Look Inside
Talab Mein Tairtee Lakadee
Talab Mein Tairtee Lakadee

Talab Mein Tairtee Lakadee

Regular price ₹ 295
Sale price ₹ 295 Regular price ₹ 295
Unit price
Save 0%
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Pay On Delivery Available

Rekhta Certified

7 Day Easy Return Policy

Talab Mein Tairtee Lakadee

Talab Mein Tairtee Lakadee

Cash-On-Delivery

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7-Days-Replacement

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description
तालाब में तैरती लकड़ी - प्रदीप बिहारी की कहानियाँ मिथिला के निम्न मध्यवर्गीय जीवन का जीवन्त दस्तावेज़ हैं। एक बार इन कहानियों की दुनिया में प्रवेश करने के बाद आप आसानी से बाहर नहीं निकल सकते। सहजता का सूत्र ग्रहण कर लेखक विविधता का सूत्र गढ़ता हुआ यहाँ दिखता है। इन कहानियों की दुनिया में कुछ भी दिव्य या भव्य जैसा नहीं है। मामूली जन और जीवन की मामूली चीज़ों से ये कहानियाँ हमें जोड़ती हैं। हमारी संवेदना को झकझोरती हैं। हमारे भीतर ख़ास तरह की तिलमिलाहट पैदा करती हैं। गहरी पीड़ा और टीस के धरातल पर इनकी रचना हुई है, जहाँ लेखक का दृष्टिकोण करुणा सम्पन्न मानवीयता से ओत-प्रोत है। मगर अवसाद और त्रासद स्थितियों से निकाल कर जीवन को हर साँस तक जीने की जद्दोजहद इन कहानियों की प्रेरणा है। यथार्थ के प्रति लेखक का नज़रिया एकदम साफ़ है। कथाकार पाठकों की अँगुली पकड़कर उसे सत्य की तरफ़ खींचकर ले जाना चाहता है। मामूली लोगों के जीवन के बीच मनुष्य विरोधी व्यवस्था है, जो मुँह फाड़कर उसे कच्चा चबाना चाहती है। उस मनुष्यता को बचाने की कथाकार की निर्भीक कोशिश इन कहानियों में दर्ज होती है। ये कहानियाँ आकार में छोटी है, पर हमारे अन्तःकरण के आयतन का विस्तार करती है। यहाँ आप कोरी भावुकता में नहीं फँसते अपितु यथार्थ के त्रासद दृश्यों को देखकर आपकी भावना छलनी हो सकती है। आपके भीतर थोड़ी और मनुष्यता जाग्रत होती है। स्मृति की सम्पन्नता इस काथाकार को मानवीय मर्म से भरती है। आंचलिक सुगन्ध से भरपूर करती है। वह हमें उस अंचल में ले जाती है, जहाँ निम्न से निम्नतर गिनती से बाहर, भव्यता के विरुद्ध आजीवन की गहरी पड़ताल है। यहाँ उस वर्ग का श्रम गन्ध और स्वेद-बूँद लेखक की क़लम की स्याही में प्रवेश कर जाता है। वह क़लम मानुस की दुर्धर्ष जिजीविषा को अपराजित और अक्षुण्ण रखने में सक्षम है।—अरुणाभ सौरभ talab mein tairti lakDiprdeep bihari ki kahaniyan mithila ke nimn madhyvargiy jivan ka jivant dastavez hain. ek baar in kahaniyon ki duniya mein prvesh karne ke baad aap asani se bahar nahin nikal sakte. sahajta ka sootr grhan kar lekhak vividhta ka sootr gaDhta hua yahan dikhta hai. in kahaniyon ki duniya mein kuchh bhi divya ya bhavya jaisa nahin hai. mamuli jan aur jivan ki mamuli chizon se ye kahaniyan hamein joDti hain. hamari sanvedna ko jhakjhorti hain. hamare bhitar khaas tarah ki tilamilahat paida karti hain. gahri piDa aur tees ke dharatal par inki rachna hui hai, jahan lekhak ka drishtikon karuna sampann manviyta se ot prot hai. magar avsad aur trasad sthitiyon se nikal kar jivan ko har saans tak jine ki jaddojhad in kahaniyon ki prerna hai. yatharth ke prati lekhak ka nazariya ekdam saaf hai. kathakar pathkon ki anguli pakaDkar use satya ki taraf khinchkar le jana chahta hai.
mamuli logon ke jivan ke beech manushya virodhi vyvastha hai, jo munh phaDkar use kachcha chabana chahti hai. us manushyta ko bachane ki kathakar ki nirbhik koshish in kahaniyon mein darj hoti hai. ye kahaniyan akar mein chhoti hai, par hamare antःkaran ke aytan ka vistar karti hai. yahan aap kori bhavukta mein nahin phansate apitu yatharth ke trasad drishyon ko dekhkar aapki bhavna chhalni ho sakti hai. aapke bhitar thoDi aur manushyta jagrat hoti hai. smriti ki sampannta is kathakar ko manviy marm se bharti hai. anchlik sugandh se bharpur karti hai. vah hamein us anchal mein le jati hai, jahan nimn se nimntar ginti se bahar, bhavyta ke viruddh ajivan ki gahri paDtal hai. yahan us varg ka shram gandh aur sved boond lekhak ki qalam ki syahi mein prvesh kar jata hai. vah qalam manus ki durdharsh jijivisha ko aprajit aur akshunn rakhne mein saksham hai. —arunabh saurabh

Shipping & Return
  • Over 27,000 Pin Codes Served: Nationwide Delivery Across India!

  • Upon confirmation of your order, items are dispatched within 24-48 hours on business days.

  • Certain books may be delayed due to alternative publishers handling shipping.

  • Typically, orders are delivered within 5-7 days.

  • Delivery partner will contact before delivery. Ensure reachable number; not answering may lead to return.

  • Study the book description and any available samples before finalizing your order.

  • To request a replacement, reach out to customer service via phone or chat.

  • Replacement will only be provided in cases where the wrong books were sent. No replacements will be offered if you dislike the book or its language.

Note: Saturday, Sunday and Public Holidays may result in a delay in dispatching your order by 1-2 days.

Offers & Coupons

Use code FIRSTORDER to get 10% off your first order.


Use code REKHTA10 to get a discount of 10% on your next Order.


You can also Earn up to 20% Cashback with POP Coins and redeem it in your future orders.

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products