Look Inside
Swaminathan : Ek Jeewani
Swaminathan : Ek Jeewani
Swaminathan : Ek Jeewani
Swaminathan : Ek Jeewani

Swaminathan : Ek Jeewani

Regular price Rs. 553
Sale price Rs. 553 Regular price Rs. 595
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Pay On Delivery Available

Rekhta Certified

7 Day Easy Return Policy

Swaminathan : Ek Jeewani

Swaminathan : Ek Jeewani

Cash-On-Delivery

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7-Days-Replacement

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

अप्रतिम व्यक्ति और चित्रकार जगदीश स्वामीनाथन को यह दुनिया छोड़े हुए कोई पच्चीस वर्ष होने को आए, पर दुनिया ने उनको नहीं छोड़ा है। छोड़ेगी भी नहीं। उनका व्यक्तित्व और कामकाज है ही ऐसा कि जब-जब भारतीय कला की बात होगी, बीसवीं शती की कला की विशेष रूप से, वे याद किए जाएँगे। स्वामीनाथन ने बड़ी गम्भीरता से, साहस से, कई मोर्चों पर लड़ाई लड़ी है, इस बात की कि कला-रचना के साथ-साथ, कला-चिन्तन, कला-विमर्श, बेहद महत्त्व के हैं, कि बिना प्रश्नांकनों, विचारों, और बहसों के हम वह रचनात्मक वातावरण बना ही नहीं पाएँगे, जिसमें 'रचना' मात्र के प्रति उत्तेजना हो, अनुसन्धानी भाव हो, और हो वह दृष्टि जो बहुत कुछ को सम्यक् ढंग से परख सकती हो। एक कलाकार और कला चिन्तक तथा अत्यन्त जि़न्दादिल, सरस, व्यंग्य-विनोदी, हँसी-ठट्ठा करनेवाले, सबके बीच जानेवाले, सबके साथ रहनेवाले, सबका साथ चाहनेवाले व्यक्ति की जीवनी लिखने में, स्वामी के इन दोनों रूपों को साधने में, एक बड़ी चुनौती पेश आनी ही थी—क्योंकि दोनों एक-दूसरे में गुँथे हुए भी तो हैं। और उन्हें आसपास रखना ही था—दोनों रूपों को। तो, यथासमय, यथास्थान, उनके इन दोनों रूपों को विन्यस्त किया गया है। और उनके जीवन के ज़रूरी तथ्यों के साथ, उनके विचारों के फलित-प्रतिफलित होने की कथा भी कही गई है। यह स्वामी की पहली जीवनी तो है ही, उन पर आनेवाली पहली पुस्तक भी है। जीवनी को किसी क्रमागत रूप में नहीं लिखा गया—वैसा करना असम्भव भी था, स्वामी के अपने व्यक्तित्व और अपनी ही जीवन शैली के कारण—वे शायद उस रूप में जीवनी का लिखा जाना पसन्द भी न करते। सो, एक 'औपन्यासिक' ढंग से, कथा कहनेवाले अन्दाज़ में, उनके जीवन की बहुत-सी बातें कभी सीधे, कभी 'फ़्लैश बैक' में, कभी जो जहाँ उचित लगे जगह बना ले, वाली शैली में दर्ज हुई हैं। उम्मीद है, जीवनी सुधी पाठकों को रुचिकर लगेगी, और उपयोगी भी।
—प्रस्तावना से
''जगदीश स्वामीनाथन मूलत: तमिलभाषी होते हुए भी उत्तर भारत में पले-बसे एक मूर्धन्य भारतीय चित्रकार थे जिन्होंने चित्र बनाए, हिन्दी में कविताएँ लिखीं, अंग्रेज़ी में कलालोचना लिखी। वे अपने समय के लगभग सबसे प्रश्नवाची कला-चिन्तक थे जिन्होंने कला के बारे में मूल प्रश्न उठाए और सामयिक प्रश्न भी। भारत भवन में उन्होंने 'रूपंकर' कला-संग्रहालय की स्थापना और संचालन किया और समकालीनता को रेडिकल ढंग से पुनर्भाषित किया जिसमें सिर्फ़ शहराती ही समकालीन नहीं थे बल्कि लोक और आदिवासी कलाकार भी उतने ही समकालीन ठहराए गए। स्वामीनाथन का जीवन और कला एक-दूसरे से इस क़दर मिले-जुले थे कि एक को दूसरे के बिना समझा नहीं जा सकता। कवि-कलाप्रेमी प्रयाग शुक्ल ने रज़ा फ़ाउंडेशन के एक विशेष प्रोजेक्ट के अन्तर्गत यह जीवनी लिखी है जिसे प्रस्तुत करते हुए हमें प्रसन्नता है।"
