BackBack

Table Lamp

Geet Chaturvedi

Rs. 750

“साहित्य को जीने की शक्ति देनेवाला माननेवाले गीत चतुर्वेदी का गद्य कई विधाओं को समेटता है : उसमें साहित्य, संगीत, कविता, कथा आदि पर विचार रखते हुए एक तरह का बौद्धिक वैभव और संवेदनात्मक लालित्य बहुत घने गुँथे हुए प्रकट होते हैं। उनमें पढ़ने, सोचने, सुनने-गुनने आदि सभी का सहज... Read More

HardboundHardbound
readsample_tab

“साहित्य को जीने की शक्ति देनेवाला माननेवाले गीत चतुर्वेदी का गद्य कई विधाओं को समेटता है : उसमें साहित्य, संगीत, कविता, कथा आदि पर विचार रखते हुए एक तरह का बौद्धिक वैभव और संवेदनात्मक लालित्य बहुत घने गुँथे हुए प्रकट होते हैं। उनमें पढ़ने, सोचने, सुनने-गुनने आदि सभी का सहज पर विकल विन्यास भी बहुत संश्लिष्ट होता है। एक लेखक के रूप में गीत की रुचि और आस्वादन का वितान काफ़ी फैला हुआ है। लेकिन उनमें इस बात का जतन बराबर है कि यह विविधता बिखर न जाए। उसे संयमित करने और फिर भी उसकी स्वाभाविक ऊर्जा को सजल रखने का हुनर उन्हें आता है।”
—अशोक वाजपेयी “sahitya ko jine ki shakti denevala mannevale git chaturvedi ka gadya kai vidhaon ko sametta hai : usmen sahitya, sangit, kavita, katha aadi par vichar rakhte hue ek tarah ka bauddhik vaibhav aur sanvednatmak lalitya bahut ghane gunthe hue prkat hote hain. Unmen padhne, sochne, sunne-gunne aadi sabhi ka sahaj par vikal vinyas bhi bahut sanshlisht hota hai. Ek lekhak ke rup mein git ki ruchi aur aasvadan ka vitan kafi phaila hua hai. Lekin unmen is baat ka jatan barabar hai ki ye vividhta bikhar na jaye. Use sanymit karne aur phir bhi uski svabhavik uurja ko sajal rakhne ka hunar unhen aata hai. ”—ashok vajpeyi

Description

“साहित्य को जीने की शक्ति देनेवाला माननेवाले गीत चतुर्वेदी का गद्य कई विधाओं को समेटता है : उसमें साहित्य, संगीत, कविता, कथा आदि पर विचार रखते हुए एक तरह का बौद्धिक वैभव और संवेदनात्मक लालित्य बहुत घने गुँथे हुए प्रकट होते हैं। उनमें पढ़ने, सोचने, सुनने-गुनने आदि सभी का सहज पर विकल विन्यास भी बहुत संश्लिष्ट होता है। एक लेखक के रूप में गीत की रुचि और आस्वादन का वितान काफ़ी फैला हुआ है। लेकिन उनमें इस बात का जतन बराबर है कि यह विविधता बिखर न जाए। उसे संयमित करने और फिर भी उसकी स्वाभाविक ऊर्जा को सजल रखने का हुनर उन्हें आता है।”
—अशोक वाजपेयी “sahitya ko jine ki shakti denevala mannevale git chaturvedi ka gadya kai vidhaon ko sametta hai : usmen sahitya, sangit, kavita, katha aadi par vichar rakhte hue ek tarah ka bauddhik vaibhav aur sanvednatmak lalitya bahut ghane gunthe hue prkat hote hain. Unmen padhne, sochne, sunne-gunne aadi sabhi ka sahaj par vikal vinyas bhi bahut sanshlisht hota hai. Ek lekhak ke rup mein git ki ruchi aur aasvadan ka vitan kafi phaila hua hai. Lekin unmen is baat ka jatan barabar hai ki ye vividhta bikhar na jaye. Use sanymit karne aur phir bhi uski svabhavik uurja ko sajal rakhne ka hunar unhen aata hai. ”—ashok vajpeyi

Additional Information
Book Type

Hardbound

Publisher
Language
ISBN
Pages
Publishing Year

Table Lamp

“साहित्य को जीने की शक्ति देनेवाला माननेवाले गीत चतुर्वेदी का गद्य कई विधाओं को समेटता है : उसमें साहित्य, संगीत, कविता, कथा आदि पर विचार रखते हुए एक तरह का बौद्धिक वैभव और संवेदनात्मक लालित्य बहुत घने गुँथे हुए प्रकट होते हैं। उनमें पढ़ने, सोचने, सुनने-गुनने आदि सभी का सहज पर विकल विन्यास भी बहुत संश्लिष्ट होता है। एक लेखक के रूप में गीत की रुचि और आस्वादन का वितान काफ़ी फैला हुआ है। लेकिन उनमें इस बात का जतन बराबर है कि यह विविधता बिखर न जाए। उसे संयमित करने और फिर भी उसकी स्वाभाविक ऊर्जा को सजल रखने का हुनर उन्हें आता है।”
—अशोक वाजपेयी “sahitya ko jine ki shakti denevala mannevale git chaturvedi ka gadya kai vidhaon ko sametta hai : usmen sahitya, sangit, kavita, katha aadi par vichar rakhte hue ek tarah ka bauddhik vaibhav aur sanvednatmak lalitya bahut ghane gunthe hue prkat hote hain. Unmen padhne, sochne, sunne-gunne aadi sabhi ka sahaj par vikal vinyas bhi bahut sanshlisht hota hai. Ek lekhak ke rup mein git ki ruchi aur aasvadan ka vitan kafi phaila hua hai. Lekin unmen is baat ka jatan barabar hai ki ye vividhta bikhar na jaye. Use sanymit karne aur phir bhi uski svabhavik uurja ko sajal rakhne ka hunar unhen aata hai. ”—ashok vajpeyi