BackBack

Surbhi Suman

Ashok Sawhney

Rs. 595.00

सुरभि सुमनखुशबू-ए-चमन कुछ इस तरह से ज़िन्दगी को मैंने आसां कर लियाकिसी से माफ़ी मांग ली, किसी को माफ़ कर दिया I अशोक साहनी ने अपनी निष्ठा और परिश्रम के आधार पर सुरभि सुमन शीर्षक से एक संकलन तैयार किया है जिसमें उन्होंने उर्दू भाषा के लगभग सभी उत्कृष्ट शायरों... Read More

BlackBlack
Description
सुरभि सुमनखुशबू-ए-चमन कुछ इस तरह से ज़िन्दगी को मैंने आसां कर लियाकिसी से माफ़ी मांग ली, किसी को माफ़ कर दिया I अशोक साहनी ने अपनी निष्ठा और परिश्रम के आधार पर सुरभि सुमन शीर्षक से एक संकलन तैयार किया है जिसमें उन्होंने उर्दू भाषा के लगभग सभी उत्कृष्ट शायरों की शायरी का देवनागरी लिपी में प्रकाशन किया है I उन्होंने उर्दू के कठिनशब्दों के हिंदी मायने भी दिए हैं I श्री साहनी के इस साहित्यिक अनुष्ठान से जहाँ एक ओर हिंदी- भाषियों को उर्दू शायरी पढ़ने का अवसर उपलब्ध हुआ है, वहीं दूसरी ओर उनका यह प्रयास हमारी गंगा-जमुना संस्कृति को सुदृढ़ बनाने में योगदान देगा I