—अशोक वाजपेयी Aprtim vyakti aur chitrkar jagdish svaminathan ko ye duniya chhode hue koi pachchis varsh hone ko aae, par duniya ne unko nahin chhoda hai. Chhodegi bhi nahin. Unka vyaktitv aur kamkaj hai hi aisa ki jab-jab bhartiy kala ki baat hogi, bisvin shati ki kala ki vishesh rup se, ve yaad kiye jayenge. Svaminathan ne badi gambhirta se, sahas se, kai morchon par ladai ladi hai, is baat ki ki kala-rachna ke sath-sath, kala-chintan, kala-vimarsh, behad mahattv ke hain, ki bina prashnanknon, vicharon, aur bahson ke hum vah rachnatmak vatavran bana hi nahin payenge, jismen rachna matr ke prati uttejna ho, anusandhani bhav ho, aur ho vah drishti jo bahut kuchh ko samyak dhang se parakh sakti ho. Ek kalakar aur kala chintak tatha atyant jindadil, saras, vyangya-vinodi, hansi-thattha karnevale, sabke bich janevale, sabke saath rahnevale, sabka saath chahnevale vyakti ki jivni likhne mein, svami ke in donon rupon ko sadhne mein, ek badi chunauti pesh aani hi thi—kyonki donon ek-dusre mein gunthe hue bhi to hain. Aur unhen aaspas rakhna hi tha—donon rupon ko. To, yathasmay, yathasthan, unke in donon rupon ko vinyast kiya gaya hai. Aur unke jivan ke zaruri tathyon ke saath, unke vicharon ke phalit-pratiphlit hone ki katha bhi kahi gai hai. Ye svami ki pahli jivni to hai hi, un par aanevali pahli pustak bhi hai. Jivni ko kisi krmagat rup mein nahin likha gaya—vaisa karna asambhav bhi tha, svami ke apne vyaktitv aur apni hi jivan shaili ke karan—ve shayad us rup mein jivni ka likha jana pasand bhi na karte. So, ek aupanyasik dhang se, katha kahnevale andaz mein, unke jivan ki bahut-si baten kabhi sidhe, kabhi flaish baik mein, kabhi jo jahan uchit lage jagah bana le, vali shaili mein darj hui hain. Ummid hai, jivni sudhi pathkon ko ruchikar lagegi, aur upyogi bhi. —prastavna se
Jagdish svaminathan mulat: tamilbhashi hote hue bhi uttar bharat mein pale-base ek murdhanya bhartiy chitrkar the jinhonne chitr banaye, hindi mein kavitayen likhin, angrezi mein kalalochna likhi. Ve apne samay ke lagbhag sabse prashnvachi kala-chintak the jinhonne kala ke bare mein mul prashn uthaye aur samyik prashn bhi. Bharat bhavan mein unhonne rupankar kala-sangrhalay ki sthapna aur sanchalan kiya aur samkalinta ko redikal dhang se punarbhashit kiya jismen sirf shahrati hi samkalin nahin the balki lok aur aadivasi kalakar bhi utne hi samkalin thahraye ge. Svaminathan ka jivan aur kala ek-dusre se is qadar mile-jule the ki ek ko dusre ke bina samjha nahin ja sakta. Kavi-kalapremi pryag shukl ne raza faundeshan ke ek vishesh projekt ke antargat ye jivni likhi hai jise prastut karte hue hamein prsannta hai. "
—ashok vajpeyi

Shipping & Return

Contact our customer service in case of return or replacement. Enjoy our hassle-free 7-day replacement policy.

Offers & Coupons

Use code FIRSTORDER to get 10% off your first order.


Use code REKHTA10 to get a discount of 10% on your next Order.


You can also Earn up to 20% Cashback with POP Coins and redeem it in your future orders.

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products