Tanh Tanh Bhrashtachar

Regular price Rs. 278
Sale price Rs. 278 Regular price Rs. 299
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Cash On Delivery available

Rekhta Certified

7 Days Replacement

Tanh Tanh Bhrashtachar

Tanh Tanh Bhrashtachar

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

हिन्दी साहित्य में व्यंग्य-लेखन की अनेक प्रविधियाँ और छवियाँ विद्यमान हैं। सबका लक्ष्य एक ही है—उन प्रवृत्तियों, व्यक्तियों व स्थितियों का व्यंजक वर्णन जो विभिन्न विसंगतियों के मूल में हैं। 'तहँ तहँ भ्रष्टाचार' व्यंग्य-संग्रह में सतीश अग्निहोत्री ने समकालीन समाज की अनेक विसंगतियों पर प्रहार किया है। फैंटेसी का आश्रय लेते हुए लेखक ने राजनीति के गर्भ से उपजी विभिन्न समस्याओं का विश्लेषण किया है।
ज्ञान चतुर्वेदी के शब्दों में, ‘सतीश अग्निहोत्री के इस व्यंग्य-संग्रह की अधिकांश रचनाओं में यह व्यंग्य-कौशल बेहद मेच्योरली बरता गया दिखता है। व्यंग्य के उनके विषय तो नए हैं ही, उनको पौराणिक तथा लोक-ग़ल्पों से जोड़ने की उनकी शैली भी बेहद आकर्षक है। आप मज़े-मज़े से सब कुछ पढ़ जाते हैं और फैंटेसी में बुने जा रहे व्यंग्य की डिजाइन को लगातार समझ भी पाते हैं।’
व्यंग्यकार के लिए ज़रूरी है कि उसके पास सन्दर्भों की प्रचुरता हो। वह विभिन्न प्रसंगों को वर्णन के अनुकूल बनाकर अपने मन्तव्य को विस्तार प्रदान करे। सतीश अग्निहोत्री केवल पौराणिक व लोक प्रचलित सन्दर्भों से ही परिचित नहीं, वे आधुनिक विश्व की विभिन्न उल्लेखनीय घटनाओं का मर्म भी जानते हैं। पौराणिक वृत्तान्त में लेखक अपने निष्कर्षों के लिए स्पेस की युक्ति निकाल लेता है।
‘एक ब्रेन ड्रेन की कहानी’ के वाक्य हैं, ‘कार्तिकेय मेधावी थे, पर तिकड़मी नहीं। इस देश को रास्ता बनानेवाले इंजीनियरों की ज़रूरत नहीं है, केवल पैसा ख़र्च करनेवाले इंजीनियरों की है।’ यह व्यंग्य-संग्रह प्रमुदित करने के साथ प्रबुद्ध भी बनाता है, यही इसकी सार्थकता है। Hindi sahitya mein vyangya-lekhan ki anek pravidhiyan aur chhaviyan vidyman hain. Sabka lakshya ek hi hai—un prvrittiyon, vyaktiyon va sthitiyon ka vyanjak varnan jo vibhinn visangatiyon ke mul mein hain. Tahan tahan bhrashtachar vyangya-sangrah mein satish agnihotri ne samkalin samaj ki anek visangatiyon par prhar kiya hai. Phaintesi ka aashray lete hue lekhak ne rajniti ke garbh se upji vibhinn samasyaon ka vishleshan kiya hai. Gyan chaturvedi ke shabdon mein, ‘satish agnihotri ke is vyangya-sangrah ki adhikansh rachnaon mein ye vyangya-kaushal behad mechyorli barta gaya dikhta hai. Vyangya ke unke vishay to ne hain hi, unko pauranik tatha lok-galpon se jodne ki unki shaili bhi behad aakarshak hai. Aap maze-maze se sab kuchh padh jate hain aur phaintesi mein bune ja rahe vyangya ki dijain ko lagatar samajh bhi pate hain. ’
Vyangykar ke liye zaruri hai ki uske paas sandarbhon ki prachurta ho. Vah vibhinn prsangon ko varnan ke anukul banakar apne mantavya ko vistar prdan kare. Satish agnihotri keval pauranik va lok prachlit sandarbhon se hi parichit nahin, ve aadhunik vishv ki vibhinn ullekhniy ghatnaon ka marm bhi jante hain. Pauranik vrittant mein lekhak apne nishkarshon ke liye spes ki yukti nikal leta hai.
‘ek bren dren ki kahani’ ke vakya hain, ‘kartikey medhavi the, par tikadmi nahin. Is desh ko rasta bananevale injiniyron ki zarurat nahin hai, keval paisa kharch karnevale injiniyron ki hai. ’ ye vyangya-sangrah pramudit karne ke saath prbuddh bhi banata hai, yahi iski sarthakta hai.

Shipping & Return

Shipping cost is based on weight. Just add products to your cart and use the Shipping Calculator to see the shipping price.

We want you to be 100% satisfied with your purchase. Items can be returned or exchanged within 7 days of delivery.

Offers & Coupons

10% off your first order.
Use Code: FIRSTORDER

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products