir’ ki kahani shamman ke ird–gird ghumti nazar aati hai. Shamman ko chunki achchha mahaul aur achchhi tarbiyat nahin mili, isi vajah se uske andar itna tedhapan paida ho gaya jahan uski nazar mein muhabbat muhabbat nahin rahi, rishte rishte nahin rahe, jivan jivan nahin raha. Sab kuchh mazaq bankar rah gaya. Shamman ke kirdar ka vishleshan kiya jaye to vah manovikaron ka guldasta nazar aaegi. Is kirdar ke bare mein ismat ne ek intravyu mein kaha tha ‘‘. . . Ye navil jab mainne likha to bahut bimar thi, ghar mein padi raha karti thi. Is navil ki hiroin ‘shamman’ qarib–qarib main hi hun. Bahut–si baten ismen meri hain. Vaise aath–das ladakiyon ko mainne is kirdar mein jama kiya hai, aur ek ladki ko uupar se daal diya hai. Jo main hun. Is navil ke hisson ke bare mein main sirf itna bata sakti hun ki kaun–se hisse mere hain aur kaun–se dusron ke !. . . ’’
Is upanyas ko ismat chugtai ne un yatim bachchon ke naam samarpit kiya hai jinke abhibhavak jivit hain. Darasal ye vyangya hai un mata–pitaon par jo bachche to paida kar lete hain par palan–poshan thik se nahin karte. Inhin karnon se ye upanyas urdu bhasha mein jitna lokapriy hua, ummid hai hindi ke pathkon mein bhi lokapriy hoga.

Shipping & Return

Shipping cost is based on weight. Just add products to your cart and use the Shipping Calculator to see the shipping price.

We want you to be 100% satisfied with your purchase. Items can be returned or exchanged within 7 days of delivery.

Offers & Coupons

10% off your first order.
Use Code: FIRSTORDER

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products