Look Inside
Swapna Aur Yatharth : Azadi Ki Aadhi Sadi
Swapna Aur Yatharth : Azadi Ki Aadhi Sadi
Swapna Aur Yatharth : Azadi Ki Aadhi Sadi
Swapna Aur Yatharth : Azadi Ki Aadhi Sadi

Swapna Aur Yatharth : Azadi Ki Aadhi Sadi

Regular price Rs. 207
Sale price Rs. 207 Regular price Rs. 223
Unit price
Save 6%
6% off
Tax included.

Size guide

Pay On Delivery Available

Rekhta Certified

7 Day Easy Return Policy

Swapna Aur Yatharth : Azadi Ki Aadhi Sadi

Swapna Aur Yatharth : Azadi Ki Aadhi Sadi

Cash-On-Delivery

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7-Days-Replacement

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

पूरनचन्द्र जोशी की यह कृति ‘स्वप्न और यथार्थ : आज़ादी की आधी सदी’ सारगर्भित आठ निबन्धों और दो संवादों का एक विचारोत्तेजक भूमिका के साथ तैयार किया गया अत्यन्त महत्त्वपूर्ण संग्रह है। भारतीय इतिहास के इस निर्णायक कालखंड का समाज–विज्ञान की बहुआयामी और बहुमुखी—ऐतिहासिक, तुलनात्मक और मानकीय—दृष्टियों से अवलोकन, विवेचन और मूल्यांकन ही इन निबन्धों की विशेषता है। वैचारिकता और संवेदना के मेल में ही इन निबन्धों की ताज़गी और जीवन्तता है।
यह संग्रह अर्थ, समाज, राजनीति, संस्कृति और इतिहास के विद्वानों के लिए इस महत्त्वपूर्ण कालखंड पर नई दृष्टि, व्याख्याएँ और नए निष्कर्ष प्रस्तुत तो करता ही है; सम्भावनाओं और अवरोधों, उपलब्धियों और अपूर्णताओं के द्वन्द्व की इस आधी सदी की विस्तार और गहराई में खोज के नए क्षितिज के उजागर के साथ यह देश की, विशेषकर हिन्दी प्रदेश की, वर्तमान दुविधाग्रस्त स्थिति और दिशाहीन भविष्य से चिन्तित विचारशील नागरिक समुदाय को भी नई सोच, नई चेतना और नई दिशा के संघर्ष में भागीदार बनाता है।
उपनिवेशवाद से स्वायत्त राष्ट्रवाद में संक्रमण की यह आधी सदी क्यों विशाल जन–साधारण के लिए स्वप्न–भंग बनती गई है और उसे ‘चरैवेति चरैवेति’ की चुनौती में बदलने की वैचारिक दिशा और रणनीति क्या होगी, इस खोज में ही इस संकलन की सार्थकता है।
संक्रमण के इस दौर में प्रभुत्व के आकांक्षी नव मध्यमवर्ग और सच्चे ‘स्वराज’ से वंचित जन–साधारण के बीच अलगाव और टकराव जहाँ इस त्रासदी के मुख्य कारण हैं, वहाँ प्रबुद्ध बुद्धिजीवी समुदाय और सचेत जनसाधारण के बीच संवाद द्वारा ही इस त्रासदी से मुक्ति सम्भव है। जोशी जी के मत में यही नवजागरण और स्वाधीनता संघर्ष की असली विरासत है और आज के दौर का आग्रह भी। इस दृष्टि से स्वप्न और यथार्थ एक शोध–ग्रन्थ ही नहीं, जन–मुक्ति का घोषणा–पत्र भी है। Puranchandr joshi ki ye kriti ‘svapn aur yatharth : aazadi ki aadhi sadi’ sargarbhit aath nibandhon aur do sanvadon ka ek vicharottejak bhumika ke saath taiyar kiya gaya atyant mahattvpurn sangrah hai. Bhartiy itihas ke is nirnayak kalkhand ka samaj–vigyan ki bahuayami aur bahumukhi—aitihasik, tulnatmak aur mankiy—drishtiyon se avlokan, vivechan aur mulyankan hi in nibandhon ki visheshta hai. Vaicharikta aur sanvedna ke mel mein hi in nibandhon ki tazgi aur jivantta hai. Ye sangrah arth, samaj, rajniti, sanskriti aur itihas ke vidvanon ke liye is mahattvpurn kalkhand par nai drishti, vyakhyayen aur ne nishkarsh prastut to karta hi hai; sambhavnaon aur avrodhon, uplabdhiyon aur apurntaon ke dvandv ki is aadhi sadi ki vistar aur gahrai mein khoj ke ne kshitij ke ujagar ke saath ye desh ki, visheshkar hindi prdesh ki, vartman duvidhagrast sthiti aur dishahin bhavishya se chintit vicharshil nagrik samuday ko bhi nai soch, nai chetna aur nai disha ke sangharsh mein bhagidar banata hai.
Upaniveshvad se svayatt rashtrvad mein sankrman ki ye aadhi sadi kyon vishal jan–sadharan ke liye svapn–bhang banti gai hai aur use ‘charaiveti charaiveti’ ki chunauti mein badalne ki vaicharik disha aur ranniti kya hogi, is khoj mein hi is sanklan ki sarthakta hai.
Sankrman ke is daur mein prbhutv ke aakankshi nav madhyamvarg aur sachche ‘svraj’ se vanchit jan–sadharan ke bich algav aur takrav jahan is trasdi ke mukhya karan hain, vahan prbuddh buddhijivi samuday aur sachet jansadharan ke bich sanvad dvara hi is trasdi se mukti sambhav hai. Joshi ji ke mat mein yahi navjagran aur svadhinta sangharsh ki asli virasat hai aur aaj ke daur ka aagrah bhi. Is drishti se svapn aur yatharth ek shodh–granth hi nahin, jan–mukti ka ghoshna–patr bhi hai.

Shipping & Return

Contact our customer service in case of return or replacement. Enjoy our hassle-free 7-day replacement policy.

Offers & Coupons

Use code FIRSTORDER to get 10% off your first order.


Use code REKHTA10 to get a discount of 10% on your next Order.


You can also Earn up to 20% Cashback with POP Coins and redeem it in your future orders.

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products