Look Inside
Ta-Taa Professor
Ta-Taa Professor
Ta-Taa Professor
Ta-Taa Professor
Ta-Taa Professor
Ta-Taa Professor
Ta-Taa Professor
Ta-Taa Professor
Ta-Taa Professor
Ta-Taa Professor
Ta-Taa Professor
Ta-Taa Professor
Ta-Taa Professor
Ta-Taa Professor
Ta-Taa Professor
Ta-Taa Professor

Ta-Taa Professor

Regular price Rs. 70
Sale price Rs. 70 Regular price Rs. 75
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Pay On Delivery Available

Rekhta Certified

7 Day Easy Return Policy

Ta-Taa Professor

Ta-Taa Professor

Cash-On-Delivery

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7-Days-Replacement

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

स्वीकृत मानदंडों की दृष्टि से पूरी तरह तर्कसंगत और प्रासंगिक नहीं होने के बावजूद ‘ट-टा प्रोफ़ेसर’ हिन्दी उपन्यासों में विशिष्ट दर्जा रखता है। दरअसल दास्ताने अलिफ़ लैला की शैली में यह ऐसी उत्तर-आधुनिक कथा है, जिसके अन्दर कई-कई कथा निर्बाध गतिमान है, सीमित कलेवर में होने के बाद भी कहानी पूरे उपन्यास का रसास्वादन कराती है। ‘ट-टा प्रोफ़ेसर’ एक पात्र की ही नहीं, एक कहानी की भी कहानी है। ऐसी कहानी जिसका आदि और अन्त, लेखक के आदि और अन्त के साथ होता है।
प्रेम और काम जैसे अति संवेदनशील विषयों को केन्द्र में रखकर लिखा गया यह उपन्यास मज़ाक़ को भी त्रासदी में तब्दील कर देता है। कहीं ‘कॉमिक’ कामुकता में परिवर्तित होता नज़र आता है, लेकिन जीवन और मर्म की धड़कन निरन्तर सुनाई पड़ती रहती है। सत्य, कल्पना और अनुभूति की प्रामाणिकता और भाषा के सहज प्रवाह के चलते कथा पाठक को आद्यन्त बाँधे रखती है। अपने विलक्षण लेखन के नाते जाने जानेवाले मनोहर श्याम जोशी ने एक सामान्य प्रोफ़ेसर को केन्द्र में रखकर रचित इस कृति में अपने कथा-कौशल का अद्भुत प्रमाण दिया है। Svikrit mandandon ki drishti se puri tarah tarksangat aur prasangik nahin hone ke bavjud ‘ta-ta profesar’ hindi upanyason mein vishisht darja rakhta hai. Darasal dastane alif laila ki shaili mein ye aisi uttar-adhunik katha hai, jiske andar kai-kai katha nirbadh gatiman hai, simit kalevar mein hone ke baad bhi kahani pure upanyas ka rasasvadan karati hai. ‘ta-ta profesar’ ek patr ki hi nahin, ek kahani ki bhi kahani hai. Aisi kahani jiska aadi aur ant, lekhak ke aadi aur ant ke saath hota hai. Prem aur kaam jaise ati sanvedanshil vishyon ko kendr mein rakhkar likha gaya ye upanyas mazaq ko bhi trasdi mein tabdil kar deta hai. Kahin ‘kaumik’ kamukta mein parivartit hota nazar aata hai, lekin jivan aur marm ki dhadkan nirantar sunai padti rahti hai. Satya, kalpna aur anubhuti ki pramanikta aur bhasha ke sahaj prvah ke chalte katha pathak ko aadyant bandhe rakhti hai. Apne vilakshan lekhan ke nate jane janevale manohar shyam joshi ne ek samanya profesar ko kendr mein rakhkar rachit is kriti mein apne katha-kaushal ka adbhut prman diya hai.

Shipping & Return

Contact our customer service in case of return or replacement. Enjoy our hassle-free 7-day replacement policy.

Offers & Coupons

10% off your first order.
Use Code: FIRSTORDER

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products